Tel: 0542 - 2393981-87 | Mail: ajvaranasi@gmail.com


विश्व टेस्ट चैम्पियनशिप ही सबसे बड़ी क्रिकेट स्पर्धा: कोहली

वेलिंगटन (एजेन्सियां)। भारतीय कप्तान विराट कोहली ने वल्र्ड टेस्ट चैम्पियनशिप को आईसीसी की सभी प्रतियोगिताओं में सबसे बड़ी स्पर्धा करार दिया। खेल की शीर्ष संचालन संस्था आईसीसी ने २०२३-२०३१ तक अगले आठ साल के चक्र के दौरान ज्यादा से ज्यादा सफेद गेंद के टूर्नामेंट जोडऩे की योजना बना रही है। आईसीसी के प्रस्तावित २०२३-२०३१ भविष्य दौरा कार्यक्रम (एफटीपी) चक्र के अनुसार २०२४ और २०२८ में टी२० चैम्पियंस कप, २०२५ और २०२९ में वनडे चैम्पियंस कप, २०२६ और २०३० में टी२० विश्व कप तथा २०२७ और २०३१ में वनडे विश्व कप निर्धारित किया गया है। भारतीय कप्तान ने शुक्रवार से न्यूजीलैण्ड के खिलाफ शुरू होने वाले पहले टेस्ट से पूर्व कहा, मुझे लगता है कि आईसीसी टूर्नामेंट में विश्व टेस्ट चैम्पियनशिप को सबसे शिखर पर होना चाहिए। मेरे लिए सभी अन्य टूर्नामेंट इसके बाद आते हैं। यह शायद इन सभी में सबसे बड़ा है क्योंकि हर टीम लॉड्र्स में होने वाले फाइनल में जगह बनाना चाहती है। हम भी अलग नहीं है। कोहली ने कहा, हम इसके करीब हैं। हम सुनिश्चित करना चाहते हैं कि हम जल्द से जल्द इसमें क्वालिफाई कर जाएं और हमारा ध्यान क्वालिफाई करने के बजाय उस चैम्पियनशिप को जीतने पर लगा हो। इसमें कोई शक नहीं कि विश्व टेस्ट चैम्पियनशिप ने पारंपरिक प्रारूप में थोड़ी प्रतिद्वंद्विता ला दी है, जिससे मुकाबले और अधिक रोमांचक हो गए हैं क्योंकि इसमें अंक दिये जाते हैं। कोहली ने कहा, इसने टेस्ट क्रिकेट को और अधिक रोमांचक बना दिया है और हमने ऐसा ही अनुभव किया है, हालांकि हमने ज्यादा मैच विदेशी सरजमीं पर नहीं खेले हैं। वेस्टइंडीज में दो मैच ही खेले हैं। हमने टेस्ट चैम्पियशिप के नाते ऑस्ट्रेलिया का दौरा नहीं किया है। यह घरेलू सत्र शुरू होने के बाद से हमारा पहला दौरा है। भारतीय कप्तान विराट कोहली खुद को क्रिकेट के तीनों प्रारूपों में तीन साल तक कड़े परिश्रम के साथ खेलने के लिए तैयार कर रहे हैं जिसके बाद वह बदलाव के दौर में अपने काम के बोझ को थोड़ा हल्का कर सकते हैं। दुनिया के सर्वश्रेष्ठ बल्लेबाजों में गिने जाने वाले कोहली अगले तीन साल में टी-२० वाली दो और ५० ओवर वाली एक विश्वकप शृंखला के साथ भारतीय क्रिकेट की एक बड़ी तस्वीर देखते हैं जिसके बाद वह तीनों प्रारूपों में से किन्हीं दो में खेलने का फैसला कर सकते हैं। जब कोहली से पूछा गया कि क्या भारत में २०२१ के विश्वकप टी-२० के बाद कम से कम एक प्रारूप को छोडऩे के बारे में फिर से विचार कर रहे हैं तो उन्होंने कहा, मेरी सोच बड़ी तस्वीर वाली है जहां मैं खुद को अब से तीन साल की कड़ी मेहनत के लिए तैयार कर रहा हूं। उन्होंने साफगोई से स्वीकार किया कि थकान और काम के बोझ का प्रबंधन ऐसे मुद्दे हैं जिन पर हर फोरम पर बातचीत होनी चाहिए। कोहली ने कहा, करीब आठ साल से मैं हर साल ३०० दिन खेल रहा हूं, जिसमें यात्रा और अभ्यास सत्र भी शामिल हैं। इस साल ३१ वर्ष के हो रहे भारतीय क्रिकेट कप्तान ने माना कि बीच बीच में छुट्टियां लेना उनके लिए कारगर रहा है। उन्होंने कहा, ऐसा नहीं है कि खिलाड़ी हर वक्त इसके बारे में नहीं सोचते। हम व्यक्तिगत रूप से कई ब्रेक लेते हैं भले ही मैचों के कार्यक्रम के बीच हमें इसकी गुंजाइश नहीं लगती हो। यह बात उन लोगों के लिए खासतौर पर लागू है जो हर तरह के प्रारूप में खेलते हैं। कोहली के लिए यह केवल उनके प्रदर्शन की बात नहीं है बल्कि नेतृत्व की भी बात है जिसके लिए उन्हें हर समय रणनीति बनाने के मकसद से दिमाग को आराम की जरूरत होगी।
बार्सिलोना स्पेन मास्टर्स में सायना की विजयी शुरुआत
बार्सिलोना (एजेन्सियां)। भारतीय महिला बैडमिंटन खिलाड़ी सायना नेहवाल ने यहां जारी बार्सिलोना स्पेन मास्टर्स में विजयी शुरुआत करते हुए दूसरे दौर में प्रवेश कर लिया जबकि एचएस प्रणॉय और पारुपल्ली कश्यप पहले राउंड में बाहर हो गए। पांचवीं सीड सायना ने टूर्नामेंट के महिला एकल के पहले राउंड में वल्र्ड नंबर-४२ जर्मनी की यूवोने ली को ३५ मिनट में २१-१६, २१-१४ से हराकर अगले दौर में प्रवेश किया। वल्र्ड नंबर-18 सायना की ली के खिलाफ करियर की यह पहली भिड़ंत थी। पुरुष एकल में प्रणॉय पहले राउंड में हारकर बाहर हो गए। मलेशिया के डेरेन ल्यू ने प्रणॉय को 21-18 21-15 से मात दी। इस जीत के साथ ही डेरेन ने प्रणॉय के खिलाफ अपना करियर रिकॉर्ड 2-3 कर लिया है। दूसरे दौर में डेरेन का सामना फ्रांस के लुकास कोर्वी से होगा। कश्यप को अपने पहले राउंड में ब्राजील के यगोल कोइलहो के खिलाफ बीच में ही मुकाबला छोडऩा पड़ा। कश्यप के रिटायर्ड होने से कोइलहो को अगले दौर में जाने का मौका मिल गया। कश्यप ने जिस समय मुकाबला छोड़ा उस समय कोइलहो के खिलाफ उनका 9-21 21-18 14-12 का स्कोर था। इस बीच, मिश्रित युगल में प्रणव जैरी चोपड़ा और एन सिक्की रेड्डी की जोड़ी ने पहले दौर में मैथियास क्रिस्टियन और एलेक्जेंड्रा बोजे को 56 मिनट में 10-21 21-16 21-17 से हराकर अगले दौर में प्रवेश किया। अगले दौर में भारतीय जोड़ी का सामना टॉप सीड मलेशिया के गोह सून हुआत और लाइ शेवोन जेमी की जोड़ी से होगा।
खेल सकते हैं इशांत और पृथ्वी

न्यूजीलैण्डके विरुद्ध पहला टेस्ट
वेलिंगटन (एजेन्सियां)। भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान विराट कोहली ने बुधवार को संकेत दिए कि सीनियर पेसर इशांत शर्मा और युवा सलामी बल्लेबाज पृथ्वी साव न्यूजीलैण्ड के खिलाफ पहले टेस्ट मैच में अंतिम एकादश में शामिल हो सकते हैं। रविचंद्रन अश्विन अकेले विशेषज्ञ फिरकी गेंदबाज हो सकते हैं जबकि रविंद्र जडेजा की हरफनमौला प्रतिभा को भी नजरअंदाज नहीं किया जा सकता है। इशांत शर्मा रणजी ट्रोफी के दौरान टखने में चोट लगने के बाद तीन सप्ताह से टीम से बाहर थे। उन्होंने नेट में सधी गेंदबाजी की और बल्लेबाजों को गति एवं उछाल से हैरान कर उन्होंने सराहना भी बटोरी। भारतीय क्रिकेट टीम ने न्यूजीलैण्ड के खिलाफ पहले टेस्ट मैच से पहले प्रैक्टिस सेशन में भाग लिया। दो मैचों की सीरीज का पहला मुकाबला २१ फरवरी से खेला जाएगा। विराट कोहली की कप्तानी वाली भारतीय टीम वनडे इंटरनैशनल में ०-३ से हारने के बाद अपने हुनर मांज रही है। सीरीज का दूसरा मैच २९ फरवरी को खेला जाएगा। कैप्टन कोहली ने संवाददाताओं से कहा, वह (इशांत) बिल्कुल सामान्य दिखे और चोट लगने से पहले की तरह ही गेंदबाजी करते दिखे। वह फिर से अच्छी जगहों पर गेंद डालने लगे हैं। वह पहले भी न्यूजीलैण्ड में टेस्ट क्रिकेट खेल चुके हैं, अत: उनका अनुभव हमारे लिए लाभदायक होगा। उन्हें अच्छी गति से गेंदबाजी करते और अच्छी जगहों पर गेंद डालते देखना वास्तव में सुखद है। कप्तान ने कहा कि टीम साव की नैसर्गिक बल्लेबाजी में बदलाव नहीं करना चाहेगी। यह इस बात के स्पष्ट संकेत हैं कि शुभमन गिल को बेंच पर बैठे रहना पड़ सकता है। कोहली ने कहा, पृथ्वी एक प्रतिभावान खिलाड़ी है और उसके पास खेलने का अपना तरीका है। हम चाहेंगे कि वह अपना सहज खेल जारी रखे और नैसर्गिक तरीके से खेलता रहे। इन लड़कों के ऊपर किसी भी तरीके से बेहतर प्रदर्शन करने जैसा कोई बोझ नहीं है। कोहली ने कहा, उन्हें विदेश में अच्छा खेलने को लेकर कोई घबराहट नहीं है। मयंक ने जिस तरह से ऑस्ट्रेलिया में प्रदर्शन किया था, पृथ्वी भी न्यूजीलैण्ड में ठीक वैसा कर सकता है। उन्होंने कहा, बिना डर के खेलने वाले कुछ खिलाडिय़ों का होना पूरी टीम का मनोबल बढ़ाता है, इससे हमें ऐसी शुरुआत मिलती है जो टीम चाहती है और विपक्ष से किसी भी तरह से इसपर असर नहीं पड़ता है। कप्तान ने तीन मैचों की वनडे इंटरनैशनल में भारत के खराब प्रदर्शन को परे हटाने की कोशिश की। उन्होंने कहा, पृथ्वी, मुझे लगता है कि आप उसे अपेक्षाकृत कम अनुभवी कह सकते हैं, और मयंक, मैं उसे कम अनुभवी कहना पसंद नहीं करूंगा क्योंकि उसने पिछले साल काफी रन बनाए हैं। इसलिए वह समझते हैं कि टेस्ट क्रिकेट में किस तरह का खेल दिखाना होता है। भारतीय कप्तान विराट कोहली ने कहा है कि भारतीय टीम दुनिया में कहीं भी किसी भी टीम का सामना कर सकती है। भारतीय कप्तान ने कहा, हम अपनी ताकत पर ध्यान देते हैं, इस बात से कोई फर्क नहीं पड़ता कि सामने वाली टीम में कितना धैर्य और संयम है। मुझे लगता है कि अपनी फिटनेस और एकाग्रता से हम जिस स्तर की तैयारी करते हैं, हम किसी भी टीम का सामना कर सकते हैं। उन्होंने कहा, मुझे लगता है कि सफेद गेंद के खेल में हम बहुत कुछ करने की कोशिश करते हैं, लेकिन जब आप लाल गेंद वाली क्रिकेट खलते हैं, आप अनुशासित बल्लेबाजी करने लगते हैं, जो निश्चित तौर पर इस अवस्था में उसके ऊपर ठीक लगता है।
एशिया कप टी-२० की मेजबानी छोड़ सकता है पाकिस्तान

पीसीबी प्रमुखने दिया संकेत
कराची (एजेन्सियां)। पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड (पीसीबी) प्रमुख ने बुधवार को संकेत दिया कि शायद देश इस साल एशिया कप टी२० टूर्नामेंट के लिये अपने मेजबानी अधिकार छोड़ सकता है। नेशनल स्टेडियम में पाकिस्तान सुपर लीग ट्राफी लांच के मौके पर बात करते हुए मनी ने कहा कि एशिया कप के स्थल पर फैसला एशियाई क्रिकेट परिषद (एसीसी) में सभी शेयरधारकों की राय के हिसाब से किया जायेगा। मनी ने कहा, हमें सुनिश्चित करना होगा कि एसोसिएट सदस्यों की कमाई प्रभावित नहीं हो। यह पूर्ण सदस्यों के बारे में नहीं है बल्कि एसोसिएट सदस्यों के बारे में है। एसीसी को मार्च के पहले हफ्ते में मिलना है और मनी ने कहा कि इसमें एशिया कप के स्थलों और अन्य जानकारियों को अंतिम रूप दिया जायेगा। भारत ने टूर्नामेंट के लिये पाकिस्तान की यात्रा करने से इनकार कर दिया था और तटस्थ स्थल पर मैच खेलने की बात कही थी।
युवा खिलाड़ी ही हमारी ताकत-स्मृति

नयी दिल्ली (एजेन्सियां)। फरवरी से शुरू हो रहे आईसीसी वुमंस क्रिकेट विश्व कप में भारतीय टीम भी बड़ी दावेदार बनकर उभर रही है। टीम की स्टार ओपनर स्मृति मंधाना ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ होने वाले ओपनिंग मुकाबले से पहले कहा कि टीम में युवा चेहरों की भरमार होने से अलग ही एनर्जी दौड़ रही है। टीम की औसत उम्र २३साल है जबकि चार ऐसे प्लेयर हैं जोकि टीनएर्ज हैं। ऐसे में स्मृति ने कहा कि इस बार कुछ नया देखने को मिलेगा। यह मजेदार होने वाला है। हमारे युवा खिलाड़ी हमारी ताकत बनकर उभरेंगे। स्मृति ने कहा- पिछले एक या दो वर्षों से टीम बेहतर हुई है। हालांकि मैं यह नहीं कहूंगा कि हम पहले के वर्षों में ठीक नहीं थे लेकिन जब से टीम में यंग ब्लड आया है यहां एक अलग ही ऊर्जा दौड़ रही है। युवा खिलाड़ी नई सोच के साथ आते हैं। उनके पीछे कुछ भी नहीं होता है। वे बहुत निडर हैं, उन पर बहुत दबाव नहीं है। उन्हें लगता है कि विश्व कप किसी अन्य मैच की तरह है। यही बात उनको खास बनाती है। बता दें कि टीम इंडिया को इस बार १९ साल की जेमिमा रोड्रिग्ज से खास उम्मीदें होंगी। इसके अलावा पिछले सितंबर में टीम इंडिया के साथ जुड़ी हरलीन देओल पर भी नजरें रहेंगी। १६ साल की रिचा घोष, १६ की शैफाली वर्मा भी धमाल मचाने को तैयार हैं। टीम इंडिया अपना पहला मैच ऑस्ट्रेलिया के साथ खेलेगी। अगर टीम जीती तो सेमीफाइनल तक उनकी राह आसान हो जाएगी। भारतीय टीम की औसत उम्र २३ साल से कम है। ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ शुक्रवार को टूर्नमेंट से पहले मंधाना ने मजाक करते हुए कहा कि जहां तक मजा लेने की बात है तो केवल पदार्पण करने वाली थाइलैंड की टीम ही उन्हें चुनौती दे सकती है। आईसीसी के मुताबिक मंधाना ने कहा, यह ग्रुप सचमुच जानता है कि चीजों का आनंद कैसे उठाना है। यह युवा खिलाडिय़ों को सहज बनाने की बात है और मैं भी उनके साथ ऐसी बन गई हूं। हमने काफी डांस किया, काफी गाने गाए और काफी चीजें कीं। उन्होंने कहा, मुझे लगता है कि हम विश्व कप की सबसे खुश मिजाज टीम हैं।
इस गेंदबाज की वजह से खौफ में न्यूजीलैंड

बोले टेलर
वेलिंग्टन। न्यूजीलैंड टीम के अनुभवी बल्लेबाज रॉस टेलर ने अपनी टीम को आगाह करते हुए कहा है कि मेजबान टीम को सिर्फ भारत के जसप्रीत बुमराह पर ही ध्यान नहीं देना होगा, बल्कि अन्य गेंदबाजों पर भी ध्यान देना होगा। दोनों टीमों के बीच दो मैचों की टेस्ट सीरीज की शुरुआत शुक्रवार से हो रही है। बुमराह ने हालांकि सीमित ओवरों की सीरीज में न्यूजीलैण्ड के खिलाफ ज्यादा प्रभावित नहीं किया था. तीन मैचों की वनडे सीरीज में तो वह एक भी विकेट नहीं ले पाए थे और इसी कारण आईसीसी रैंकिंग में उन्हें नुकसान हुआ था। भारत को हालांकि ईशांत शर्मा की वापसी से बल मिलेगा, जो पिछले सप्ताह टेस्ट सीरीज के लिए फिट घोषित कर दिए गए हैं। वह हाल ही में वेलिंग्टन में टीम के साथ जुड़े गए हैं। ईशांत को रणजी ट्रॉफी के मैच में टखने में चोट लग गई थी। टेलर ने बुधवार को संवाददाताओं से कहा, मुझे लगता है कि अगर हम सिर्फ बुमराह को देखेंगे, तो समस्या में पड़ जाएंगे. मुझे लगता है कि उनकी पूरी गेंदबाजी लाइन-अप शानदार है। जाहिर सी बात है कि शर्मा की वापसी हुई है जो टीम को नए आयाम देंगे। उन्होंने कहा, उनके पास विश्व स्तरीय बल्लेबाजी आक्रमण भी है। हमें उससे भी निपटना होगा। हमें सफल होने के लिए अपना बेहतर खेल खेलना होगा। रॉस टेलर सभी प्रारूपों में १०० मैच खेलने वाले पहले क्रिकेटर बनने से महज दो दिन दूर हैं। वह तीन हफ्ते बाद अपना ३६वां जन्मदिन मनाएंगे और अब तक २३१ वनडे और १०० टी२० अंतरराष्ट्रीय मैचों में हिस्सा ले चुके हैं। अपनी उपलब्धि के बारे में टेलर ने कहा, कभी कभार यह सिर्फ रन जुटाना नहीं होता, बल्कि आप एक व्यक्ति के तौर पर इस दौरान विफलताओं से कैसे निपटते हो, यह भी मायने रखता है। आप साथी खिलाड़ी के तौर पर अपनी ट्रेनिंग कैसे करते हो। उन्होंने कहा, कभी कभार ये नकारात्मक चीजें ही आपको मजबूत और ताकतवर बनाती हैं और टेस्ट खिलाड़ी के तौर पर आपमें इन्हीं चीजों की जरूरत होती है।
पहले टेस्टसे नील वैगनर बाहर
डेढ़ सौ किमी प्रति घंटेसे गेंद फेंकने वाला हेनरी टीममें
वेलिंगटन (एजेन्सियां)। न्यूजीलैण्ड ने भारत के खिलाफ शुक्रवार से शुरू हो रही दो मैचों की टेस्ट सीरीज के लिए तेज गेंदबाज मैट हेनरी को टीम में शामिल करने का फैसला किया है। न्यूजीलैण्ड क्रिकेट बोर्ड ने बुधवार को ट्वीट कर यह जानकारी दी। ट्वीट के मुताबिक हेनरी बुधवार शाम को वेलिंगटन पहुंचेंगे और शुक्रवार २१ फरवरी से शुरू हो रहे पहले टेस्ट के लिए मेजबान टीम से जुड़ेंगे। हेनरी को तेज गेंदबाज नील वैगनर के विकल्प के तौर पर टीम में शामिल करने का फैसला किया गया है। वैगनर जल्द ही पिता बनने वाले हैं इसलिए पहले टेस्ट मैच के लिए अंतिम एकादश में शामिल नहीं हो सकते। वैगनर पत्नी के साथ अपने पहले बच्चे के जन्म का इंतजार कर रहे हैं और बच्चे के जन्म तक वह तौरंगा शहर में ही रहेंगे। वैगनर के विकल्प के तौर पर कीवी टीम में शामिल किये गये हेनरी ट्रेंट बोल्ट, टिम साउदी और काइल जैमिसन के साथ मिलकर मेजबान टीम की गेंदबाजी को और अधिक धार देंगे। हेनरी अब तक १२ टेस्ट खेल चुके हैं जिसमें उन्होंने ३० विकेेट हासिल किए हैं। विश्व कप २०१९ के सेमीफाइनल में भारत के खिलाफ मिली जीत में हेनरी ने तीन विकेट लेकर महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी। गौरतलब है कि न्यूजीलैण्ड ने वनडे सीरीज में भारत के खिलाफ ३-० से क्लीनस्वीप किया था, जबकि ट्वंटी-२० सीरीज में उसे ५-० से करारी हार का सामना करना पड़ा था। मैट हैनरी अपनी तेज गेंदबाजी के लिए जाने जाते हैं और उनकी औसत स्पीड १४० कि.मी प्रतिघंटा है। वह अपनी तेज गेंदबाजी से भारत को विश्व कप सेमीफाइनल में बड़ा झटका दे चुके हैं। टेस्ट सीरीज में भी वह अपनी गति से भारत के बल्लेबाजों को परेशान कर सकते हैं।
पाकिस्तानी पहलवानोंकी टीम अब तक नहीं पहुंची

एशियाई कुश्ती चैम्पियनशिप
नयी दिल्ली (एजेन्सियां)। एशियन रेसलिंग चैंपियनशिप के लिए पाकिस्तानी पहलवानों की टीम अभी तक भारत नहीं पहुंची है। टीम को १८ फरवरी को पहुंचना था लेकिन अभी तक उसका कोई अता पता नहीं है। रेसलिंग फेडरेशन और यूनाइटेड वल्र्ड रेसलिंग को भी इस बात की जानकारी नहीं है कि आखिर पाकिस्तानी खिलाड़ी कहां हैं। चार पाकिस्तान पहलवानों के अलावा एक रेफरी और एक कोच को एशियन चैंपियनशिप में भाग लेने के लिए भारत आना था। १८-२३ फरवरी के बीच चलने वाली इस चैंपियनशिप के लिए पाकिस्तानी खिलाडिय़ों को वीजा भी मिल गया था लेकिन इसके बावजूद वे अभी तक यहां नहीं आए हैं। रेसलिंग फेडरेशन ऑफ इंडिया के असिस्टेंट सेक्रेटरी विनोद तोमर ने कहा कि हमें कुछ भी जानकारी नहीं है। वहीं आयोजन से जुड़े एक अधिकारी ने कहा कि उनके अनुसार टीम को १८ फरवरी को भारत आना था लेकिन वह अभी तक नहीं पहुंची है और न ही उन्हें इस बात की जानकारी है कि टीम कब आएगी। बता दें २२ और २३ फरवरी को पाकिस्तान के मैच प्रस्तावित हैं। हालांकि पाकिस्तान रेसलिंग फेडरेशन के एक अधिकारी ने बताया कि पाकिस्तानी टीम इस चैंपियनशिप में हिस्सा लेगी और उसके पहलवान गुरुवार को वाघा बॉर्डर के रास्ते भारत पहुंचेंगे। पुलवामा हमले के बाद दोनों देशों के बीच तनाव के बाद पहली बार कोई पाकिस्तानी खेल दल भारत आ रहा है। इसमें मोहम्मद बिलाल (५७ किलोग्राम), अब्दुल रहमान (७४ किलोग्राम), तैयब रजा (९७ किलोग्राम), जमां अनवर (१२५ किलोग्राम) भारवर्ग में भाग लेना था। डब्ल्यूएफआई के सहसचिव विनोद तोमर ने रविवार को कहा था कि महासंघ के सामूहिक प्रयास के बाद पाकिस्तानी पहलवानों को वीजा मुहैया कराया गया है।