Tel: 0542 - 2393981-87 | Mail: ajvaranasi@gmail.com


तीन लाखमें मारुति सुजुकी ला रही नयी कार

दिल्ली। मारुति सुजुकी अल्टो शुरुआत से ही आम लोगों की पसंदीदा कार बनी हुई है। लेकिन पिछले कुछ समय में एंट्री लेवल सेगमेंट में कई सस्ती कार लॉन्च हुई हैं, जिससे अल्टो की सेल पर प्रभाव पड़ा है। हालांकि ये नहीं कहा जा सकता कि अल्टो की लोकप्रियता कम हुई है। क्योंकि अल्टो को मारुति सुजुकी की ब्रांड वैल्यू का फायदा मिलता है। मारुति सुजुकी वापस अपनी पकड़ बनाने के लिए नई अल्टो को अगले साल लॉन्च कर सकती है। मीडिया रिपोट्र्स के मुताबिक अल्टो का नया मॉडल मौजूद अल्टो से काफी अलग होगा। नई अल्टो को नए सिक्योरिटी नॉम्र्स पर तौयार किया जाएगा। इस कार में पहले के मुकाबले ज्यादा स्पेस और ज्यादा बोल्ड डिजाइन होगा। ऐसा कहा जा सकता है मारुति इस कार को बिलकुल नए अवतार में लॉन्च करेगी। नई अल्टो का डिजाइन मारुति सुजुकी इग्निस से प्रेरित नजर आता है। माना जा रहा है कि कंपनी नई अल्टो को अगले साल फेस्टिवल सीजन में लॉन्च कर सकती है। इस कार में कंपनी 660 सीसी का इंजन दे सकती है। कम इंजन पावर होने के कारण कार का माइलेज भी ज्यादा होगा, जो एंट्री लेवल पर या पहली बार कार खरीदने वाले लोगों को बहुत लुभाता है।
लगातार 5वें माह घटा स्वर्ण आयात
नयी दिल्ली। यह लगातार 5वां महीना है जब स्वर्ण आयात पर देश का खर्च कम हुआ है। जनवरी में इसमें 17.93 प्रतिशत, फरवरी में 16.79 प्रतिशत, मार्च में 40.30 प्रतिशत और अप्रैल में 33.38 प्रतिशत की गिरावट दर्ज की गई थी। वाणिज्य एवं उद्योग मंत्रालय द्वारा आंकड़ों के अनुसार, हालांकि देश का स्वर्ण आयात पिछले साल मई की तुलना में इस साल मई में 29.85 प्रतिशत घटने के बावजूद गत एक साल में सबसे ज्यादा रहा है। इस साल मई में 347.86 करोड़ डॉलर का सोना आयात किया गया जो पिछले साल मई के बाद सबसे ज्यादा है। मई 2017 में 495.85 करोड़ डॉलर का सोना आयात हुआ था। इस प्रकार साल दर साल आधार पर इसमें 29.85 प्रतिशत की गिरावट दर्ज की गई। इस साल मई में चाँदी के आयात में मामूली बढ़ोतरी दर्ज की गई। यह आंकड़ा पिछले साल मई के 44.29 करोड़ डॉलर से बढ़कर 44.50 करोड़ डॉलर पर पहुँच गया। इसमें 0.48 प्रतिशत की वृद्धि देखी गई है।
रिजर्व बैंकने एफपीआई के लिए बांडमें निवेशके नियमोंको उदार किया

मुंबई। भारतीय रिजर्व बैंक ने अधिक विदेशी निवेश आर्किषत करने के उद्देश्य से ऋणपत्र या बांड, विशेषकर बड़ी निजी कंपनियों में विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों (एफपीआई) के लिए निवेश नियम आसान कर दिया है। इससे एक तरफ रुपए की गिरावट को थामने में मदद मिलेगी तथा कॉरपोरेट बांड की हालिया गिरावट से भी उबरने में मदद मिलेगी। रिजर्व बैंक ने सरकारी प्रतिभूतियों में एफपीआई के लिए निवेश की सीमा उस सरकारी प्रतिभूति के बचे शेयरों के 20 प्रतिशत से बढ़ाकर 30 प्रतिशत कर दी है। हालांकि एफपीआई के लिए कॉरपोरेट बांड में अल्पावधि के निवेश के लिए अधिकतम सीमा 20 प्रतिशत ही रखी गई है यानी यह एफपीआई के कॉरपोरेट बांडों में कुल निवेश का 20 प्रतिशत से अधिक नहीं हो सकता।
टाटा ट्रस्ट्स ने एयरएशियाके वेंकटरमननमें भरोसा किया
टाटा ट्रस्ट द्वारा गुरुवार को जारी एक बयान के अनुसार, केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) द्वारा की जा रही रिष्वतखोरी की जांच में भारत के सबसे पुराने मानवप्रेमी संस्थानों में से एक, टाटा ट्रस्ट्स ने 29 मई को अपने मैनेजिंग ट्रस्टी एवं बोर्ड के नॉन एक्जि़क्यूटिव डायरेक्टर, आर. वेंकटरमनन की एयर एषिया इंडिया लिमिटेड में किसी भी संलग्नता से इंकार किया।एक मीटिंग में ट्रस्टियों ने कहा कि 'बताई गई जांच का टाटा ट्रस्ट के किसी भी मामले से कोई भी संबंध नहींÓ।