Mob: +91-7905117134,0542 2393981-87 | Mail: info@ajhindidaily.com


देशमें लगातार बढ़ रही है रिकवरी दर

नयी दिल्ली (आससे)। देश में पिछले 24 घंटों के दौरान कोरोना वायरस संक्रमण के 60,963 नये मामले सामने आने के बाद देश में अब तक संक्रमित पाये गये लोगों की संख्या 23 लाख के पार हो गई है। इस दौरान कुल 834 कोरोना मरीजों की मृत्यु हुई है। स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा दी गयी जानकारी के अनुसार, देश में 16,39,599 लोग संक्रमण मुक्त हो चुके हैं। इसके साथ ही देश में संक्रमित लोगों के स्वस्थ होने की दर 70.38 प्रतिशत हो गई है। आज सुबह आठ बजे तक के आंकड़ों के अनुसार, देश में संक्रमण के कुल मामले बढ़कर 23,29,638 हो गये हैं, जबकि पिछले कम होकर 1.98 प्रतिशत हो गई है। देश में इस समय कोरोना वायरस से संक्रमित 6,43,948 लोगों, यानी अब तक संक्रमित पाये गये लोगों में से 27.64 प्रतिशत लोगों का उपचार चल रहा है। गौरततलब है कि भारत में सात अगस्त को संक्रमितों की संख्या 20 लाख के पार हो गई थी। आईसीएमआर के अनुसार, देश में 11 अगस्त तक कुल 2,60,15,297 नमूनों की जांच की गई, जिसमें से मंगलवार को 7,33,449 नमूनों की जांच की गई। देश में पिछले 24 घंटे में 834 लोगों की मौत हुई है। इनमें से महाराष्ट्र में 256, तमिलनाडु में 118, आंध्र प्रदेश में 87, कर्नाटक में 86, उत्तर प्रदेश में 56, पश्चिम बंगाल में 49, पंजाब में 32, गुजरात में 23, मध्य प्रदेश में 18, बिहार में 16, जम्मू-कश्मीर में 12 और हरियाणा एवं राजस्थान में 11-11 लोगों की मौत हुई। इसके अलावा ओडिशा में दस, तेलंगाना में नौ, दिल्ली में आठ, गोवा में छह, छत्तीसगढ़ और केरल में पांच- पांच, असम और झारखंड में चार-चार, पुडुचेरी और उत्तराखंड से दो-दो तथा अंडमान-निकोबार द्वीप, चंडीगढ़, हिमाचल प्रदेश और मणिपुर में एक-एक व्यक्ति की मौत हो गई। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के आंकड़ों के अनुसार, संक्रमण से कुल 46,091 लोगों की मौत हुई है। इनमें से महाराष्ट्र में सबसे अधिक 18,306 लोगों की मौत हुई। इसके बाद तमिलनाडु में 5,159, दिल्ली में 4,139, कर्नाटक में 3,398, गुजरात में 2,695, आंध्र प्रदेश में 2,203, उत्तर प्रदेश में 2,176, पश्चिम बंगाल में 2,149 और मध्य प्रदेश में 1,033 लोगों की अब तक मौत हो चुकी है। मंत्रालय ने बताया कि कोविड-19 से अब तक राजस्थान में 811, तेलंगाना में 654, पंजाब में 636, हरियाणा में 500, जम्मू-कश्मीर में 490, बिहार में 413, ओडिशा में 296, झारखंड में 192, असम में 155, उत्तराखंड में 136 और केरल में 120 लोगों की मौत हो गई है। इसके अलावा, छत्तीसगढ़ में 104, पुडुचेरी में 91, गोवा में 86, त्रिपुरा में 43, चंडीगढ़ में 26, अंडमान- निकोबार द्वीप में 21, हिमाचल प्रदेश में 18, मणिपुर में 12, लद्दाख में नौ, नगालैंड में आठ, मेघालय में छह, अरुणाचल प्रदेश में तीन, दादरा- नागर हवेली एवं दमन- दीव में दो-दो और सिक्किम में एक मरीज की मौत हो चुकी है। जिन संक्रमित लोगों की मौत हुई है, उनमें से 70 प्रतिशत से अधिक लोग किसी न किसी अन्य बीमारी से भी ग्रसित थे। मंत्रालय ने कहा कि हमारे आंकड़ों का मिलान भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) के साथ किया जा रहा है।
----------------------------
वाराणसी में १२७, पूर्वांचल में ३८२ नये पाजिटिव
वाराणसी। पूर्वांचल में दिनोंदिन बढ़ रहे कोरोना के नये संक्रमितों के मिलने का सिलसिला थम नहीं रहा है। वहीं वाराणसी में भी हर दिन कोरोना संक्रमितों में इजाफा हो रहा है। बुधवार को ३८२ नये पाजिटिव मामले सामने आने से हड़कम्प मच गया है। सर्वाधिक बलिया में १५९, वाराणसी में १२७ नये पाजिटिव  एसीएमओ सहित दो की मौत हो गयी। अब तक ९१ लोगों की मौत वाराणसी में हो चुकी है। वहीं आजमगढ़ में पांच, जौनपुर में ३५, मऊ में ४६, भदोही में १५ संक्रमितों का मिलना जिला प्रशासन के लिए बड़ी चुनौती है। मिली जानकारी के अनुसार बलिया में प्रदेश के मुख्य मंत्री योगी आदित्यनाथ ने कोविड-१९ के संक्रमण की चैन तोडऩे के लिए निरंतर सावधानी बरतने का भले ही निर्देश दें लेकिन जनपद के न तो आला अधिकारी और न ही आम जनता पर इसका फर्क पडऩे वाला है। यदि लोगों में उक्त बीमारी को लेकर भय रहता तो बुधवार को रिकार्ड तोड़ जनपद में कोरोना पॉजिटिव की संख्या नहीं बढ़ती। जिले में कोरोना की संख्या में लगातार वृद्धि होती जा रही है। गत २४ घंटे में कोरोना संक्रमण के १५९ नये मामले मिले हैं। जिला इन्टीग्रेटेड कोविड कमाण्ड कन्ट्रोल सेंटर की रिपोर्ट के अनुसार बुधवार को जिले में कुल एक्टिव केस की संख्या १०५५ है। जिले में अब तक कुल कोरोना संक्रमितों की संख्या २६१७ है। जौनपुर में बुधवार को ९०८ सैंपल के रिजल्ट प्राप्त हुए। जिसमें ३५ पॉजिटिव आए हैं और ८६७ नेगेटिव हैं और 6 सैंपल ऐसे हैं जिनको दोबारा सैंपल लेकर के भेजा जाना है। आज के 35 पॉजिटिव केसेस को मिला करके अब जनपद में २८८५ पाजिटिव केस हो गए हैं। आज 132 मरीज ठीक होकर घर गये। अब तक 2079 मरीज ठीक होकर के घर जा चुके हैं। 37 मरीजों की अब तक मौत हो चुकी है। आज 989 सैंपल किए गए। अब तक 57471 सैंपल किए जा चुके हैं। जिसमें 54349 का रिजल्ट आ गया है। 3122 का रिजल्ट आना शेष है। ज्ञानपुर में कालीन नगरी में कोरोना संक्रमण के मामले लगातार बढ़ते जा रहे हैं। बुधवार को कोरोना की वजह से एक और व्यक्ति की मौत हो गई ।स्वास्थ्य महकमे के लिए राहत की बात यह रही की अब तक 548 लोग कोरोनावायरस को मात देकर स्वस्थ होकर अपने घरों को लौट चुके हैं। बुधवार को पंद्रह और लोगों की और कोरोना पॉजिटिव रिपोर्ट आने पर संक्रमितों की संख्या 78० पहुंच गई हैं। सीएमओ डॉक्टर लक्ष्मी सिंह ने बताया कि अब तक 22०16 लोगों का स्वैब जांच के लिए भेजा जा चुका है ।
---------------------------------
केंद्रीय मंत्री श्रीपद नाइक को कोरोना
नयी दिल्ली। भारत में कोविड-19 महामारी का कहर लगातार बढ़ता ही जा रहा है। देश में कोरोना संक्रमण के अब तक साढ़े 23 लाख से ज्यादा मामले सामने आ चुके हैं। पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी, कई केंद्रीय मंत्रियों, एमपी और कर्नाटक के मुख्यमंत्रियों, राज्यों के तमाम मंत्रियों समेत कई नेता कोरोना संक्रमित हो चुके हैं। इस कड़ी में ताजा नाम है केंद्रीय मंत्री श्रीपद नाइक का। केंद्रीय आयुष मंत्री श्रीपद नाइक कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। उन्होंने बुधवार को ट्वीट कर इसकी जानकारी दी। नाइक ने लिखा कि उन्होंने टेस्ट कराया था जिसमें वह पॉजिटिव पाए गए हैं। उन्हें कोरोना के कोई लक्षण नहीं हैं। उन्होंने खुद को होम आइसोलेशन में रखने का फैसला किया है। नाइक ने पिछले कुछ दिनों में अपने संपर्क में आए लोगों को टेस्ट करवाने और जरूरी एहतियात बरतने की सलाह दी है। आइए देखते हैं कि उनके अलावा मोदी सरकार के कौन-कौन से मंत्री कोरोना संक्रमित हुए हैं।
------------------
पुलवामा में एक आतंकी ढेर, जवान शहीद

मुठभेड़में जौनपुर के जिलाजीत यादव शहीद
श्रीनगर (एजेंसी)। जम्मू-कश्मीर के पुलवामा जिले में बुधवार को सुरक्षा बलों ने एनकाउंटर में एक आतंकवादी को मार गिराया। इस ऑपरेशन में सेना का एक जवान शहीद हो गया, मुठभेड़ में जौनपुर के जिलाजीत यादव शहीद हो गए हैं। 26 वर्षीय जिलाजीत जौनपुर के धौरहरा इजरी बहादुरपुर पास स्थित सिरकोनी के निवासी थे। परिवार की इकलौती संतान जिलाजीत के शहीद होने की खबर मिलते ही कोहराम मच गया जबकि एक अन्य जवान घायल हो गया। घायल जवान को सेना के एक अस्पताल में भर्ती कराया गया है। अधिकारियों ने बताया कि एनकाउंटर में मारे गये आतंकवादी के पास से एक एके राइफल और कुछ ग्रेनेड बरामद किये गये हैं। सेना के अधिकारियों ने बताया कि सुरक्षा बलों को पुलवामा के कामराजीपोरा  गांव के एक बाग में आतंकवादियों के मौजूद होने की सूचना मिली थी, जिसके बाद इलाके में बुधवार तड़के तलाशी अभियान चलाया गया। अधिकारियों ने बताया कि इसी दौरान आतंकवादियों ने सुरक्षा बलों पर गोलियां चलानी शुरू कर दीं, जिसके बाद सुरक्षा बलों ने भी जवाबी काररवाई की। इस एनकाउंटर में दो जवान घायल हो गये। उन्होंने बताया कि घायल जवानों को सेना के एक अस्पताल में भर्ती कराया गया, जहां गंभीर रूप से घायल एक जवान ने दम तोड़ दिया। अधिकारियों ने बताया कि मुठभेड़ में एक आतंकवादी भी मारा गया। उन्होंने बताया कि मुठभेड़ स्थल से एक एके राइफल और कुछ ग्रेनेड बरामद किये गये हैं। अधिकारियों ने बताया कि मारे गये आतंकवादी की पहचान अभी नहीं हो पाई है और यह पता लगाने की कोशिश की जा रही है कि उसका संबंध किस आतंकवादी संगठन से था।
----------------------------
अपग्रेड होंगे लद्दाख में तैनात इजरायली हेरॉन ड्रोन
नयी दिल्ली (आससे)। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह वाली रक्षा अधिग्रहण परिषद  ने मंगलवार को इजराइली हेरॉन ड्रोनों के अपग्रेडेशन के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी है। रक्षा विशेषज्ञ चीन के साथ जारी विवाद के बीच लिए गए इस फैसले को काफी महत्वपूर्ण बता रहे हैं। भारतीय वायुसेना और थल सेना जिन इजराइली हेरॉन ड्रोन का इस्तेमाल अभी कर रही है वो मध्यम ऊंचाई तक पहुंचने वाले ड्रोन हैं। हालांकि, ये ड्रोन लंबे समय तक ऑपरेशन को अंजाम देने में सक्षम हैं। ये युद्धक विमानों की तरह ही अपने मिशन को अंजाम देकर वापस आते हैं।
इंडियन आर्मी और एयरफोर्स के बेड़े में शामिल इजराइली ड्रोनों का बेड़ा लद्दाख के पास चीन से लगी सीमा पर तैनात किए गए हैं। यही ड्रोन चीनी सैनिकों की गतिविधियों पर नजर रख रहे हैं और बता रहे हैं कि डिसइंगेजमेंट प्रोसेस के तहत चीनी सैनिक पीछे हट रहे हैं या नहीं। इतना ही नहीं, ये ड्रोन चीनियों को उनकी सीमा के अंदर दूर तक सैनिकों के जुटान की भी जानकारी देते हैं। ये ड्रोन बताते हैं कि चीनी सैनिक अपनी सीमा में किस तरह का सैन्य निर्माण (मिलिट्री बिल्ड अप) कर रहे हैं।
दुश्मनों की हरकत पर नजर रखने वाले इन ड्रोनों में अभी हाई-रेजॉल्युशन सर्विलांस कैमरा और इलेक्ट्रॉनिक सिग्नल ट्रैकिंग सिस्टम लगे हैं। रक्षा अधिग्रहण परिषद (डीएसी)  ने अब इन ड्रोनों को अपग्रेड करने की मंजूरी दे दी है। इन ड्रोनों के ऑपरेटिंग सिस्टम में बदलाव किये जायेंगे ताकि टारगेट्स पर और अचूक निशाना साधा जा सके। इसी वर्ष फरवरी में इजराइली एयरोस्पेस इंडस्ट्रीज ने हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड (एचएएल) और डाइनामैटिक टेक्नॉलजीज लिमिटेड  (डीटीएल) के साथ हेरॉन एमके ढ्ढढ्ढ ड्रोनों की मैन्युफैक्चरिंग करने का समझौता किया था। संभव है कि इस समझौते के तहत ड्रोनों को अपग्रेड करने का काम भी निपटाया जाये।
इन ड्रोनों को अपग्रेड करने का मकसद दुश्मनों पर सिर्फ निगरानी रखना नहीं, अब बढ़कर धावा बोलने का है। अपग्रेडेशन की प्रक्रिया में भारत में विकसित सिस्टम का भी इस्तेमाल किया जायेगा। एक बार ये ड्रोन अपग्रेड हो गये तो भविष्य में जरूरत पडऩे पर इनका इस्तेमाल पारंपरिक सैन्य अभियानों में किया जा सकेगा।
इन ड्रोनों की टोही क्षमता में वृद्धि के साथ ही जमीन पर तैनात सैन्य बलों को दुश्मनों के ठिकानों की बिल्कुल सटीक जानकारी मिल पायेगी। इस तरह, जिन जगहों पर ड्रोन अभियानों को अंजाम नहीं दे सकेंगे और वहां सैन्य बलों को हमला करने की जरूरत होगी, वहां भी सैन्य बलों का काम आसान हो जायेगा।