Tel: 0542 - 2393981-87 | Mail: ajvaranasi@gmail.com


गुरुवारको बढ़े ३२८ संक्रमित

नयी दिल्ली (आससे.)। केंद्र सरकार ने लॉकडाउन के आदेश के पालन में तबलीगी जमात की तरफ से मिले असहयोग के कारण देश में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या में हो रही तेजी से वृद्धि पर गहरी चिंता व्यक्त की है। साथ ही सरकार ने कहा है कि ये समय किसी भी तरह के दोषारोपण का समय नहीं है और हमारे लिये जरूरी है कि जहां भी कोरोना का मामला सामने आये, उसे वहीं रोकने का प्रयास किया जाये। सरकार ने कहा है कि देश इस समय बड़े संकट से गुजर रहा है, लेकिन इस समय देश के नागरिक ही हमारा साथ नहीं दे रहे हैं। इसके साथ ही सरकार ने कहा है कि पिछले 24 घंटों में कोरोना से संक्रमित मरीजों की संख्या में हुई 328 मामलों की बढ़ोत्तरी के पीछे तबलीगी जमात जिम्मेदार है। सरकार के मुताबिक इसके साथ ही कोरोना से संक्रमित मामलों की कुल संख्या 1965 हो गयी है और 12 लोगों की मृत्यु के नये मामले सामने आये हैं। अब तक कुल 151 लोगों को कोरोना की बीमारी से ठीक किया जा चुका है। आज एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए स्वास्थ्य मंत्रालय के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने कहा कि देश इस समय बड़े संकट से गुजर रहा है, लेकिन इस संकट में देश के नागरिक ही हमारा साथ नहीं दे रहे हैं। इसके साथ उन्होंने यह भी कहा कि पिछले 24 घंटों में बढ़े कोरोना से संक्रमित मरीजों की संख्या के पीछे जमात जिम्मेदार है। उन्होंने कहा कि तबलीगी जमात में शामिल हुए लोगों के देशभर में घूमने से कोरोना वायरस संक्रमित लोगों की संख्या बढ़ती जा रही है। लव अग्रवाल ने कहा कि लॉकडाउन के बावजूद देश में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या में तेजी आई है। उन्होंने कहा कि जबतक हम साथ मिलकर नहीं लड़ते, हम देश को कोरोना से नहीं बचा सकते। इसलिये हमें साथ मिलकर लडऩा होगा और देश को कोरोना मुक्त करना होगा। उन्होंने बताया कि विदेश मंत्रालय रसद की उपलब्धता को बढ़ाने का काम कर रहा है, जिसके लिये दक्षिण कोरिया, तुर्की और वियतनाम को चिन्हित किया गया है। इसके अलावा एन-95 मास्क की आपूर्ति को बढ़ाने के लिये भी डीआरडीओ स्थानीय निर्माताओं के साथ मिलकर कड़ी मेहनत कर रहा है। अग्रवाल ने बताया कि आज मंत्रिसमूह की बैठक में कोरोना वायरस के अस्पतालों को क्रियाशील बनाने के बारे में बातचीत की गयी। उन्होंने बताया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी दुनियाभर के राजदूतों से बात करके कोरोना को लेकर कई निर्णय लिये हैं। उन्होंने कहा कि हम सभी को समझने की जरूरत है कि ये समय किसी भी तरह के दोषारोपण का समय नहीं है। हमारे लिये जरूरी है कि जिस भी क्षेत्र में ऐसा मामला समने आये उसे वहीं रोकने का प्रयास किया जाये।
---------------------
जमातसे लौटे लोगोंने पुलिसको नहीं दी सूचना
हरदोई। मेरठ, दिल्ली एनसीआर और गाजियाबाद में दिल्ली जमात से शामिल होकर लौटे 14 लोगों के खिलाफ थाने में मुकदमा दर्ज किया गया है। आरोप है कि इन लोगों ने लाकडाउन का उल्लंघन किया। जमात में शामिल होकर लौटने के बावजूद पुलिस प्रशासन को सूचना नहीं दी। अपना मेडिकल चेकअप भी नहीं कराया। ये लोग 28 मार्च को जमात से लौटे थे। उप निरीक्षक विजय प्रताप सिंह ने थाने में दी तहरीर में जुबैर, मालिक, मो. उमर निवासी मोहल्ला लोहानी, मो. अदनान, जीशान, मो. उस्मान, राजा निवासीगण मो. कोटकला, अंसार, सलीमुद्दीन निवासीगण मोहल्ला नगर, एहसान निवासी खुरमुली, नईम निवासी आलमपुरवा, नजाकत निवासी महैलिया खेड़ा, रजीउद्दीन निवासी राभा और मो. अख्तर निवासी गढ़ी थाना टडिय़ांवा हाल पता आलमपुरा थाना पिहानी को नामजद किया है। आरोप है कि इन आरोपितों ने सरकार द्वारा घोषित लाकडाउन के नियमों का उल्लंघन किया। मेरठ आदि क्षेत्रों में जमात में शामिल होकर आए। जानबूझकर न ही मेडिकल कराया और न ही सूचना दी गई। इधर-उधर घूमते रहे, जिससे कोरोना जैसी महामारी फैलने की प्रबल आशंका है। इंसपेक्टर सूर्यप्रकाश शुक्ला ने बताया कि उच्चाधिकारियों के आदेश पर सभी 14 लोगों का क्वारंटीन कर दिया गया है। इन्हें पुलिस की निगरानी में रखा गया है। पूछताछ के आधार पर नियमानुसार कार्रवाई की जाएगी।