Tel: 0542 - 2393981-87 | Mail: ajvaranasi@gmail.com


नवीनतम समाचार » दैनिक मंडी समीक्षा

दैनिक मंडी समीक्षा

नयी दिल्ली। आवक बढऩे तथा आटा मिलों की मांग घटने से लारेन्स रोड पर गेहूं 5/10 रुपए प्रति क्विंटल नरम रहा। मांग के अभाव में 1121 चावल भी 50 रुपए आज और टूट गया। जबकि दलहनों में मिलों की मांग निकलने से चना व मसूर के भाव 50/150 रुपए उछल गये। सप्लाई घटने से गुड़ में 100 रुपए की तेजी दर्ज की गयी, लेकिन उठाव न होने से चीनी में दबिश रही। किराना जिंसों में मांग कमजोर होने से बड़ी इलायची 10/20 रुपए प्रति किलो नीचे आ गयी। खाद्य तेलों में भी उठाव कम होने से बिनौला तेल के भाव 30 रुपए मुलायम रहे। जबकि औद्योगिक मांग निकलने से अरंडी तेल 50 रुपए सुर्ख रहा।
अनाज-दाल-आटा मिलों की मांग कमजोर होने से लारेन्स रोड पर गेहंू 5/10 रुपए मुलायम होकर 1740/1750 रुपए प्रति क्विंटल रह गया। उठाव न होने से आटा, मैदा व सूजी के भाव भी सुस्त रहे। धन की तंगी के कारण बिक्री सुस्त रहने से 1121 चावल 50 रुपए घटकर 6500/6550 रुपए रह गया। जबकि दाल मिलों की मांग निकलने से चना 25/50 रुपए बढ़कर 3725/3800 रुपए, मसूर 150 रुपए तेज होकर छोटी 3700/4000 रुपए तथा देशी माल के भाव 100 रुपए की बढ़त लेकर 3800/3900 रुपए हो गये। लेकिन राजमा चित्रा लिवाली कमजोर होने से 100 रुपए घटकर 7500/8100 रुपए रह गया।
तेल-तिलहन-वनस्पति घी निर्माताओं की मांग घटने से बिनौला तेल 30 रुपए नरम होकर 7250 रुपए रह गया। जबकि सरसों, सोया व चावल तेल में बिकवाली कमजोर होने से पूर्वस्तर पर मजबूती का रुख रहा। आयातकों की बिकवाली घटने से कांदला में सीपीओ 4250 रुपए पर टिका रहा। औद्योगिक मांग निकलने से अखाद्य तेलों में अरंडी तेल के भाव 50 रुपए बढ़कर 8900/9000 रुपए हो गये। उठाव न होने से सोया डीओसी के भाव 500 रुपए गिरकर 32500 रुपए प्रति टन रह गये।
गुड़-चीनी-पश्चिमी उत्तर प्रदेश की मंडियों से आवक कमजोर होने से गुड़ 100 रुपए बढ़कर लड्डïू 2700/2800 रुपए तथा चाकू के भाव 2800//2900 रुपए हो गये। शक्कर व खांडसारी के भाव बिकवाली के अभाव में पूर्वस्तर पर टिके हुए थे। जबकि ग्राहकी कमजोर होने से चीनी मिल डिलीवरी 2725/2820 रुपए तथा हाजिर भाव 3000/3100 रुपए पर सुस्त रहे।
किराना-मेवे-बड़ी इलायची उठाव कमजोर होने से 10/20 रुपए मुलायम होकर झुंडी वाली 640/650 रुपए तथा कैंचीकट के भाव 690/980 रुपए प्रति किलो रह गये। जबकि उत्पादन घटने की आशंका के चलते अमचूर 2500 रुपए बढ़कर डंडोयचा माल के भाव 18500/25000 रुपए प्रति क्विंटल हो गये। अन्य किराना जिंसों व मेवों में कमजोर मांग से व्यापार ढीला रहा।
सराफा बाजार- विदेशों के तेज समाचार आने तथा ग्राहकी निकलने से सर्राफा बाजार में चांदी के भाव 200 रुपए प्रति किलो बढ़ गये। सीमित बिकवाली के कारण सोने में भी 60 रुपए प्रति 10 ग्राम की तेजी रही। अंतर्राष्टï्रीय बाजार में चांदी के भाव पांस सेंट बढ़कर 1720 सेंट प्रति औंस हो जाने तथा औद्योगिक मांग निकलने से चांदी हाजिर के भाव 200 रुपए बढ़कर 41500 रुपए प्रति किलो हो गये। सटोरिया लिवाली बढऩे से चांदी वायदा भी 40320 से बढ़कर 40480 रुपए प्रति किलो हो गया। सप्लाई कमजोर होने से चांदी सिक्के के भाव भी 760/770 रुपए पर टिके रहे। आभूषण निर्माताओं की मांग निकलने तथा डॉलर की तुलना में रुपया कमजोर होने के कारण बिकवाली घटने से सोना 60 रुपए बढ़कर 32300 रुपए तथा स्टैंडर्ड के भाव 32450 रुपए प्रति 10 ग्राम हो गये। गिन्नी भी सीमित बिकवाली से 24900 रुपए पर स्थिर रही। मुनाफावसूली अंतर्राष्टï्रीय बाजार में सोने के भाव 1342 से घटकर 1335 डॉलर प्रति औंस रह जाने की खबर थी।
लोकप्रिय हो रहे हैं पॉड होटल
मुंबई। देश की वाणिज्यिक राजधानी में मुंबई में शुरू किए गए पहले पॉड होटल की सफलता से उत्साहित इसके संचालक अर्बनपॉड होटल प्राइवेट लिमिटेड ने कारोबार विस्तार की योजना बनाई है। कंपनी ने अपने पहले पॉड होटल के संचालन के एक वर्ष पूर्ण होने पर जारी बयान में कहा कि भारत का अपनी तरह का पहला पॉड होटल अर्बनपॉड भारतीय हॉस्पिटैलिटी उद्योग में अपनी उपस्थिति को मजबूत कर रहा है। पिछले वर्ष अर्बनपॉड के लांच के साथ भारत में हॉस्पिटॅलिटी क्षेत्र में एक 'नई श्रेणीÓ का शुभारंभ हुआ है। उसने कहा कि एक वर्ष में अर्बनपॉड ने 10,000 से अधिक अतिथियों को सेवाएँ प्रदान की हैं। 'विविधÓ श्रेणी के ग्राहकों के साथ दुनिया भर में 40 से अधिक देशों के ग्राहकों की सेवा की गई है। कंपनी के सह संस्थापक हिरेन गांधी ने कहा कि पॉड होटल्स जो वैश्विक यात्रियों के बीच काफी लोकप्रिय हैं, धीरे-धीरे भारतीय यात्रियों में भी लोकप्रिय हो रहे हैं। इसमें मुख्य बात यह है कि 30 से 45 आयु वर्ग की एक बड़ी संख्या इस अभिनव पहल को चुन रही है।
इसके साथ ही अकेली यात्रा करने वाली महिला और कारोबारी महिला का एकवर्ग भी लेडिज पॉड्स सेक्शन की विशिष्ट सुरक्षा, स्वच्छता और आराम को पसंद किया है। उन्होंने कहा कि एक वर्ष में 10 हजार से अधिक ग्राहकों की सेवाओं से उत्साहित होकर अब इसका जल्द ही अन्य शहरों में विस्तार की योजना बनाई गई है। उन्होंने कहा कि प्रारंभ में कुछ लोगों को इस विचार को लेकर कुछ संदेह हुआ था लेकिन अब वे इसे स्वीकार करने लगे हैं।