Tel: 0542 - 2393981-87 | Mail: ajvaranasi@gmail.com


१०० से ज्यादा एसएमएस करने पर अब नहीं कटेंगे पैसे,बदलेंगे नियम

नयी दिल्ली। दूरसंचार क्षेत्र के नियामक ट्राई ने दैनिक 100 एसएमएस के ऊपर भेजे जाने वाले प्रत्येक एसएमएस पर 50 पैसे की तय दर से लिये जाने वाले शुल्क को वापस लेने का प्रस्ताव किया है। ट्राई ने नवंबर 2012 को जारी आदेश में अनचाहे संदेशों की समस्या को दूर करने के लिये न्यूनतम 50 पैसे का शुल्क अधिसूचित किया था। ट्राई ने टलिकम्युनिकेशन टैरिफ (65वें संशोधन) आदेश 2020 के मसौदे में कहा कि टेलिकॉम कामर्शियल कम्युनिकेशन कस्टूमर प्रीफेरेंस रेगुलेशन 2018 को प्रारम्भ करने के साथ यह महसूस किया गया कि एसएमएस के लिये नियमन शुल्क की जरूरत नहीं रह गई है। इस बात को ध्यान में रखते हुये टेलिकम्युनिकेशन टैरिफ (65वां संशोधन) आदेश 2020 का मसौदा इससे पहले टेलिकम्युनिकेशन टैरिफ (54वें संशोधन) आदेश में शुरू किये गये एसएमएस शुल्क से जुड़े नियामकीय प्रावधानों को वापस लेने का प्रस्ताव करता है। ट्राई ने 65वें संशोधन के मसौदे पर सभी संबद्ध पक्षों से उनके सुझाव और टिप्पणियां देने के लिये तीन मार्च अंतिम तिथि रखी है जबकि 17 मार्च जवाबी टिप्पणी के लिये अंतिम तिथि होगी।
------------------------
कोर्टने की सीबी आई की खिंचाई

पूछा-अस्थाना का लाइ डिटेक्टर टेस्ट क्यों नहीं कराया
नयी दिल्ली (एजेंसी)। दिल्ली की एक अदालत ने बुधवार को सीबीआई से पूछा कि एजेंसी के पूर्व विशेष निदेशक राकेश अस्थाना का उसने मनोवैज्ञानिक एवं लाइ डिटेक्टर परीक्षण क्यों नहीं करवाया। गौरतलब है कि रिश्वतखोरी के एक मामले में अस्थाना को हाल में क्लीन चिट दी गयी। इसके साथ ही सीबीआई के विशेष न्यायाधीश संजीव अग्रवाल ने शुरुआत में जांच करने वाले अधिकारी अजय कुमार बस्सी को 28 फरवरी को अदालत में पेश होने का निर्देश दिया। इस मामले में सीबीआई की जांच पर अदालत ने पिछले सप्ताह बुधवार को नाराजगी जाहिर की थी और पूछा था कि जिन आरोपियों की इसमें बड़ी भूमिका है वे खुले क्यों घूम रहे हैं जबकि जांच एजेंसी अपने खुद के डीएसपी को गिरफ्तार कर चुकी है। सीबीआई ने अस्थाना और डीएसपी    देवेंद्र कुमार को 2018 में गिरफ्तार किया गया था और बाद में उन्हें जमानत दे दी गयी थी। दोनों को मामले में आरोपी बनाने के पर्याप्त सबूत नहीं होने के कारण इनके नाम आरोपपत्र के कॉलम 12 में लिखे गये थे। सीबीआई ने हैदराबाद के कारोबारी सतीश सना की शिकायत के आधार पर अस्थाना के खिलाफ मामला दर्ज किया था। मीट कारोबारी मोइन कुरैशी के खिलाफ 2017 के मामले में सना पर भी जांच चल रही है।