Tel: 0542 - 2393981-87 | Mail: ajvaranasi@gmail.com


शेयर बाजार सात महीनेके निचले स्तरपर

मुंबई। अंतर्राष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमतों में उछाल से घरेलू शेयर बाजारों में गुरुवार को चौतरफा बिकवाली देखी गयी और बीएसई का सेंसेक्स 470.41 अंक यानी 1.29 प्रतिशत टूटकर 01 मार्च के बाद के निचले स्तर 36,093.47 अंक पर आ गया। कारोबार के दौरान एक समय सेंसेक्स 36 हजार अंक के मनोवैज्ञानिक स्तर से नीचे उतर गया था। पिछले साढ़े छह महीने में यह पहला मौका है जब सूचकांक 36 हजार से नीचे उतरा है। नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी 135.85 अंक यानी 1.25 प्रतिशत की गिरावट में 10,704.80 अंक पर आ गया जो 19 फरवरी के बाद का इसका निचला स्तर है। मझौली और छोटी कंपनियों पर भी दबाव रहा। बीएसई का मिडकैप 1.15 प्रतिशत लुढ़ककर 13,285.34 अंक पर और स्मॉलकैप 1.48 प्रतिशत टूटकर 12,703.27 अंक पर बंद हुआ। बिकवाली का जोर इस प्रकार रहा कि बीएसई में जिन 2,628 कंपनियों के शेयरों में कारोबार हुआ उनमें 1,790 के शेयर गिरावट में और 722 के बढ़त में बंद हुये जबकि 116 कंपनियों के शेयर दिन भर के उतार-चढ़ाव के बाद अंतत: अपरिवर्तित बंद हुये। सेंसेक्स की कंपनियों येस बैंक के शेयर सबसे ज्यादा 15.52 प्रतिशत टूटे जबकि टाटा मोटर्स में 1.97 फीसदी की तेजी रही। सऊदी अरब की सरकारी तेल कंपनी सऊदी अरामको के दो संयंत्रों पर हुये ड्रोन हमले के बाद उसके तेल भंडार में गिरावट की आशंका से कच्चे तेल के दाम आज तीन प्रतिशत तक बढ़ गये। इससे ऊर्जा और तेल एवं गैस समूहों की कंपनियों पर सबसे ज्यादा दबाव रहा। बैंकिंग, धातु, रियलिटी और बुनियादी वस्तुओं के सूचकांक भी डेढ़ फीसदी से अधिक टूटे। विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों (एफपीआई) के भारतीय पूँजी बाजार से पैसा निकालने से भी घरेलू शेयर बाजार पर दबाव बढ़ा। एफपीआई ने आज 13.07 करोड़ डॉलर के शेयरों की बिकवाली की।
कमजोर मांगसे सोना-चांदीमें गिरावट

नयी दिल्ली। आभूषण निर्माताओं की ओर से ग्राहकी कमजोर रहने से दिल्ली सर्राफा बाजार में सोना लगातार दूसरे दिन कमजोर पड़ा और गुरुवार को 25 रुपए टूटकर 38,545 रुपए प्रति दस ग्राम पर आ गया। चांदी भी 725 रुपए लुढ़ककर 46,775 रुपए प्रति किलाग्राम के भाव पर बंद हुई। अमेरिकी फेडरल रिजर्व द्वारा नीतिगत ब्याज दरों में 0.25 प्रतिशत की कटौती के बाद विदेशों में आज पीली धातु में तेजी देखी गई। हालांकि फेड ने भविष्य के रुख के बारे में मिश्रित संकेत दिये हैं। इस बार की काटौती का फैसला भी सर्वसम्मति से नहीं हुआ। लंदन और न्यूयॉर्क से मिली जानकारी के अनुसार, सोना हाजिर 4.55 डॉलर चढ़कर 1,497.55 डॉलर प्रति औंस पर पहुँच गया। हालांकि, दिसंबर का अमेरिकी सोना वायदा 10.80 डॉलर की गिरावट के साथ 1,505 डॉलर प्रति औंस बोला गया। चांदी हाजिर 0.01 डॉलर की बढ़त में 17.17 डॉलर प्रति औंस पर रही।
संसार का पहला लेजर टैंक प्रिंटर लॉन्च

कंप्यूटर, लैपटॉप व प्रिंटर आदि बनाने वाली प्रमुख कंपनी एचपी इंक ने संसार का पहला लेजर टैंक प्रिंटर लॉच किया है। स्मार्ट प्रिंटिंग टेक्नोलॉजी से लैस यह प्रिंटर छोटे व मझोले कारोबारियों को ध्यान में रख कर बनाया गया है। एचपी इंडिया ने इसकी लॉचिंग पर बोला कि यह संसार का पहला नेवरस्टॉप लेजर टैंक प्रिंटर है। इससे लेजर प्रिंटिंग की लागत में करीब 80 प्रतिशत की कमी आ रही है। आम तौर पर लेजर प्रिंटिंग की लागत 2.50 रुपए प्रति पेज आती है, लेकिन इस नए प्रिंटर में यह घटकर 29 पैसे प्रति पेज हो जाएगी। एचपी लेजर 1000 सीरीज में नॉन वायरलेस की मूल्य 15,846 रुपए व वायरलेस की मूल्य 17,236 रुपए है। इसी तरह से नेवरस्टॉप लेजर एमएफपी 1200 सीरीज में नॉन वायरलेस की मूल्य 22,057 रुपए व वायरलेस की मूल्य 23,460 रुपए है।
गूगल पे ने 6.7 करोड़ मासिक यूजर्सके साथ फोनपेको पीछे छोड़ा

भारत में लांच होने के दो साल बाद गूगल के डिजिटल पेमेंट प्लेटफार्म गूगल पे ने 6.7 करोड़ सक्रिय मासिक यूजर्स के साथ फोनपे को पीछे छोड़ दिया है। फ्लिपकार्ट समर्थित फोनपे के देश में 5.5 करोड़ सक्रिय मासिक यूजर्स हैं। अपने सालाना गूगल फॉर इंडिया आयोजन के पांचवें संस्करण में गुरुवार को प्रौद्योगिकी दिग्गज ने कहा कि गूगल पे के यूजर्स अकेले पिछले 12 महीनों में तीन गुणा बढ़े हैं। गूगल पे के निदेशक (प्रोडक्ट मैनेजमेंट) अंबरीश केंघे ने एक बयान में कहा, भारत की तेजी से बढ़ती इंटरनेट अर्थव्यवस्था की सबसे बड़ी कहानी डिजिटल भुगतान का बढऩा है। भीम यूपीआई ने पिछले महीने 90 करोड़ भुगतानों का आंकड़ा पार कर लिया। भुगतानों को डिजिटल बनाने के लिए भारत वैश्विक मानक स्थापित कर रहा है। केंघे ने कहा, पिछले 12 महीनों में, गूगल पे 3 गुणा बढ़कर 6.7 करोड़ सक्रिय मासिक यूजर्स तक पहुंच गया है और सालाना आधार पर 110 अरब डॉलर का लेन-देन सैकड़ों-हजारों ऑफलाइन और ऑनलाइन व्यापारियों द्वारा किया जा रहा है। भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) की नवीनतम रिपोर्ट के मुताबिक, भारत ने पिछले चार सालों में रिटेल इलेक्ट्रॉनिक भुगतान लेन-देन में 50 फीसदी से अधिक की वृद्धि दर्ज की है।
मात्र 1100 रुपयेमें घर ले जायं होण्डाका स्कूटर
जैसे-जैसे फेस्टिव सीजन नजदीक आता जा रहा है। वैसे-वैसे ऑटो कंपनियां नए-नए ऑफर्स और डिस्काउंट पेश कर रही हैं। होंडा 2 व्हीलर्स ने भी इस बार अपने ग्राहकों के लिए कई अच्छे ऑफर्स पेश किये हैं, इस समय कंपनी ने अपने सबसे ज्यादा बिकने वाले स्कूटर एक्टिवा 5जी पर कई अच्छे ऑफर्स पेश किये हैं। होण्डा ने अपने सबसे ज्यादा बिकने वाले स्कूटर एक्टिवा पर 1100 रुपए की लो डाउन पेमेंट ऑफर के साथ जीरो परसेंट प्रोसेसिंग फीस और नो कास्ट ईएमआई जैसे ऑफर्स दे रही है। इतना ही नहीं इस स्कूटर पर 2100 रुपये की अतिरिक्त बचत भी की जा सकती है। इसके अलावा अगर आप होण्डा एक्टिवा को पेटीएम के जरिए खरीदते हैं, तो आपको 7,000 रुपए तक का कैशबैक मिलेगा। इन सभी ऑफर्स की तमाम जानकारी के लिए आप कंपनी की ऑफिशियल वेबसाइट या फिर पास के डीलरशिप पर जाकर पता लगा सकते हैं। होंडा एक्टिवा के इंजन की बात करें तो इसमें 110सीसी का 4 स्ट्रोक, फैन कूल्ड, एसआई इंजन इंजन लगा है। जो 8बीएचपी की पावर और 9एनएम का टॉर्क देता है। इसके अलावा इसमें वी-मैटिक ऑटोमैटिक ट्रांसमिशन मिल सकता है। बेहतर ब्रेकिंग के लिए इसमें होंडा का कॉम्बी ब्रेक सिस्टम दिया गया है। वही इसके फ्रंट 130एमएम ड्रम ब्रेक की सुविधा मिलेगी। होंडा का यह स्कूटर माइलेज के साथ बढिय़ा माइलेज भी देता है।
छह करोड़ पीएफ खाताधारकोंके खाते में आयेंगे ज्यादा पैसे, सरकारकी मंजूरी

नयी दिल्ली। सरकार ने 2018-19 के लिये कर्मचारी भविष्य निधि पर 8.65 फीसदी ब्याज को मंजूरी दे दी है. एक सूत्र ने यह जानकारी देते हुए कहा कि बढ़ी हुई ब्याज दर कर्मचारी भविष्य निधि संगठन के 6 करोड़ से अधिक अंशधारकों के खातों में डाली जाएगी। ईपीएफओ फिलहाल निकासी दावों का निपटान 2017-18 के लिये निर्धारित 8.55 फीसदी ब्याज पर कर रहा था। अब ईपीएफओ 2018-19 के लिये उच्च दर से 8.65 फीसदी ब्याज का भुगतान करेगा। मामले से जुड़े सूत्र ने कहा, श्रम एवं रोजगार मंत्रालय ने अपने 6 करोड़ से अधिक अंशधारकों के लिये ईपीएफ जमा पर 8.65 फीसदी ब्याज दर को अधिसूचित किया है। अब ब्याज अंशधारकों के खातों में डाल दिया जाएगा और दावों का निपटान उसी दर पर किया जाएगा। ईपीएफओ के निर्णय लेने वाला शीर्ष निकाय केंद्रीय न्यासी बोर्ड (सीबीटी) ने इस साल 21 फरवरी को पिछले वित्त वर्ष के लिये 8.65 फीसदी ब्याज दर को मंजूरी दी थी। प्रस्ताव को मंजूरी के लिये वित्त मंत्रालय के पास भेजा गया था और श्रम मंत्रालय उसकी मंजूरी का इंतजार कर रहा था। इसी सप्ताह श्रम मंत्री संतोष गंगवार ने कहा था, त्योहारों से पहले छह करोड़ से अधिक ईपीएफओ अंशधारकों को 2018-19 के लिये 8.65 फीसदी ब्याज मिलेगा। ईपीएफ ब्याज दर अधिसूचित किये जाने में देरी के बारे में मंत्री ने कहा था, वित्त मंत्री इन दिनों व्यस्त हैं. उनके पास फाइल पड़ी है। वह इससे सहमत हैं। हमने अंशधारकों के लिये 8.65 प्रतिशत ब्याज को मंजूरी दी है। यह अंशधारकों को मिलेगा। यह कुछ दिनों में हो जाना चाहिए।