Tel: 0542 - 2393981-87 | Mail: ajvaranasi@gmail.com


अब राष्टरपतिके भाषणपर घमासान

महात्मा गांधी की तुलना पंडित दीन दयाल से करनेपर कांग्रेस का फूटा आक्रोश
नयी दिल्ली (आससे)। नवनिर्वाचित राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के शपथ ग्रहण समारोह के बाद उनके द्वारा पढ़े गये भाषण को लेकर कांग्रेस ने आज राज्यसभा में जबर्दस्त हंगामा किया। कांग्रेस को यह बात बेहद नागवार गुजरी कि राष्ट्रपति ने राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की तुलना पंडित दीन दयाल उपाध्याय से कैसे कर दी।
आज राज्यसभा में कांग्रेस नेता आनंद शर्मा ने नियम २६७ के तहत इस मुद्दे पर चर्चा कराने के लिये दिये गये नोटिस का जिक्र करते हुये मांग की कि सरकार चर्चा कराये। इस पर नेता सदन अरूण जेटली ने कड़ा एतराज जाहिर करते हुये कहा कि विपक्ष सस्ती लोकप्रियता हासिल करने के लिये स्थगन प्रस्ताव का दुरुपयोग कर रहा है। कांगे्रस के सदस्य इस टिप्पणी पर हंगामा करने लगे और जेटली की बातों को कार्यवाही से निकालने की मांग की।  हंगामे की वजह से सदन की कार्यवाही को कई बार स्थगित करना पड़ा। हालांकि पक्ष-विपक्ष में नोक-झोंक के बीच उपसभापति पीजे कुरियन ने शर्मा से कहा कि वह अपना मुद्दा उठायें।
शर्मा ने कहा कि राजग सरकार  महात्मा गांधी, जवाहर लाल नेहरू और यहां तक की इंदिरा गांधी तक को छोटा दिखाने की लगातार कोशिश कर रही है। कुरियन ने शर्मा की बात सुनने के बाद उनका नोटिस खारिज कर दिया। इस पर जेटली ने कहा कि हर मामले में हम देखते हैं कि ये मुद्दे ऐसे नहीं हैं, जिन्हें नियम २६७ के तहत उठाया जाय, लेकिन यह हो रहा है। उन्होंने कहा कि परंपरा का लगातार उल्लंघन किया जा रहा है। आसन को उस सिद्धांत से निर्देशित होना चाहिये कि शून्यकाल का इस्तेमाल टीवी कैमरों के लाभ के लिये कोई न कर पाये। यह लगभग हर दिन हो रहा है। साथ ही उन्होंने सुझाव दिया कि शर्मा ने जो कुछ भी कहा है उसे कार्यवाही से निकाल दिया जाना चाहिये। मालूम हो कि रामनाथ कोविंद ने बीते मंगलवार को राष्ट्रपति पद की शपथ लेने के बाद अपने भाषण में राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के साथ पंडित दीन दयाल उपाध्याय का जिक्र किया था। कांग्रेस को इसी पर आपत्ति थी। पार्टी का आरोप था कि भाजपा ने महात्मा गांधी औरपंडित जवाहर लाल नेहरू का अपमान किया है।
---------------
सदन में कार्यवाही का वीडियो बनाने पर भाजपा सांसद को कड़ी चेतावनी
नयी दिल्ली (आससे)।संसद में मोबाइल से वीडियो रिकार्डिंग करने के मुद्दे पर आज लोकसभा अध्यक्ष ने भाजपा सांसद अनुराग ठाकुर को चेतावनी दी। इसके साथ ही ठाकुर ने अपना स्पष्टीकरण देते हुये वीडियो रिकार्डिंग के लिये खेद व्यक्त किया।  मालूम हो कि बीते सोमवार को गो-रक्षा के नाम पर देश के विभिन्न हिस्सों में बढ़ रहे हमलों और हत्याओं के मुद्दे उठाते हुये कांग्रेस के सांसदों ने सदन में जब हंगामा किया और अध्यक्ष सुमित्रा महाजन पर कागज के टुकड़े फेंके तो अनुराग ठाकुर ने इसका वीडियो बना लिया। मामला सामने आने पर कांग्रेस सचेतक केसी वेणुगोपाल ने सुमित्रा महाजन को एक पत्र लिखकर कहा कि सदन की कार्यवाहियों की वीडियो रिकार्डिंग नियमों के तहत प्रतिबंधित है। उन्होंने कहा कि हम सदन की कार्यवाहियों की गरिमा की संरक्षण के लिये तत्काल कार्रवाई करने का अनुरोध करते हैं। उन्होंने अपने पत्र में आम आदमी पार्टी के सांसद भगवंत मान से जुड़े इसी तरह के मामले का हवाला देते हुये अनुराग ठाकुर के खिलाफ तत्काल कड़ी कार्रवाई की मांग की थी। उल्लेखनीय है कि मान द्वारा वीडियो बनाने का मामला सामने आने के बाद लोकसभा अध्यक्ष ने उनको सदन की कार्यवाही में भाग लेने से रोक दिया था और पूरे मामले की जांच के लिये एक कमेटी बनायी थी। आज अनुराग ठाकुर ने अपना स्पष्टीकरण देते हुये जब घटना के लिये खेद व्यक्त किया तो अध्यक्ष सुमित्रा महाजन ने कहा कि आपको चेतावनी दी जाती है कि भविष्य में ऐसा न करें।