Tel: 0542 - 2393981-87 | Mail: ajvaranasi@gmail.com


साखमें सुधारसे विदेशी कर्ज सस्ता होगा

नयी दिल्ली। भारतीय स्टेट बैंक के चेयरमैन रजनीश कुमार ने रेटिंग एजेंसी मूडीज की तरफ से साख बढ़ाए जाने का स्वागत करते हुए इसे सकारात्मक कदम बताया है। उन्होंने कहा है कि इससे कंपनियों के साथ-साथ उनके बैंक के लिए विदेशी कर्ज सस्ता होगा। अमरीकी रेटिंग एजेंसी मूडीज ने 13 साल बाद बैंक की रेटिंग में सुधार करते हुए इसे एक पायदान ऊंचा कर स्थिर परिदृश्य के साथ बीएए2 कर दिया है। कुमार के अनुसार यह कदम बताता है कि दुनिया किस रूप से भारत को देख रही है। उन्होंने कहा कि यह बहुप्रीतिक्षित कदम है जो विभिन्न क्षेत्रों में किए गए सुधारों का परिणाम है। उन्होंने कहा, ''इसके परिणामस्वरूप विदेशी कर्ज की लागत स्वत: कम होगी जो स्वयं में भारत के लिए बड़ा लाभकारी है। दो दिवसीय एशियन बैंकर्स एसोसएशिन शिखर सम्मेलन के दौरान संवाददाताओं से अलग से बातचीत में कुमार ने कहा, ''उन्हें यह भी उम्मीद है कि एस.बी.आई. की रेटिंग ऊपर जाएगी जिसका कारण उच्च सरकारी साख है।ÓÓ इस कार्यक्रम की मेजबानी एस.बी.आई. ने की है। उन्होंने कहा कि जब भी एस.बी.आई. अगली समीक्षा होती है, हमें रेटिंग बढऩे की पूरी उम्मीद है।
सब्जियोंका न्यूनतम समर्थन मूल्य जारी करेंगे खट्टर

नयी दिल्ली। हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने कहा कि प्रदेश सरकार की सब्जियों के लिए न्यूनतम समर्थन मूल्य (एम.एस.पी.) को लागू करने की योजना है ताकि इस बात को सुनिश्चित किया जा सके कि किसानों को अपने उत्पाद का लाभकारी मूल्य मिले। खट्टर के हवाले से हरियाणा सरकार की एक विज्ञप्ति में कहा गया है कि उन्होंने यह बात यहां 'इंडिया टुडे कनक्लेवÓ में सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी द्वारा समोवशी विकास एवं पर्यटन विकास श्रेणी में 'स्टेट आफ स्टेट्स अवार्डÓ प्राप्त करने के बाद कही। विज्ञप्ति में मुख्यमंत्री के हवाले से कहा गया है कि उनकी सरकार समोवशी विकास के मॉडल के रूप में, राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आर.एस.एस.) के नेता पंडित दीन दयाल उपाध्याय द्वारा प्रतिपादित 'अंत्योदयÓ के दर्शन, का अनुपालन कर रही है क्योंकि इस दर्शन में कहा गया है कि सामाजिक कल्याणकारी योजनाओं का लाभ समाज के आखिरी व्यक्ति तक पहुंचनी चाहिए। मुख्यमंत्री ने कहा, ''सत्ता में अपने दम पर पहली बार आने वाली पार्टी के नए मुख्यमंत्री को वास्तव में काम करने के लिए केवल तीन वर्ष मिले। पहले के दो वर्ष पिछली सरकार की गलतियों को दुरुस्त करने में लग गए। इसलिए वास्तव में मेरी सरकार ने केवल एक वर्ष काम कर इतना कुछ हासिल किया है। आप अंदाजा लगा सकते हैं कि अगले दो वर्षो के बाद हरियाणा कैसा होगा।Ó प्रदेश के चहुंमुखी विकास को सुनिश्चित करने के लिए सभी राजनीतिक दायरे से ऊपर उठने की आवश्यकता पर जोर देते हुए मुख्यमंत्री ने दावा किया कि उन्होंने एकसमान विकास को सुनिश्चित करने के लिए प्रदेश के सभी 90 विधानसभाओं का दौरा किया था। उन्होंने कहा कि सरकार ने प्रदेश में 14,000 तालाबों को संरक्षित करने और उनका प्रबंधन करने के लिए एक तालाब प्रबंधन प्राधिकार का गठन किया है ताकि इनका इस्तेमाल सिंचाई के लिए किया जा सके।

रेटिंगमें सुधार भारत की वृद्धिका परिचायक

niti aayog rajiv kumar के लिए चित्र परिणाम
नयी दिल्ली। नीति आयोग के चेयरमैन राजीव कुमार ने मूडीज द्वारा रेटिंग बढ़ाए जाने को देश की वृद्धि की प्रतिछाया करार दिया। उन्होंने उम्मीद जताई कि एसएंडपी और फिच जैसी वैश्विक एजेंसियां भी इसका अनुसरण करेंगी। कुमार ने एक ट्वीट में कहा, ''मूडीज द्वारा भारत की रेटिंग सुधारा जाना देश की वृद्धि का परिचायक है और यह न्यू इंडिया के आर्थिक सिद्धांतों का अनुमोदन करता है। उम्मीद है कि अन्य एजेंसियां भी इसका अनुसरण करेंगी।ÓÓ आर्थिक मामलों के पूर्व सचिव शक्तिकांत दास ने भी एक ट्वीट में कहा, ''मूडीज ने 13 साल बाद भारत की रेटिंग में सुधार किया है। यह आर्थिक एवं संस्थागत सुधारों, अर्थव्यवस्था को औपचारिक बनाने की सुस्पष्ट पहल, कारोबारी माहौल में सुधार और सकारात्मक वृद्धि परिदृश्य को स्पष्ट मान्यता मिलना है।ÓÓ
नौकरी छोडऩेके बाद ईपीएफ के ब्याजपर लगेगा टैक्स
epf के लिए चित्र परिणाम
मुंबई। नौकरी छोडऩे या रिटायर होने के बाद भी ईपीएफ खाता सक्रिय रहने की स्थिति में उस पर मिलने वाले ब्याज पर टैक्स देना पड़ेगा। आयकर अपीलीय न्यायाधिकरण (आईटीएटी) की बेंगलुरु पीठ ने एक सेवानिवृत्त कर्मचारी के केस पर सुनवाई करते हुए इस आई-टी प्रावधान को बरकरार रखा है जिसमें नौकरी छोडऩे के बाद या फिर सेवानिवृत्त के बाद आप अपने पीएफ खाते पर जो भी ब्याज कमाते हैं, उस पर आपको कर देना होता है। आईटीएटी के नियम के मुताबिक, यह नियम केवल उन पर लागू नहीं होगा जो रिटायर हो चुके हैं, बल्कि उन पर भी होगा जो किसी भी कारण से नौकरी छोड़ चुके हैं। दरअसल कई लोग नौकरी छोडऩे और रिटायर होने के बाद अपने पीएफ खाते को जारी रखते हैं। इस दौरान ईपीएफओ की तरफ से हर साल तय होने वाली ब्याज दर का फायदा इन्हें भी मिलता है।
लेकिन ज्यादातर लोग ये नहीं जानते हैं कि नौकरी छोडऩे और रिटायर होने के एक वक्त बाद पीएफ खाते पर मिलने वाला ब्याज ब्याज योग्य हो जाता है।
बीते साल नवंबर में जारी हो चुका है नोटिफिकेशन -
पिछले साल नवंबर में जारी एक नोटिफिकेशन के मुताबिक, नौकरी छोडऩे के बाद भी अगर कोई व्यक्ति अपना पीएफ नहीं निकालता या ट्रांसफर नहीं कर देता है, तब तक उसे पीएफ खाते पर ब्याज मिलता रहेगा। रिटायरमेंट के बाद की बात करें, तो 55 साल की उम्र के बाद अगर कोई व्यक्ति अपना पीएफ नहीं निकालता है, तो खाता सिर्फ 3 साल के लिए एक्ट?िव रहता है और इस पर तय ब्याज मिलता रहता है। रिटायरमेंट की तारीख से अगले तीन साल के बाद इस तरह के पीएफ अकाउंट पर ब्याज नहीं मिलता और इसे 'इनऑपरेटिव' अकाउंट की श्रेणी में डाल दिया जाता है।
अभी इतना मिलता है ब्याज -
मौजूदा समय में आपके पीएफ खाते पर आपको 8.65 फीसद ब्याज मिलता है। इस वित्त वर्ष के लिए इसी माह होने वाली बैठक में ब्याज की दरें तय की जाएं। हालांकि ब्याज दरें बढऩे की उम्मीद कम ही जताई जा रही हैं।