Tel: 0542 - 2393981-87 | Mail: ajvaranasi@gmail.com


अमेरिकाकी पाकिस्तानको चेतावनी, आतंकियोंपर लगाये लगाम

इस्लामाबाद(एजेंसी)। पाकिस्तान को सख्त संदेश में एक शीर्ष अमेरिकी जनरल ने देश के सैन्य नेतृत्व से कहा कि क्षेत्र में सुरक्षा और स्थिरता लाने के लिए इस्लामाबाद को अपनी सरजमीं और सीमा पार से आतंकवादियों की गतिविधियों पर लगाम लगानी चाहिए। अमेरिकी दूतावास से जारी एक बयान के मुताबिक दो दिवसीय दौरे पर यहां आए अमेरिकी सेंट्रल कमांड(सेंटकम) कमांडर जनरल जोसेफ वोटेल ने बेहतर पाकिस्तान-अफगानिस्तान संबंधों और सीमा के दोनों तरफ समन्वित सैन्य अभियान सहित सीमा सुरक्षा बढ़ाने की जरूरत बतायी। अपने दौरे के दौरान वोटेल ने सेना प्रमुख जनरल कमर बाजवा, ज्वाइंट चीफ्स ऑफ स्टाफ कमेटी के अध्यक्ष जनरल जुबैर हयात और इंटर-र्सिवसेज इंटेलिजेंस (आईएसआई) के महानिदेशक लेफ्टिनेंट जनरल नवीद मुख्तार सहित पाकिस्तान के वरिष्ठ सैन्य कमांडरों से मुलाकात की।  माना जा रहा है कि इस्लामाबाद का उनका यह दौरा अमेरिकी रक्षा मंत्री जेम्स मेटिस के आगामी दौरे की तैयारियों का जायजा लेने के लिए है। रक्षा मंत्री अगले महीने पाकिस्तान का दौरा कर सकते हैं । 
पाकिस्तानने फिर उगला भारतके खिलाफ जहर
इस्लामाबाद(एजेंसी)। आतंक की शरणस्थली बने पाकिस्तान ने एक बार फिर भारत के खिलाफ जहर उगला है। पाकिस्तान ने दोनों देशों के बीच आई दरार के लिए भारत को जिम्मेदार ठहराया है। पाकिस्तान के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार नसीर खान जंजुआ ने शुक्रवार को कहा कि भारत दो मोर्चे वाले हालात पैदा कर रहा है और ये दोनों देशों के रिश्तों के लिए ठीक नहीं है। नसीर खान ने ये बयान अफगानिस्तान और पाकिस्तान मामलों के जर्मनी के विशेष प्रतिनिधि मार्कस पोत्जेल से मुलाकात के दौरान कही। अफगानिस्तान के साथ रिश्तों में आई खटास के लिए भी पाकिस्तान भारत इशारे में जिम्मेदार बता रहा है। नसीर खान ने कहा कि वे अफगानिस्तान में शांति चाहते हैं, लेकिन भारत के बीच में आने के बाद उसके लिए हालात दो मोर्चे वाले बन गये हैं। उन्होंने कहा कि पश्चिम की तरफ से उन्हें अफगानी आतंकवादियों और पूर्वी बॉर्डर की तरफ से उन्हें भारतीय सेना का सामना करना पड़ रहा है। पाकिस्तान बेहतर भविष्य के लिए रिश्तों में दरार नहीं चाहता है।
 दरअसल, पाकिस्तान को अफगानिस्तान बॉर्डर पर होने वाले आतंकी हमलों के लिए जिम्मेदार माना जाता है और लगातार आरोपों की वजह से पाकिस्तान कई बार बौखला चुका है।