Tel: 0542 - 2393981-87 | Mail: ajvaranasi@gmail.com


अब बांग्लादेश के गृह मंत्रीने भी भारत यात्राकी रद्द

ढ़ाका(एजेंसी)। नागरिकता विधेयक के बाद बांग्लादेश और भारत के रिश्तों में कड़वाहट आ गई है। पहले बांग्लादेश के विदेश मंत्री ने भारत की यात्रा रद्द की अब गृह मंत्री ने तीन दिवसीय भारत यात्रा रद्द कर दी है। इससे पहले बांग्लादेश के विदेश मंत्री ए के अब्दुल मोमेन ने गुरुवार से शुरू होने वाला भारत का अपना तीन दिवसीय दौरा रद्द कर दिया है। राजनयिक सूत्रों ने यह जानकारी दी। विदेश मंत्रालय द्वारा पहले जारी की गई एक सूचना के अनुसार मोमेन को गुरुवार शाम पांच बजकर 20 मिनट पर यहां पहुंचना था। राजनयिक सूत्रों ने बताया कि संसद में नागरिकता (संशोधन) विधेयक के पारित होने से पैदा हुए हालात को देखते हुए उन्होंने अपनी यात्रा रद्द की है। ढाका में जारी एक बयान में मोमेन ने कहा कि उन्हें अपनी व्यस्तताओं के चलते भारत की यात्रा रद्द करनी पड़ी। उन्होंने कहा, मुझे भारत का दौरा रद्द करना पड़ा क्योंकि मुझे 'बुद्धिजीवी दिवसÓ और 'विजय दिवसÓ में भाग लेना है। इसके अलावा हमारे राज्य मंत्री मैड्रिड में है और विदेश सचिव हेग में है। बांग्लादेश सरकार ने एक बयान में कहा कि देश में 'व्यस्तताओं' के कारण विदेश मंत्री को भारत दौरा रद्द करना पड़ा। नागरिकता (संशोधन) विधेयक बुधवार को राज्यसभा में पारित हो गया। इससे पहले यह विधेयक सोमवार को लोकसभा में पारित हुआ था। अफगानिस्तान, बांग्लादेश और पाकिस्तान में धार्मिक प्रताडऩा के कारण 31 दिसंबर 2014 तक भारत आए गैर मुस्लिम शरणार्थी (हिन्दू, सिख, बौद्ध, जैन, पारसी और ईसाई समुदायों के लोगों) को भारतीय नागरिकता प्रदान करने का विधेयक में प्रावधान किया गया है। विधेयक के विरोध में असम और पूर्वोत्तर के कई राज्यों में व्यापक रूप से प्रदर्शन हो रहे हैं।
बांग्लादेश में प्लास्टिक कारखाने में आग लगने से 13 की मौत

ढाका(एजेंसी)। बांग्लादेश के एक अवैध प्लास्टिक कारखाने में आग लगने से 13 लोगों की मौत हो गई है और 21 अन्य गंभीर रूप से घायल हो गए। पुलिस ने बृहस्पतिवार को यह जानकारी दी। बांग्लादेशी मीडिया से मिली खबर के मुताबिक ढाका के बाहरी इलाके के रानीगंज में बुधवार दोपहर प्राइम पेटेंट प्लास्टिक लिमिटेड नाम के प्लास्टिक कारखाने में आग लग गई, जिसमें 13 श्रमिकों की मौत हो गई और 21 अन्य गंभीर रूप से घायल हो गए। घायलों का ढाका मेडिकल कॉलेज अस्पताल में इलाज चल रहा है।
यूनेस्को की हैरिटेज लिस्ट में शामिल होगी 2,000 साल पुरानी थाई मसाज

बैंकॉक(एजेंसी)। थाईलैंड की प्रसिद्ध 2,000 साल से ज्यादा पुरानी मालिश (थाई मसाज) नुअद थाई को जल्द ही यूनेस्को की प्रतिष्ठित हैरिटेज लिस्ट में जगह मिल सकती है। बताया जा रहा है कि इस हफ्ते थाईलैंड को यह टैग मिल सकता है। अमूर्त सांस्कृतिक विरासत की सुरक्षा के लिए यूनेस्को की अंतर सरकारी समिति वर्तमान में कोलंबिया की राजधानी बोगोटा में बैठक कर रही है। इसके बाद वह 14 दिसम्बर को अपने फैसले की घोषणा करने वाली है। नुअद थाई एक मालिश का रूप है जो 2,000 वर्षों से थाईलैंड के इतिहास का हिस्सा रही है। नुअद थाई एक गहन मालिश है, जिसमें अंगूठे, कोहिनी, घुटनों और पैरों की मदद से शरीर को गहरा खिंचाव दिया जाता है और घुमाया जाता है। इस मालिश में शरीर के विभिन्न एक्यूपंक्चर बिंदुओं को दबाया जाता है, जिससे खून का दौरा बढ़ता है और इसका उद्देश्य मांसपेशियों के दर्द को ठीक करना भी है। मगर, इसके बारे में तब दुनिया को पता चला जब 1962 में रेक्लाइनिंग बुद्धा स्कूल शुरू किया गया था। एक रिपोर्ट के अनुसार वाट फो मंदिर परिसर के अंदर द रेक्लाइनिंग बुद्धा स्कूल ने 2 लाख से ज्यादा मालिश विशेषज्ञों को प्रशिक्षित किया है, जो अब 145 देशों में अभ्यास कर रहे हैं।