Mob: +91-7905117134,8354913828 | Mail: info@ajhindidaily.com


बाजारोंमें छह दिनकी तेजीपर ब्रेक,

मुंबई। शेयर बाजारों में पिछल छह कारोबारी सत्रों से चले आ रहे तेजी के सिलसिले पर बृहस्पतिवार को ब्रेक लगा। कमजोर वैश्विक रुख के बीच निवेशकों की मुनाफावसूली से स्थानीय बाजार उतारचढ़ाव भरा रहा और अंत में प्रमुख शेयर सूचकांक नीचे आ गये। कारोबारियों ने कहा कि बैंकिंग और वित्तीय कंपनियों के शेयरों में बिकवाली तथा रुपये में गिरावट से बाजार धारणा प्रभावित हुई। बीएसई का 30 शेयरों वाला सेंसेक्स दिन में 599 अंक ऊपर-नीचे होने के बाद अंत में 128.84 अंक या 0.38 प्रतिशत के नुकसान से 33,980.70 अंक पर बंद हुआ। दिन में कारोबार के दौरान यह 34,310.14 से 33,711.24 अंक घमूता रहा। इसी तरह नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी 32.45 अंक या 0.32 प्रतिशत के नुकसान से 10,029.10 अंक पर आ गया। सेंसेक्स की कंपनियों में एशियन पेंट्स का शेयर सबसे अधिक 4.85 प्रतिशत टूट गया। बजाज फाइनेंस, एचडीएफसी, इंडसइंड बैंक, एक्सिस बैंक और कोटक महिंद्रा बैंक के शेयर भी नीचे आए। वहीं दूसरी ओर टेक महिंद्रा, सनफार्मा, भारती एयरटेल और पावरग्रिड के शेयर 5.34 प्रतिशत तक चढ़ गए। ब्याज भुगतान पर रोक संबंधी मामलें पर सुनवाई के दौरान उच्चतम न्यायालय की टिप्पणी से बैंकिंग शेयर दबाव में आ गए। उच्चतम न्यायालय ने ऋण की किस्त के भुगतान की अवधि में ब्याज माफ करने की अपील पर वित्त मंत्रालय का जवाब मांगा है। रिजर्व बैंक का कहना है कि ब्याज को जबरिया माफ करने से बैंकों की वित्तीय व्यवहार्यता प्रभावित होगी। एचडीएफसी सिक्योरिटीज के खुदरा शोध प्रमुख दीपक जसानी ने कहा, ''दुनियाभर शेयर बाजारों में जारी तेजी बृहस्पतिवार को थम गई। निवेशक यूरोपीय केंद्रीय बैंक से कोरोना वायरस की वजह से आई गिरावट के बीच और प्रोत्साहन का इंतजार कर रहे हैं।ÓÓ जसानी ने कहा कि शेयरों, तेल और मुद्रा में अच्छी बढ़त के लंबे सिलसिले के बाद अब निवेशक कुछ मुनाफा काट रहे हैं। बीएसई मिडकैप और स्मॉलकैप में 0.06 प्रतिशत की गिरावट आई। वैश्विक बाजार यूरोपीय केंद्रीय बैंक के नीतिगत फैसले से पहले 'देखो और इंतजार करोÓ की नीति अपना रहे हैं। अन्य एशियाई बाजारों में हांगकांग का हैंगसेंग, दक्षिण कोरिया का कॉस्पी और जापान का निक्की नुकसान में रहे। वहीं चीन का शंघाई कम्पोजिट लाभ में रहा। शुरुआती कारोबार में यूरोपीय बाजार नुकसान में चल रहे थे। अंतरराष्ट्रीय बेंचमार्क ब्रेंट कच्चा तेल वायदा 1.21 प्रतिशत टूटकर 39.31 डॉलर प्रति बैरल पर आ गया। अंतर बैंक विदेशी विनिमय बाजार में रुपया 10 पैसे के नुकसान से 75.57 (अस्थायी) प्रति डॉलर रहा। इस बीच, दुनियाभर में कोविड-19 के मामलों की संख्या 64.32 लाख हो गई है। इस महामारी से अब तक 3.85 लाख लोगों की जान जा चुकी है। स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार, भारत में कोरोना वायरस से मरने वालों की संख्या 6,075 पर पहुंच गई है। यहां इसके संक्रमण के मामले 2,16,919 हो गए हैं।
सोना 274 रुपये टूटा, चांदी 542 रुपये कमजोर

नयी दिल्ली। राष्ट्रीय राजधानी के हाजिर सर्राफा बाजार में बृहस्पतिवार को सोने का भाव 274 रुपये की गिरावट के साथ 47,185 रुपये प्रति 10 ग्राम रह गया। एचडीएफसी सिक्योरिटीज ने यह जानकारी दी।
बुधवार को सोना 47,459 रुपये प्रति 10 ग्राम पर बंद हुआ था। चांदी की कीमत भी 542 रुपये की हानि दर्शाती 49,558 रुपये प्रति किग्रा पर बंद हुई। इससे पिछले सत्र में चांदी 50,100 रुपये प्रति किग्रा थी।
एचडीएफसी सिक्योरिटीज के वरिष्ठ विश्लेषक (कमोडिटी) तपन पटेल ने कहा, ''दिल्ली में 24 कैरेट सोने का भाव में 274 रुपये की गिरावट देखी गई जो रुपये के कमजोर होने के बावजूद वैश्विक बाजार में कल रात सोने में आई गिरावट को दर्शाता है।
उन्होंने कहा कि लॉकडाउन में ढील के साथ भारत में धीरे-धीरे खुदरा सर्राफा दुकानें खुल रही हैं।
अंतरराष्ट्रीय बाजार में सोने का भाव लाभ के साथ 1,704 डॉलर प्रति औंस हो गया जबकि चांदी का भाव 17.62 पर लगभग अपरिवर्तित रहा।