Tel: 0542 - 2393981-87 | Mail: ajvaranasi@gmail.com


पेट्रोल-डीजलकी बढ़ती कीमतोंमें ठहराव नहीं

नयी दिल्ली (आससे.)। देश में पेट्रोल-डीजल की बढ़ती कीमतों से आम आदमी को राहत मिलती नहीं दिख रही। सोमवार को दोनों ईंधनों के दाम लगातार पाँचवें दिन बढ़ाये। राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में पेट्रोल 15 पैसे चढ़कर   82.06 रुपये प्रति लीटर पर और डीजल छह पैसे चढ़कर 73.78 रुपये प्रति लीटर पर पहुँच गया। यहाँ पेट्रोल पहली बार 82 रुपये के पार निकला है। देश की वाणिज्यिक राजधानी मुंबई में पेट्रोल 15 पैसे और डीजल सात पैसे महँगा हुआ तथा इनके दाम क्रमशरू 89.44 रुपये और 78.33 रुपये प्रति लीटर पर रहे। कोलकाता में पेट्रोल की कीमत 15 पैसे बढ़ी और यह 83.91 रुपये प्रति लीटर के भाव बिका। वहाँ डीजल छह पैसे महँगा होकर 75.63 रुपये प्रति लीटर पर रहा। चेन्नई में पेट्रोल 16 पैसे महँगा होकर 85.31 रुपये और डीजल छह पैसे महँगा होकर 78 रुपये प्रति लीटर के भाव बिका।
------------------

वामपंथी कार्यकर्ताओंकी नजरबंदी बढ़ी
नयी दिल्ली (आससे.)। उच्चतम न्यायालय ने भीमा कोरेगांव हिंसा मामले में गिरफ्तार पांचों कार्यकत्र्ताओं की नजरबंदी की अवधि बढ़ा दी है। शीर्ष अदालत ने इनकी आजादी की रक्षा करने का आश्वासन देते हुये कहा है कि वह १९ सितम्बर को पुणे पुलिस के पास उनके खिलाफ दर्ज रिकार्ड देखेगा।वामपंथी कार्यकत्र्ताओं की गिरफ्तारी के खिलाफ इतिहासकार रोमिला थापर व पांच अन्य लोगों की याचिका पर सुनवाई करते हुये न्यायालय ने कहा कि रिकार्ड देखने के बाद अदालत तय करेगी कि इसमें दखल की जरूरत है या नहीं। न्यायालय ने कहा कि अगर पुलिस के दस्तावेजों में कुछ नहीं मिला तो इन लोगों के खिलाफ दर्ज की गयी प्राथमिकी को रद्द कर सकते हैं। याचिका में प्रो. सुधा भारद्वाज, वामपंथी विचारक वरवर राव, अधिवक्ता अरूण फरेरा, मानवाधिकार कार्यकत्र्ता गौतम नवलखा और वर्नन गोंजाल्विस की गिरफ्तारियों को चुनौती दी गयी है। शीर्ष अदालत के आदेश पर पांचों कार्यकत्र्ताओं को नरजबंद किया गया है। उल्लेखनीय है कि महाराष्ट्र पुलिस ने पिछले साल ३१ दिसम्बर को एलगार परिषद के बाद भीमा कोरेगांव में हुयी हिंसा के सिलसिले में इन लोगों को दर्ज प्राथमिकी के आधार पर बीते २८ अगस्त को गिरफ्तार किया था। शीर्ष अदालत ने इन कार्यकत्र्ताओं को ६ सितम्बर तक अपने घरों में ही नजरबंद करने का आदेश देते हुये कहा था कि लोकतंत्र में असहमति सेफ्टी वाल्व है।

इसके साथ ही न्यायालय ने नजरबंदी की अवधि आज तक के लिये बढ़ा दी थी। आज इस अवधि को एक बार फिर से १९ सितम्बर तक के लिये बढ़ा दिया।