Tel: 0542 - 2393981-87 | Mail: ajvaranasi@gmail.com


प्रधान मंत्री आज एक बार फिर राष्ट्रको करेंगे संबोधित

नयी दिल्ली (आससे.)। कोरोना के कहर के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी शुक्रवार की सुबह 9 बजे एक बार फिर राष्ट्र को संबोधित करेंगे। कोरोना को लेकर प्रधानमंत्री मामले का देश के नाम यह तीसरा संबोधन होगा। प्रधानमंत्री कार्यालय ने बताया कि नरेन्द्र मोदी ट्वीट किया है कि शुक्रवार को सुबह 9 बजे देशवासियों के साथ मैं एक वीडियो संदेश साझा करूंगा। गौरतलब है कि इससे पहले प्रधानमंत्री कोरोना संकट को लेकर दो बार राष्ट्र को संबोधित कर चुके हैं. इससे पहले मोदी ने 24 मार्च और 19 मार्च को राष्ट्र को संबोधित किया था। 24 मार्च को प्रधानमंत्री ने देश में 21 दिनों के लिए लॉकडाउन का एलान किया था।
बता दें कि भारत में कोरोना संकट गहराता जा रहा है देश में कोविड-19 के मामले बढ़कर 1,965 हो गये, वहीं इससे अब तक 50 लोगों की जान जा चुकी है।
-------------------------------------
रेलवेने चलाई स्पेशल पार्सल ट्रेन

नयी दिल्ली। लॉकडाउन के दौर में रेलवे की स्पेशल पार्सल ट्रेन देश के सुदूर शहरों में खाने-पीने की वस्तुएं व आवश्यक वस्तुओं को पहुंचाने का काम शुरू कर दिया है। सड़कों पर ट्रकों की घटती संख्या को देखते हुए रेलवे बोर्ड ने राज्यों की मांग के आधार पर उक्त स्पेशल पार्सल ट्रेन को चलाना शुरू किया है। इसके पीछे उद्देश्य यह है कि आम जनता को खाद्यान्न की कमी के चलते कालाबाजारी का सामना नहीं करना पड़े। रेलवे बोर्ड के अधिकारियों ने बताया कि 22 मार्च से सभी यात्री ट्रेन रद हैं, लेकिन मालगाडिय़ों के जरिए देशभर में आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति निरंतर की जा रही है। इसके बावजूद कई राज्यों में दूध,खाना पकाने का तेल, नमक, चीनी, सब्जी, फल, अनाज, खाद्य उत्पाद, दूध उत्पाद व अन्य आवश्यक वस्तुओं की कमी होने लगी है। इसके चलते असम,दिल्ली,मध्य प्रदेश,पश्चिम बंगाल आदि राज्यों ने रेलवे खाद्यान, दूध व अन्य आवश्यक खाद्य वस्तुओं की आपूर्ति करने की मांग की है। रेलवे बोर्ड ने मालगाडिय़ों के अतिरिक्त नई स्पेशल पार्सल ट्रेन चलाने की हरी झंडी दे दी। जिन रूट पर स्पेशल पार्सल ट्रेन चलाई जा रही हैं, उन पर कभी इस प्रकार की ढुलाई का काम नहीं किया गया है। उदाहरण के लिए गुजरात के पालनपुर से स्पेशल दूध कैंटर ट्रेन चलाई जा रही है जो कि दिल्ली व आंध्र प्रदेश के रेनूगंटा तक जाएगी। इससे गुजरात में होने वाला दूध उत्पादन खराब नहीं होगा, वहीं दिल्ली व आंध्र प्रदेश में दूध की कमी नहीं होगी। दुग्ध उत्पादन से भरी पार्सल ट्रेन कनकरिया (गुजरात) से कानपुर व संक्रील के लिए चलाई जा रही है। ो