Tel: 0542 - 2393981-87 | Mail: ajvaranasi@gmail.com


हिंदुस्तान पेट्रोलियम अब होगा ओएनजीसीका हिस्सा

नयी दिल्ली। तेल एवं प्राकृतिक गैस निगम (ओएनजीसी) ने सार्वजनिक तेल विपणन कंपनी हिन्दुस्तान पेट्रोलियम कार्पोरेशन लिमिटेड (एचपीसीएल) में सरकार की 51.11 प्रतिशत हिस्सेदारी 36,915 करोड़ रुपये में अधिग्रहित करने का आज करार किया और बताया कि यह सौदा इसी महीने पूरा हो जायेगा। ओएनजीसी ने इस संबंध में जारी बयान में कहा कि उसके निदेशक मंडल की शुक्रवार को हुई बैठक में इस सौदे को मंजूरी दी गयी थी। इसके तहत एचपीसीएल के 51.11 प्रतिशत शेयर खरीद के लिए सरकार के साथ शनिवार को करार किया गया। इसी महीने में यह सौदा पूरा हो जायेगा।  इस हिस्सेदारी के लिए ओएनजीसी सरकार को 36,915 करोड़ रुपये का नकद भुगतान करेगी और 77,88,45,376 शेयर ओएनजीसी को हस्तांतरित कर दिये जायेंगे। ओएनजीसी प्रति शेयर 473.97 रुपये का भुगतान करेगी। ओएनजीसी ने कहा कि वित्त मंत्री अरुण जेतली ने चालू वित्त वर्ष के बजट भाषण में देश में एक बड़ी तेल कंपनी बनाने का उल्लेख किया था। यह अधिग्रहण उनके बजट की घोषणा के अनुरूप की जा रही है। एचपीसीएल एक सूचीबद्ध कंपनी है। भारतीय प्रतिभूति एवं विनिमय बोर्ड (सेबी) ने एचपीसीएल और ओएनजीसी दोनों के सरकारी कंपनी होने के मद्देनजर लिस्टिंग ऑब्लिगेशेंस एंड डिस्कोलजर रिक्वायरमेंट्स(एलओडीआर) और कंपनी कानून 2013 के तहत कई मंजूरियों से छूट दे दी है। सेबी ने ओएनजीसी को एलओडीआर के नियमन 23 के आवेदन से भी छूट दी है। इस सौदे को ओपन ऑफर जारी करने से छूट दी गयी है। मंत्रिमंडल की आर्थिक मामलों की समिति ने पिछले वर्ष 19 जुलाई को इस सौदे को सैद्धांतिक मंजूरी दी थी। अब इसके लिए किसी नियामक मंजूरी की आवश्यकता शेष नहीं है। एचपीसीएल ने वर्ष 2016-17 में कुल 2,13,489 करोड़ रुपये का कारोबार किया था और 6,502 करोड़ रुपये का लाभ कमाया था। फॉर्चुन ग्लोबल 500 कंपनियों की सूची में यह 384वें पायदान पर है और 250 ग्लोबल एनर्जी कंपनियों की सूची में 48वें स्थान पर है। देश के पेट्रोलियम उत्पाद बाजार में इसकी हिस्सेदारी 21 प्रतिशत है।
जगुआरने उतारा रेंज रोवर वेलार, कीमतें ७८.८३ लाखसे शुरू

Image result for jaguar carsनयी दिल्ली। टाटा मोटर्स की लग्जरी वाहन बनाने वाली इकाई जगुआर लैंड रोवर ने स्पोट्र्स यूटिलिटी व्हीकल रेंज रोवर वेलार को देश में पेश करने की घोषणा की। इसकी दिल्ली में एक्स-शोरूम कीमत 78.83 लाख रुपये से 1.38 करोड़ रुपये के बीच है। कंपनी ने कहा कि वह इस वाहन की डिलिवरी एक सप्ताह से 10 दिन के बीच शुरू कर देगी। जगुआर लैंड रोवर इंडिया के अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक रोहित सुरी ने बताया, ''हमें रेंज रोवर वेलार के लिए शानदार प्रतिक्रियाएं मिली हैं। हम मार्च तक के लिए इसे बेच चुके हैं।ÓÓ हालांकि उन्होंने अब तक हुई बुकिंग का आंकड़ा नहीं बताया। कंपनी ने पिछले साल दिसंबर में इस एसयूवी की बुकिंग शुरू की थी। यह वाहन भारत में पूरी तरह से आयातित इकाई की तरह बेची जाएगी। यह वाहन तीन इंजन विकल्पों 2-लीटर पेट्रोल, 2-लीटर डीजल और 3-लीटर डीजल में उपलब्ध है। दो-लीटर इंजन विकल्पों में यह 78.83 लाख रुपये तथा 91.86 लाख रुपये में उपलब्ध है। 3-लीटर डीजल संस्करण की कीमत 1.1-1.38 करोड़ रुपये के बीच है। इस वाहन में 'टॉर्क ऑन डिमांड ऑल व्हील ड्राइवÓ फीचर दिया गया है।

271 करोड़के घाटेके बाद जियो ने कमाया पहला मुनाफा

नयी दिल्ली। रिलायंस जियो ने पहली बार शुद्ध लाभ कमाया है। दिसंबर में समाप्त तिमाही में कंपनी ने 504 करोड़ रुपए का शुद्ध लाभ कमाया है। यह कंपनी के वाणिज्यिक परिचालन की दूसरी तिमाही है। कंपनी को सितंबर, 2017 में समाप्त तिमाही में 271 करोड़ रुपए का घाटा हुआ था। दिसंबर तिमाही में कंपनी की परिचालन आय इससे पिछली तिमाही की तुलना में 11.9 प्रतिशत बढ़कर 6,879 करोड़ रुपए पर पहुंच गई। ब्याज, कर, मूल्यह्रास और परिशोधन आदि प्रावधानों से पहले कंपनी का लाभ इससे पिछली तिमाही की तुलना में 82.1 प्रतिशत बढ़कर 2,628 करोड़ रुपए रहा। तिमाही दर तिमाही आधार पर कंपनी का परिचालन माॢजन सुधरकर 38.2 प्रतिशत हो गया। कंपनी ने बयान में कहा है कि 31 दिसंबर, 2017 तक उसके ग्राहकों की संख्या 16.01 करोड़ थी।
 रिलायंस इंडस्ट्रीज के चेयरमैन एवं प्रबंध निदेशक मुकेश अंबानी ने कहा, ''जियो के मजबूत वित्तीय परिणाम उसके कारोबार की ठोस बुनियाद, उल्लेखनीय दक्षता और सही रणनीतिक पहलों को दर्शाते हैं। जियो ने दिखाया है कि वह अपने मजबूत वित्तीय प्रदर्शन को जारी रख सकती है।
अंबानी ने कहा कि कंपनी नए नवोन्मेषी उत्पादों को आगे बढ़ाने को प्रतिबद्ध है।   रिलायंस जियो बेहद प्रतिस्पर्धी दूरसंचार बाजार में सितंबर, 2016 में उतरी थी। शुरुआती छह महीने तक कंपनी ने मुफ्त वॉयस और डेटा सेवा उपलब्ध कराई थी। इस रणनीति से कंपनी करोड़ों ग्राहक जोड़ पाई।