Tel: 0542 - 2393981-87 | Mail: ajvaranasi@gmail.com


भदोही विधायकके खिलाफ बलात्कारका मुकदमा दर्ज

भदोही। भाजपा के भदोही विधायक रवीन्द्रनाथ त्रिपाठी सहित उनके बेटे व भतीजे सहित परिवार के सात लोगो के खिलाफ भदोही कोतवाली में यौन शोषण का मुकदमा दर्ज किया गया। गौरतलब हो कि बीते दिनों वाराणसी की एक पीडि़त महिला ने एसपी को शिकायती पत्र देकर न्याय की गुहार लगाई थी। पीडि़त महिला का आरोप है कि  2017  भदोही विधानसभा चुनाव के समय भदोही के एक होटल में विधायक सहित उनके परिवार के सभी सातो सदस्यों ने यौन शोषण किया था। कोतवाली पुलिस ने विधायक रवींद्रनाथ त्रिपाठी जिला पंचायत सदस्य सचिन त्रिपाठी सहित उनके पुत्र दीपक तिवारी प्रकाश तिवारी नितेश और भतीजे संदीप त्रिपाठी और चंद्रभूषण तिवारी पर भदोही कोतवाली में दुष्कर्म के आरोप में मुकदमा दर्ज किया गया है। पुलिस के अनुसार विवेचना करने के लिए टीम गठित कर दी गई है। ज्ञात हो कि पीएम नरेंद्र मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी की एक महिला ने 10 फरवरी को एसपी से शिकायत कर आरोप लगाया था कि वर्ष 2014 से ही विधायक का भतीजा संदीप उससे शादी करने का झांसा देकर जबरदस्ती करता रहा। इस दौरान गर्भपात भी कराया। मई 2017 में भदोही विधानसभा चुनाव के समय भदोही स्थित होटल में विधायक सहित सभी ने बारी.बारी  से दुराचार किया। इसकी शिकायत भी वह संदीप से करती रही लेकिन वह मामले को नजरअंदाज करते रहे। नौ फरवरी 2020 को जब वह शादी करने को कहा तो उसे जान से मरने की धमकी दी गई। एसपी रामबदन सिंह ने मामले की जांच अपर पुलिस अधीक्षक रवींद्र वर्मा को सौंपी थी। बुधवार को एएसपी ने मामले की जांच कर रिपोर्ट सौंप दी। पुलिस अधीक्षक ने बताया कि जांच में प्रथम दृष्टया दोषी पाते हुए सभी आरोपितों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया गया है। विवेचना करने के लिए भदोही कोतवाली में टीम गठित कर दी गई है। पुलिस ने मुकदमा अपराध संख्या 40/ 2020 धारा. 376 डी 313 504 506 आईपीसी वादी जनपद वाराणसी केे तहरीर पर मुकदमा दायर किया है।
-----------------------------
 मुगलसरायमें युवा सिपाहीने राइफलसे की आत्महत्या

मुगलसराय। स्थानीय कोतवाली में तैनात एक पुलिसकर्मी द्वारा बुधवार की तड़के एक अन्य दूसरे पुलिसकर्मी के सरकारी इंशास राइफ ल से खुद को गोली मारकर आत्महत्या कर लिये जाने से सनसनी फैल गयी। गोली की आवाज सुनते ही पुलिसकर्मी सहित अन्य लोग मौके पर पहुंच गये। पुलिसकर्मी की मौके पर ही मौत हो गई। घटना से पुलिसकर्मियों में शोक की लहर दौड़ गयी। सूचना लगते ही पुलिस अधीक्षक सहित अन्य अधिकारी मौके पर पहुंचे और अग्रिम काररवाई करने में जुट गये।  प्राप्त जानकारी के अनुसार मृतक पुलिसकर्मी का नाम आशुतोष मिश्र ३० वर्ष है जो बांदा जनपद के थाना गिरवां के सहेवा गांव का निवासी था और अविवाहित है। वह अपने बैरक में अन्य पुलिसकर्मियों के साथ सोया हुआ था। इसी दौरान सेकेण्ड मोबाइल ड्यूटी से आये प्रदीप पाठक नामक एक हेड कांस्टेबल के  बिस्तर के नीचे रखी सरकारी इंशास राइफ ल से खुद को उड़ा लिया। हेड कांस्टेबल बैरिक से नित्य क्रिया करने गया हुआ था। गोली आशुतोष मिश्रा के के गले में लगी थी। जिससे उसकी मौके पर ही मौत हो गयी। बताया जाता है कि वह आत्महत्या करने से पहले अपना मोबाइल तोड़ दिया जिससे कोई विशेष जानकारी अधिकारियों के हाथ नहीं लग पायी। समाचार लिखे जाने तक आत्महत्या का कारण स्पष्ट नहीं हो पाया था। पुलिस मामले की छानबीन में जुट गयी। सूचना पर मृतक के बड़े भाई दिलीप मिश्र कोतवाली पहुंचे। इस दौरान पुलिस शव को पोस्टमार्टम के लिए जिला चिकित्सालय भेजा गया। अपर पुलिस अधीक्षक का कहना है कि आरक्षी के मोबाइल के जांच के बाद ही स्थिति स्पष्ट हो पायेगी।