Tel: 0542 - 2393981-87 | Mail: ajvaranasi@gmail.com


फिर चकमा देकर भागी हनीप्रीत

नयी दिल्ली (एजेंसी)। राम रहीम की खास समझी जानी वाली और कथित तौर पर मुंहबोली बेटी हनीप्रीत इंसां ने एक बार फिर पुलिस को चकमा दे दिया है। इस बार हनीप्रीत ने दो राज्यों की पुलिस को छका दिया है। बताया जा रहा है कि सटीक सूचना के बाद हनीप्रीत को पकडऩे के लिए हरियाणा और राजस्थान की पुलिस ने श्रीगंगानगर में राम रहीम के पैतृक घर को घेर रखा था। पुलिस को वहां हनीप्रीत नहीं मिली। ऐसे में सवाल यह है कि क्या पुलिस के पहुंचने से पहले ही हनीप्रीत वहां से निकल गई या सूचना ही गलत थी? मीडिया रिपोट्र्स के मुताबिक पुलिस को सूचना मिली थी कि हनीप्रीत श्रीगंगानगर के गुरुसर मोडिया स्थित राम रहीम के गांव में मौजूद है। इस सूचना के बाद हरियाणा पुलिस ने राजस्थान पुलिस के बाद राम रहीम के पैतृक मकान को घेर लिया। मीडिया रिपोट्र्स में बताया गया कि हनीप्रीत राम रहीम के परिवार के साथ इसी घर में मौजूद है।  हालांकि बाद में सूचना मिली कि हनीप्रीत यहां भी नहीं मिली। गौरतलब है कि दो साध्वियों से रेप मामले में डेरा सच्चा सौदा चीफ राम रहीम को २० साल की सजा सुनाने के बाद पूरे हरियाणा हुई हिंसा और हत्या मामले में राज्य पुलिस ने मोस्ट वॉन्टेड की लिस्ट निकाली है। इस लिस्ट में राम रहीम की मुंहबोली बेटी हनीप्रीत इंसां का नाम टॉप पर है। हरियाणा पुलिस दूसरे राज्यों की पुलिस के साथ मिलकर हनीप्रीत की गिरफ्तारी के लिए लगातार देशभर में दबिश दे रही है।  हनीप्रीत की तलाश में महाराजगंज में भारत नेपाल सीमा पर भी सघन तलाशी अभियान जारी है। पुलिस सूत्रों ने बताया कि केंद्र और राज्य की खुफिया एजेंसियों के अधिकारी यहां पिछले कुछ दिनों से डेरा डाले हुये हैं और सीमा पर होने वाली प्रत्येक गतिविधि पर कड़ी नजर रखे हुये हैं।
-------------
पूर्व न्यायाधीश, ४ अन्य गिरफ्तार
नयी दिल्ली। केंद्रीय जांच ब्यूरो(सीबीआई) ने भ्रष्टाचार के एक मामले में ओडिशा उच्च न्यायालय के पूर्व न्यायाधीश इशरत मसरूर कुद्दुसी और चार अन्य को गिरफ्तार किया है। सीबीआई के सूत्रों ने आज यह जानकारी दी। यह गिरफ्तारी कल आठ स्थानों पर विस्तार से छापेमारी के बाद देर रात की गई। इस दौरान ग्रेटर कैलाश में न्यायमूर्ति (सेवानिवृत्त) कुद्दुसी के आवास की भी तलाशी ली गई थी। सीबीआई सूत्रों ने बताया कि मामले में गिरफ्तार हुए अन्य व्यक्तियों में लखनऊ में एक मेडिकल कॉलेज चलाने वाले प्रसाद एजुकेशनल ट्रस्ट के बीपी यादव और पलाश यादव, एक बिचौलिया विश्वनाथ अग्रवाल और हवाला कारोबारी रामदेव सारस्वत शामिल हैं। सीबीआई के प्रवक्ता ने कहा, गिरफ्तार किये गये आरोपियों को आज अदालत में पेश किया जायेगा। प्रवक्ता ने कल बताया था कि एक मेडिकल कालेज को नये छात्रों को प्रवेश देने से रोके जाने के मामले को कथित तौर पर रफा दफा करने के लिए उनके खिलाफ मामला दर्ज किया गया है।