Mob: +91-7905117134,0542 2393981-87 | Mail: info@ajhindidaily.com


चक्रवर्तीके 'चक्रव्यूह' में फंसी दिल्ली

राणा- सुनील नारायनका विस्फोटक अद्र्धशतक
अबुधाबी। नीतिश राणा (८१) और हरफनमौला सुनील नारायण (६४) के अद्र्धशतकों और दोनों के बीच चौथे विकेट के लिए की गयी ११५ रन की साझेदारी के बाद वरूण चक्रवर्ती (५-२०) की फिरकी की बदौलत कोलकाता नाइट राइडर्स ने शनिवार को यहां इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) मैच में दिल्ली कैपिटल्स को ५९ रन से पराजित कर दिया। पिछले मैच में आरसीबी के खिलाफ महज ८४ रन पर सिमटकर हार का सामना करने वाली कोलकाता नाइट राइडर्स (केकेआर) ने इस जीत से शानदार वापसी की। उसके अब ११ मैचों में १२ अंक हो गये हैं जिससे वह चौथे स्थान पर बनी हुई है। केकेआर ने २० ओवर में छह विकेट पर १९४ रन का बड़ा स्कोर खड़ा किया जिसके जवाब में दिल्ली कैपिटल्स की टीम २० ओवर में नौ विकेट पर १३५ रन ही बना सकी। 
लक्ष्य का पीछा करने उतरी दिल्ली को पहला झटका पारी की पहली ही गेंद पर लगा जिसमें कमिंस ने अजिंक्य रहाणे को पगबाधा आउट किया। दूसरा झटका भी इसी आस्ट्रेलियाई ने दिया जब पिछले दो मैचों में शतक जडऩे वाले शिखर धवन (छह) तीसरे ओवर में उनकी गेंद पर बोल्ड हो गये। इससे दिल्ली ने भी पावरप्ले में केकेआर की तरह दो विकेट गंवाकर ३६ रन बनाये। केकेआर ने अपनी गेंदबाजी से दबाव बनाये रखा जिससे दिल्ली कैपिटल्स का १० ओवर के बाद स्कोर ६४ रन ही हो सका। टीम को ६६ गेंद में १३७ रन बनाने थे। कप्तान श्रेयस अय्यर और ऋषभ पंत के बीच तीसरे विकेट के लिये ६३ रन की साझेदारी बनी पर वरूण चक्रवर्ती ने आते ही अपने पहले ओवर में पंत को आउट किया और फिर दूसरे ओवर में लगातार गेंदों पर अय्यर और शिमरोन हेतमायेर (१०) के विकेट झटक लिये। ऋषभ पंत ने ३३ गेंदों पर दो चौके और एक छक्के की मदद से २७ और अय्यर ने ३८ गेंदों पर पांच चौके की सहायता से ४७ रन की पारी खेली। वरूण चक्रवर्ती को अपना चौथा विकेट मार्कस स्टोइनिस के रूप में मिला जो उनकी लेग कटर पर लांग आफ में राहुल त्रिपाठी को कैच देकर आउट हुए और इसी ओवर में उन्होंने 'रांग उनÓ पर अक्षर पटेल (नौ) को बोल्ड किया।  दिल्ली इसके बाद मैच से बाहर हो चुकी थी। इसके बाद रविचन्द्रन अश्विन (१४) को छोड़कर दिल्ली कैपिटल्स का कोई बल्लेबाज दहाई का आंकड़ा नहीं छू सका जिससे दिल्ली कैपिटल्स की टीम २० ओवर में नौ विकेट पर १३५ रन ही बना सकी। वरुण चक्रवर्ती ने चार ओवर में २० रन देकर पांच विकेट चटकाये। चक्रवर्ती इस सत्र में पांच विकेट झटकने वाले पहले गेंदबाज बने। पैट कमिंस ने चार ओवर में १७ रन देकर तीन विकेट हासिल किये जबकि लाकी फर्गुसन को एक विकेट मिला। दिल्ली कैपिटल्स के कप्तान श्रेयस अय्यर ने टास जीत कर कोलकाता नाइट राइडर्स (केकेआर) को पहले बल्लेबाजी का न्यौता दिया। टीम ने नितिश राणा को शुभमन गिल के साथ पारी का आगाज करने के लिये भेजा लेकिन उसने पावरप्ले में गिल और राहुल त्रिपाठी के विकेट गंवा दिये। दोनों नोर्जे की गेंदों पर पवेलियन लौटे। जिससे छह ओवर बाद टीम का स्कोर दो विकेट पर ३६ रन हो गया। शुभमन गिल (नौ)अक्षर पटेल के हाथों कैच कराया तो राहुल त्रिपाठी (१३) को उन्होंने बोल्ड कर दिया। दो विकेट जल्दी गिर जाने के बाद अब दिनेश कार्तिक के कंधों पर पारी को संकट से उबारने की बड़ी जिम्मेदारी आन पड़ी। उम्मीद थी कि कार्तिक इस कसौटी पर खरे उतरेंगे पर ऐसा हो न सका और दिनेश कार्तिक केवल तीन रन बना कर कागिसो रबादा की गेंद पर विकेट के पीछे ऋषभ पंत को कैच देकर पवेलियन लौट गये। टीम ने तीसार विकेट आठवें ओवर में खोया जब स्कोर ४२ रन था। अब मैदान पर बाायें हाथ के दोनों बल्लेबाज नितिश राणा और सुनील नरायन थे। दोनों ही इस सत्र में अपने बल्ले से कुछ खास नहीं कर सके थे। आज उनके पास मौका था कि वे अपनी टीम के लिए बड़ी पारी खेले। इसमें वे सफल रहे। राणा तो पहले से ही विकेट थे ऐसे में उनकी आंखे जम चुकी थी जबकि सुनील नरायण ने आते ही यह बता दिया कि आज उनका बल्ला चलेगा। यही हुआ भी और राणा संग नरायण तेजी से टीम के लिए रन बटोरने लगे। दोनों ने दिल्ली के गेंदबाजों की खबर लेनी शुरू कर दी जिससे टीम पर से दबाव हट गया और खतरनाक समझ में आ रहे गेंदबाज इन दोनों के लिए सामन्य से नजर आने लगे। कप्तान अय्यर ने इस जोड़ी को तोडऩे के लिए अपने तरकश के सभी तीर आजमाये पर एक काम न आ सका और ये दोनों निर्वाध गति से रन बनाते रहे। इस बीच राणा ने आईपीएल में अपना १०वां अद्र्धशतक १३वें ओवर की अंतिम गेंद को चौके के लिये भेजकर ३५ गेंद में सात चौके और एक छक्के से पूरा किया। इधर सुनील नारायन ने भी १५वें ओवर में आईपीएल में अपना चौथा अद्र्धशतक जड़ दिया जिसके लिये उन्होंने केवल २४ गेंद का सामना किया और पांच चौके और तीन छक्के लगाये। नारायन और राणा ने ४५ गेंद में १०० रन की साझेदारी भी पूरी की। पर कागिसो रबाडा ने दोनों के बीच ५६ गेंद में ११५ रन की साझेदारी का अंत नारायन को रहाने के हाथों कैच करा कर किया। सुनील ६४ रन की अपनी पारी के लिए ३२ गेंदें खेली और छह चौके और चार छक्के लगाये। राणा अंतिम ओवर में स्टोइनिस की शार्ट गेंद को ऊंचा खेलने की कोशिश में तुषार देशापांडे को कैच देकर आउट हुए। यह पांचवीं गेंद थी और अगली ही गेंद पर कप्तान इयोन मोर्गन (१७ रन, नौ गेंद, दो चौका, एक छक्का)  भी बाहर जाती बाउंसर पर गेंद छुआकर रबाडा को कैच दे बैठे इससे केकेआर २०० का आंकड़ा नहीं छू सका और टीम २० ओवर में छह विकेट पर १९४ रन बनाने में सफल रही। राणा ने ८१ रन के लिए ५३ गेंदें खेली और १३ चौका और एक छक्का लगाया। नोत्र्जे, रबादा और स्टोइनिस ने दो-दो विकेट आपस में बांटे।

पंजाबने लगाया जीतका चौका
१२७ रन का छोटा लक्ष्य भी हासिल नहीं कर सकी सनराइजर्स
दुबई। क्रिकेट अनिश्चतताओंका खेल है यह एक बार फिर चरितार्थ हुआ। १६ ओवर तक जो सनराइजर्स हैदराबाद आसानीसे जीतकी ओर बढ़ रही थी ३.५ ओवरमें उसके हार गले लग गयी। किंग्स इलेवन पंजाबने यहां आईपीएल के मुकाबले में हारते-हारत १३ रन से जीत दर्ज कर ली। पंजाब की इस जीतमें अहम भूमिका निभाई क्रिस जार्डन (तीन विकेट) और अर्शदीप (तीन विकेट) ने जिससे पंजाब अपने छोटे लक्ष्यका बचाव करनेमें सफल रहा। पंजाबके २० ओवरमें सात विकेटपर १२६ रनके जवाबमें सनराइजर्सकी टीम वार्नर  और बेयरस्टोसे मिली तेज शुरुआतके बावजूद १९.५ ओवरमें ११४ रन पर सिमट गयी। पंजाबकी ११ मैचों में यह पांचवीं जीत है। १२७ रनके छोटे लक्ष्य के सामने डेविड वार्नरने जानी बेयरस्टो के साथ मिल कर सनराइजर्स हैदराबाद को तेज शुरुआत दी।  पावर प्लेमें ही सनराइजर्सके खाते में ५२ रन आ गये। सातवां ओवर लेकर आये रवि बिश्नोई ने अपनी दूसरी गेंदपर डेविड वार्नर को केएल राहुलके हाथों कैच करा सनराइजर्सको पहला झटका दे दिया। वार्नरने २० गेंदोंपर तीन चौके और दो छक्केकी सहायता से ३५ रन बनाये थे और टीमका स्कोर ५५ रन था। स्कोर में अभी तीन ही रन और जुड़ा था कि  बेयरस्टो मुरूगन अश्विनकी गेंद पर बोल्ड हो गये। बेयरस्टोने चार चौके की मदद से १९ रन बनाये। अब्दुल समद (सात) भी जल्द ही पवेलियन लौट गये। उन्हें मोहम्मद शमीने अपना शिकार बनाया। सनराइजर्सको तीसरा झटका ६७ रन पर लगा। अब मैदानपर पिछले मुकाबलेकी विजेता मनीष पाण्डेय और विजय शंकरकी जोड़ी मैदानमें थी लेकिन १२ रनके अन्दर तीन विकेट गिर जानेसे तेज गति े चल रहा स्कोर बोर्ड काफी सुस्त हो गया। विजय और मनीषने १६ ओवरमें टीम का स्कोर १०० रन पहुंचा दिया। इसी स्कोरपर ३३ रनकी साझेदारी कर मनीष पाण्डेय विजय शंकरका साथ छोड़ गये। २९ गेंदोंपर १५ रनकी पारी खेलने वाले मनीषने जार्डनकी गेंद छक्केके लिए खेलीपर स्थानापन्न जगदीश सुचितने हवामें लहराते हुए इसे कैचमें बदल दिया। विजय शंकर को रन लेते समय चोट लगी। जिससे उनका आत्मविश्वास डिगा और अर्शदीपकी अगली गेंदपर ही वे राहुल को कैच देकर पवेलियन लौट गये। विजय ने २६ रन बनाये जिसमें चार चौका शामिल था। यहीसे कहानी बदल गयी और सनराइजर्सकी ओर जाता मैच पंजाबकी ओर लौट आया। इसमें बड़ी भूमिका निभायी जार्डन और अर्र्शदीपने। दोनों ने लगातार दो गेंद पर दो विकेट लेकर सनराइजर्स की कमर तोड़ दी और हैदराबाद की टीम १९.५ ओवरमें ११४ रन पर सिमट गयी।  जार्डन ने १७ और अर्शदीप ने २३ रन देकर तीन-तीन विकेट लिया। टास हार कर पहले खेलने को बाध्य किंग्स इलेवन पंजाबकी टीम इससे पहले जीत की हैटट्रिक लगा वापसीका संकेत दे चुकी थीपर आज उसका वो पावर नदारत था। कप्तान केएल राहुल और मनदीप सिंहकी सलामी जोड़ी से टीम को साधारण शुरुुआत मिली पर समय-समयपर लगातार झटके लगनेसे टीम कभी भी संभल नहीं सकी। राहुल और मनदीप जब मैदानपर उतरे तो टीमका लक्ष्य यही था कि बड़ा लक्ष्य सनराइजर्स हैदराबाद के सामने रखेंगे। पांचवें ओवर तक पंजाब अपने इस उद्देश्य में सफल होती नजर आयी लेकिन इसी ओवरमे संदीप शर्माने इस उम्मीदपर मनदीप सिंह (१७) को राशिद खान के हाथों कैच करा ब्रेक लगा दिया। इसके बाद राहुलका साथ देने क्रिस गेल आये। गेंलने आते ही आक्रामक रुख अख्तियार कर दो चौके और एक छक्का जड़ा पर गेल बड़ी पारी नहीं खेल सके। जब वे २० गेंदों पर दो चौके और एक छक्केकी मदद से २० रनपर थे उसी समय होल्डरने उन्हें वार्नरके हाथों कैच करा दिया। पंजाब को दूसरा झटका ६६ रन पर लगा। अगले ही ओवरमें राशिद खान ने केएल राहुलको चलता कर पंजाब को ६६ रन पर ही तीसरा झटका दे दिया। राहुलने २७ गेंदोंपर दो चौके और एक छक्के की मदद से २७ रन की पारी खेली। दो विकेट दो गेंद पर गिर जाने से पंजाब की टीम दबाव में आ गयी जिससे निकालने का जिम्मा निकोलस पूरन  और ग्लैन मैक्सवेल के कंधों पर आ गया। लेकिन मैक्सवेल टीमको एक बार फिर मझधारमें छोड़ गये और १२ रन बना  संदीप शर्मा शिकार हो गये। दीपक हुड्डा को राशिद खान ने खाता खोलने से पहले ही बेयरस्टो के हाथों स्टंप करा दिया। इधर लगातार विकेट गिरते जा रहे थे और  धर पूरन एक छोर संभाले हुए थे लेकिन विकटों के गिरने के सिलसिले के चलते वे बड़ा स्ट्रोक नहीं खेल पा रहे थे। आखिरमें उन्होंने जरूर कुछ बड़े स्ट्रोक लगाये जिससे पंजाब का स्कोर २० ओवर में सात विकेट पर १२७ रन तक पहुंच सका। निकोलस पूरन ने२८ गेदों पर दो चौके की मदद से अजेय ३२ रन बनाये। राशिद खान ने चार ओवर में १४ रन देकर दो विकेट लिए। संदीप शर्मा और जेसन होल्डर ने भी दो-दो खिलाडिय़ों को पवेलियन लौटाया।
रायल चैलेंजर्स बेंगलोर की नजर प्लेआफ पर
जीतकी भटकी राह तलाशेगी सीएसके
दुबई (एजेन्सियां)। इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) के ११ में से आठ मुकाबलोंमें हारका सामना करनेके बाद टूर्नामेंटसे बाहर होनेकी कगारपर पहुंच चुकी चेन्नई सुपर किंग्स (सीएसके) की कोशिश रविवारको रायल चैलेंजर्स बेंगलोर (आरसीबी) के खिलाफ जीत दर्ज कर सम्मान हासिल करनेकी होगी। सीएसकेके नाम ११ मैचोंमें छह अंक है और टीम अपने तीनों मैचोंको बड़े अंतरसे जीत कर प्लेआफ में अगर-मगरके फेरके साथ पहुंच सकती है। इसके लिये दूसरी टीमोंके नतीजे भी उसके मुताबिक होने चाहिये। आईपीएलकी तीन बारकी चैम्पियन टीम मौजूदा सत्रमें हर विभागोंमें संघर्ष कर रही है। युवा खिलाडिय़ों पर भरोसा नहीं जतानेके लिए टीमके कप्तान महेन्द्र सिंह धोनीकी आलोचना भी हुई। सीएसकेने मुंबई इंडियंसके खिलाफ युवा ऋतुराज गायकवाड़ और नारायण जगदीशन को अंतिम ११ में शामिल किया लेकिन दोनों बल्लेबाज खाता खोले बिना आउट हो गये। शुक्रवारको मुंबई इंडियन्सके खिलाफ सैम करन के अलावा टीमका कोई भी बल्लेबाज नहीं चल सका। ट्रेंट बोल्ट और जसप्रीत बुमराहकी शानदार गेंदबाजीके आगे सीएसके पावरप्ले पांच विकेटपर सिर्फ २१ रन बना सका। टीमके गेंदबाज भी कोई प्रभाव छोडऩे में नाकाम रहे और उसे पहली बार १० विकेटकी हारका सामना करना पड़ा। सैम करनने टूर्नामेंट के ११ मैचों में १७३ रन और १० विकेट लिये है। उनके अलावा कोई भी खिलाड़ी निरंतर प्रदर्शन नहीं कर सका। रायल चैलेंजर्स बेंगलोर १४ अंकके साथ तालिकामें तीसरे स्थान पर है। पहले और दूसरे स्थानपर काबिज दिल्ली कैपिटल्स और मुंबई इंडियन्सके नाम भी इतने ही अंक है। आरसीबीकी कोशिश इस मैचमें दो अंक हासिल करनेके अलावा नेट रनरेट सुधारने पर होगी जिससे टीमको प्लेआफमें फायदा हो सके। कोहलीकी टोली राजस्थान और कोलकाताके खिलाफ लगतार दो जीत दर्जकर शानदार लयमें है। राजस्थानके खिलाफ डिविलियर्सने अपने बूते टीमको जीत दिलायी तो वही केकेआरके खिलाफ  सिराजने कातिलाना गेंदबाजीकी। मौरिस, उदाना और सैनीकी तेज गेंदबाजों की तिकड़ी के अलावा वाशिंगटन सुंदर और युजवेन्द्र चहल जैसे स्पिनरों की मौजूदगी टूर्नामेंट में काफी असरदार साबित हुई है।
 डिविलियर्स के अलावा कोहली और युवा सलामी बल्लेबाज देवदत्त पडिक्कल भी शानदार लय में है। इस सत्र में दोनों टीमों के बीच पिछले मुकाबले में आरसीबी ने सीएसके को ३७ रन से हराया था। 
चेन्नई सुपर किंग्स-महेंद्र सिंह धोनी (कप्तान, विकेटकीपर), मुरली विजय, अंबाती रायुडु, फाफ डु प्लेसिस, शेन वाटसन, केदार जाधव, रवींद्र जडेजा, लुंगी एनगिडी, दीपक चाहर, पीयूष चावला, इमरान ताहिर, मिशेल सेंटनर, जोश हेजलवुड, शार्दूल ठाकुर, सैम करन, एन जगदीशन, केएम आसिफ, मोनू कुमार, आर साई किशोर, रुतुराज गायकवाड़, करन शर्मा। 
रायल चैलेंजर्स बेंगलोर-विराट कोहली (कप्तान), एबी डिविलियर्स, पार्थिव पटेल, आरोन फिंच, जोश फिलिप, क्रिस मौरिस, मोइन अली, मोहम्मद सिराज, शाहबाज अहमद, देवदत्त पडिक्कल, युजवेंद्र चहल, नवदीप सैनी, डेल स्टेन, पवन नेगी, शिवम दुबे, उमेश यादव, गुरकीरत सिंह मान, वाशिंगटन सुंदर, पवन देशपांडे, एडम जंपा। 
राजस्थानके सामने मुम्बईकी मजबूत दीवार
अबुधाबी (एजेन्सियां)। गत चैम्पियन मुंबई इंडियंस रविवारको यहां होने वाले इंडियन प्रीमियर लीग मैचमें राजस्थान रायल्सके खिलाफ अपने दबदबे भरे प्रदर्शनको जारी रखना चाहेगी, हालाकि उसके लिये कप्तान रोहित शर्माकी फिटेनस चिंताका विषय बनी होगी। वहीं राजस्थान रायल्सकी टीमको टूर्नामेंटमें बने रहनेके लिये इस मैचमें जीत दर्ज करना जरूरी होगा। चेन्नई सुपर किंग्सके खिलाफ १० विकेटकी जीतसे मुंबईने फार्ममें वापसी की जबकि इससे पिछले मैचमें वह किंग्स इलेवन पंजाबसे सुपर ओवरमें हार गयी थी। वहीं दूसरी ओर राजस्थान रायल्सको पिछले मैचमें सनराइजर्स हैदराबादसे आठ विकेटसे शिकस्त झेलनी पड़ी। अंक तालिकामें शीर्षपर चल रही मुंबई इंडियंस प्ले आफमें पहुंचनेकी ओर है लेकिन राजस्थानके लिये यह मैच काफी अहम है जो सातवें स्थानपर है और एक और हार उसे बाहर होनेके करीब पहुंचा देगी। लेकिन सवाल यही होगा कि रोहित रविवारको इस मैचके लिये उपलब्ध होंगे या नहीं, जो हैमस्ट्रिंग चोटके कारण चेन्नई सुपर किंग्सके खिलाफ मैच नहीं खेले थे। रोहितकी अनुपस्थिति हालांकि शुक्रवार को महसूस नहीं की गयी क्योंकि युवा ईशान किशनने चेन्नई सुपर किंग्सके गेंदबाजोंके खिलाफ शानदार प्रदर्शन कर नाबाद ६८ रन बनाये। ऐसा ही क्विंटन डि काक ने भी किया जिन्होंने अपनी अच्छी फार्म जारी रखते हुए नाबाद ४६ रन बनाये। अगर रोहित रविवारको उपलब्ध नहीं हो पाते हैं तो ये दोनों फिर से पारीका आगाज करेंगे। मुंबईका मध्यक्रम भी रन जुटा रहा है, चाहे वह सूर्यकुमार यादव  हों हार्दिंक पंड्या हों वेस्टइण्डीजके विस्फोटकर आल राउंडर कीरोन पोलार्ड या फिर कृणाल पंड्या हों। अपनी धाकड़ बल्लेबाजीकी वजहसे पंड्या बंधु और पोलार्ड किसी भी प्रतिद्वंद्वीके लिये खतरा हैं। मुंबई इंडियंसके गेंदबाज भी बेहतरीन गेंदबाजी कर रहे हैं विशेषकर बायें हाथके तेज गेंदबाज बोल्ट और बुमराह जो शुरू के साथ डेथ ओवरोंमें भी खतरनाक हैं। दोनोंने मिलकर ३३ विकेट चटकाये हैं जबकि आस्ट्रेलियाई कूल्टर नाइल ने इन दोनोंका बखूबी साथ दिया है। स्पिनर क्रुणाल और राहुल चाहर भी मध्यके ओवरोंमें काफी आक्रामक रहे हैं जिन्होंने रनोंकी रफ्तार रोकनेके अलावा विकेट भी चटकाये हैं। राजस्थानके लिये सबसे बड़ी चिंता शीर्षक्रमका अच्छा नहीं करना और कप्तान स्टीव स्मिथकी फार्म हैं जिन्होंने ११ मैचोंमें २६५ रन बनाये हैं। पूरे सत्र में राजस्थानने शीर्षक्रममें लगातार बदलाव किये हैं जिसका उन्हें काफी नुकसान हुआ।