Tel: 0542 - 2393981-87 | Mail: ajvaranasi@gmail.com


राष्ट्रीय एकता हमारा बुनियादी मिशन-श्री श्री

लखनऊ। आर्ट आफ़ लिविंग के प्रमुख्य और प्रख्यात धर्मगुरू श्री श्री रवि शंकर इस्लामिक सेन्टर आफ इण्डिया लखनऊ में तशरीफ लाये और इमाम ईदगाह व काजीÓ-ए-शहर लखनऊ मौलाना खालिद रशीद फरंगी महली नाजिम दारूल उलूम फरंगी महल से मुलाकात की। इस अवसर पर इमाम ईदगाह लखनऊ ने फूलों का गुलदस्ता देकर उनका स्वागत किया और उपहार रूवरूप पैगम्बर-ए-इस्लाम के जीवन पर आधारित मौलाना सै0 मुहम्मद राबे हसनी नदवी की लिखी हुई किताब पेश की।  इस अवसर पर पत्रकारों को सम्बोधित करते हुए श्री श्री रवि शंकर ने अपने लखनऊ और इस्लामिक   सेन्टर में आने पर खुशी का इज्हार करते हुए कहा कि जिस तरह से  दारूल उलूम फरंगी महल के विद्यार्थियों ने गुलाब के फूलों की कलियाँ देकर उनका स्वागत किया है इससे महसूस होता है कि यहाँ का बागीचा बहुत खिला और हरा भरा है। उन्होने इस मुलाकात को हिन्दू मुस्लिम एकता के लिए अच्छी पहल करार देते हुए कहा कि इस तरह की मुलाकातें भविष्य में भी जारी रहेंगी जिससे कि दोनों कौमों के मध्य जो गलत विचारधारायें फैली हुई हैं उनको दूर किया जा सके। इन धार्मिक लीडरों के विभिन्न अवसरों पर सच्चे दिल से और बिना किसी निजी स्वार्थ के मिलने से बड़ी बड़ी समस्याओं को आसानी के साथ हल किया जा सकता है। उन्होने कहा कि मेरी यह ख्वाहिश और कोशिश है कि अयोध्या की समस्या को भी दोनों कौमों की रजामन्दी से शीर्घ से शीर्घ हल किया जाए तो पूरे देश के लिए अच्छा और लाभदायक होगा। पत्रकारों को सम्बोधित करते हुए मौलाना खालिद रशीद फरंगी महली ने कहा कि मेरी यह मुलाकात इमाम ईदगाह लखनऊ की हैसियत से हुई है। इसका कोई सम्बन्ध ऑल इण्डिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड से नही है। उन्होने कहा कि श्री श्री रवि शंकर हिन्दू कौम के बड़े धार्मिक लीडर हैं, हम लोगों ने उनका एहतिराम किया है और उनका स्वागत किया है। इस प्राकर की मुलाकातों से राष्ट्रीय एकता और हिन्दू मुस्लिम एकता को बढ़ावा प्राप्त होगा। जरूरत इस बात की है कि धार्मिक लीडरों के मध्य इस प्रकार की मुलाकातें हर स्तर पर होती रहनी चाहिए जिससे जो गलत विचार धारायें पायी जा रहीं हैं उनको दूर किया जा सके। दोनो धार्मिक लीडरों ने इस बात पर जोर दिया कि दोनों कौमें एकजुट होकर देश को तामीर व तरक्की के मार्ग पर ले जाने का प्रयत्न करेंगें।