Tel: 0542 - 2393981-87 | Mail: ajvaranasi@gmail.com


भारतमें हो रहा आर्थिक सुधार-आईएमएफ

वॉशिंगटन। अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) का कहना है कि भारत में आगामी चुनाव के बावजूद आर्थिक वृद्धि और सुधार कार्यक्रम जारी रहने चाहिए तथा श्रम सुधारों एवं संगठित रोजगार क्षेत्र में महिलाओं की भागीदारी बढ़ाने पर विशेष ध्यान दिया जाना चाहिए। गौरतलब है कि आगामी एक साल के दौरान कर्नाटक, मिजोरम, छत्तीसगढ़, मध्य प्रदेश और राजस्थान में विधानसभा चुनाव और 2019 का आम चुनाव होने हैं। आईएमएफ के एशिया और प्रशांत विभाग के निदेशक चांगयोंग र्ही ने कहा, हम यह नहीं कह रहे हैं कि चुनावों के चलते सुधार कार्यक्रमों की गति धीमी होगी बल्कि हमारा कहना हैं कि चुनाव के बावजूद सुधार कार्यक्रमों और आर्थिक वृद्धि में तेजी का जोर बना रहना चाहिए। उन्होंने कल कहा कि नोटबंदी और माल एवं सेवा कर (जीएसटी) लागू करने के कारण थोड़े झटको के बाद आर्थिक गति में तेजी लौट आई है और देश की वृद्धि  चालू वित्त वर्ष में 7.4 प्रतिशत रहने की संभावना है। आईएमएफ के एशिया एवं प्रशांत विभाग के उप-निदेशक केन कांग ने कहा कि जीएसटी एक प्रमुख सुधार है। पिछले कुछ वर्षों में भारत में सुधार कार्यक्रमों में तेजी आई है, जीएसटी से देश में वस्तुओं एवं सेवाओं को एक जगह से दूसरी जगह पहुंचाने में आसानी होगी और इससे एक साझा राष्ट्रीय बाजार विकसित करने में एवं रोजगार तथा वृद्धि को बढ़ावा देने में मदद मिलेगी। कांग ने कहा कि भारत को श्रम सुधारों, संगठित रोजगार क्षेत्र में महिलाओं की भागीदारी बढ़ाने, कारोबारी माहौल में सुधार और जटिल नियमों को आसान बनाने पर ध्यान देना चाहिए। मुद्रा कोष को उम्मीद है कि 'सुधार कार्यक्रम जारी रहेंगे।Ó 
पेट्रोलियम उत्पादोंको जीएसटी के तहत लानेकी जरूरत-प्रधान

पटना। पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने पेट्रोलियम उत्पादों को माल एवं सेवा कर (जीएसटी) के तहत लाने की वकालत करते हुए कहा कि इससे आम लोगों को वैश्विक स्तर पर कच्चे तेल की कीमतें बढऩे की स्थिति में ईंधन कीमतों में वृद्धि से राहत मिलेगी। उन्होंने कहा कि केंद्र और राज्य सरकारों ने इस बारे में अपना विचार बनाना शुरू कर दिया है। जीएसटी को पिछले साल जुलाई में लागू किया गया है। फिलहाल पेट्रोलियम उत्पादों को इसके दायरे से बाहर रखा गया है। प्रधान ने कहा, ''सीरिया में तनाव और अमेरिका द्वारा ईरान पर नए प्रतिबंध लगाने की धमकी से अंतर्राष्ट्रीय बाजार में पेट्रोलियम उत्पाद पिछले चार साल के सर्वकालिक उच्चस्तर पर पहुंच गए हैं।Ó मंत्री ने कहा, ''भारत सरकार इसको लेकर चिंतित है। पेट्रोलियम उत्पादों को जीएसटी के तहत लाया जाना चाहिए, लेकिन चूंकि यह जीएसटी क्रियान्वयन का पहला साल है , राज्य इसको लेकर चिंतित हैं और अपनी आय को लेकर असमंजस में हैं।ÓÓ
इस मौके पर बिहार के उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी, राज्य के श्रम संसाधन मंत्री विजय कुमार सिन्हा और बिहार भाजपा के उपाध्यक्ष देवेश कुमार भी मौजूद थे। 
दिलजीत दोसांज बने एफबीबी इंडिया के ब्रांड एंबेसडर
फ्यूचर ग्रुप के फैशन ब्रांड एफबीबी ने बहुमुखी प्रतिभा के धनी डायनेमिक दिलजीत दोसांज को अपना ब्रांड एंबेसडर बनाया है। वे एंटरटेनमेंट की दुनिया में एक गायक, अभिनेता, होस्ट और पॉपुलर फेस के रूप में जाने जाते हैं। दिलजीत एफबीबी के पुरुषों की फैशन श्रृंखला में केजुअल, स्पोट्र्स, एथनिक, फॉर्मल और पार्टी कलेक्शन को प्रमोट करेंगे। एफबीबी के सीओओ राजेश सेठ ने कहा, दिलजीत आज के युवाओं का नेतृत्व करते हैं और एफबीबी के टारगेट ऑडियंस के साथ सहजता से जुड़ते है। उनसे जुड़कर हम अपनी लोकप्रियता को बढ़ाने के साथ-साथ पूरे उत्तरी क्षेत्र में अपनी पहुंच को मजबूत करना चाहते हैं।
दिलजीत दोसांज कुछ प्रमुख ब्राण्डस् जैसे डीजे एंड सी, बफेलो, नाइटहुड, स्टूडियो एनएवाईएक्स और शतरंज को बढ़ावा देंगे।