Tel: 0542 - 2393981-87 | Mail: ajvaranasi@gmail.com


सेंसेक्स 222, निफ्टी 55 अंक गिरकर बंद

मुबई। आज के कारोबार की शुरुआत में सेंसेक्स 222.14  अंक यानि  0.58 प्रतिशत गिरकर 38,164.61 पर और निफ्टी 55.15 अंक यानि 0.48 प्रतिशत गिरकर 11,465.90  पर बंद हुआ। हफ्ते भर मजबूती के साथ कारोबार करने के बाद आखिरी कारोबारी दिन बाजार में दबाव बना। निफ्टी आज करीब 65 अंकों की कमजोरी लेकर 11460 के करीब बंद हुआ है। आज सेंसेक्स भी करीब 220 अंक टूटा तो वहीं बैंक निफ्टी में भी 250 अंकों की कमजोरी आई है। हफ्ते के आखिरी कारोबारी दिन आज बाजार में भारी उतार-चढ़ाव के बीच कारोबार हुआ। आज के कारोबार में रिलांयस, एचडीएफसी बैंक, टीसीएस और आईटीसी ने दबाव बनाया। आज बैंक निफ्टी ने 30 हजार का नया शिखर बनाया लेकिन ये ऊपरी स्तरों पर टिक नहीं पाया। 9 दिनों की चेजी के बाद आज मुनाफावसूली देखने को मिली। सरकारी बैंकों, ऑटो और तेल-गैस शेयरों में आज ज्यादा कमजोरी देखने को मिली। मिड और स्मॉलकैप शेयरों में भी आज गिरावट देखने को मिली। बीएसई का मिडकैप इंडेक्स 0.59 फीसदी गिरकर 15076.89 के स्तर पर बंद हुआ है। वहीं, स्मॉलकैप इंडेक्स 0.44 फीसदी टूटकर 14758.80 के स्तर पर बंद हुआ है। तेल-गैस शेयरों में भी आज भारी बिकवाली देखने को मिली। बीएसई का तेल-गैस इंडेक्स आज 1.25 फीसदी टूटकर बंद हुआ है। आज के कारोबार में एक समय बैंक निफ्टी ने 30 हजार का नया शिखर बनाया लेकिन ये बढ़त कायम नहीं रह सकी। कारोबार के अंत में बैंक निफ्टी 0.84 फीसदी टूटकर 29582.50 के स्तर पर बंद हुआ। आज निफ्टी के रियल्टी और इंफ्रा इंडेक्स ही हरे निशान में बंद हुए हैं। निफ्टी का रियल्टी इंडेक्स 0.62 फीसदी और इंफ्रा इंडेक्स 0.74 फीसदी की कमजोरी के साथ बंद हुआ है।
कारोबार के अंत में बीएसई का 30 शेयरों वाला प्रमुख इंडेक्स सेंसेक्स 222.14 अंक यानि 0.58 फीसदी की गिरावट के साथ 38164.61 के स्तर पर बंद हुआ है। वहीं एनएसई का 50 शेयरों वाला प्रमुख इंडेक्स निफ्टी 64.15 अंक यानि 0.56 फीसदी की कमजोरी के साथ 11456.90 के स्तर पर बंद हुआ है।
सोना 80 रुपये चमका, चांदी 270 रुपये उछली

नयी दिल्ली। वैश्विक स्तर पर दोनों कीमती धातुओं में रही तेजी से दिल्ली सर्राफा बाजार में शुक्रवार को सोना 80 रुपए चमककर 33 हजार रुपए के पार 33050 रुपए प्रति दस ग्राम पर पहुंच गया और चांदी 270 रुपए चमककर 39270 रुपए प्रति किलोग्राम बोली गई। दुनिया की अन्य प्रमुख मुद्राओं के बास्केट में डॉलर के कमजोर पडऩे से अंतर्राष्ट्रीय बाजार में पीली धातु में तेजी रही। लंदन का सोना हाजिर 4.20 डॉलर चढ़कर 1,312.55 डॉलर प्रति औंस पर रहा। अप्रैल का अमेरिकी सोना वायदा भी 4.44 डॉलर बढ़कर 1,311.7 डॉलर प्रति औंस बोला गया। विदेशी बाजारों में चांदी हाजिर 0.015 डॉलर बढ़कर 15.44 डॉलर प्रति औंस बोली गई।
 घर चलानेके लिए मां के गहने रखने पड़ रहे गिरवी-पायलट

नयी दिल्ली। जेट एयरवेज के कर्मचारियों को पिछले चार महीने सैलरी नहीं मिली है। पहले इंजीनियरिंग यूनियन और फिर पायलट यूनियन ने आवाज उठाते हुए सरकार से इस समस्या का समाधान करने की गुजारिश की है। पायलटों का कहना है कि उनकी स्थिति बहुत खराब हो रही है, वे तनाव में काम कर रहे हैं। कुछ पायलटों का कहना है कि उन्हें अपना घर चलाने के लिए मां के गहने तक गिरवी रखने पड़ रहे हैं। वहीं कुछ का कहना है कि उन्होंने शादी स्थगित कर दी है। जेट एयरवेज पर कथित तौर पर एक अरब डॉलर का कर्ज है। एयरलाइन अपने ऋणदाताओं और विमान लाइसेंस का भुगतान भी नहीं कर पा रही है और कई विमानों का संचालन रोक दिया है। बतौर पायलट दो दशक का अनुभव रखने वाले बोइंग 777 के कमांडर कैप्टन करण चोपड़ा ने कहा, 'तनाव का स्तर बढ़ता रहेगा, हम कितनी भी कोशिश कर लें और कितना भी उसे पीछे छोड़ दें। हम पूरी कोशिश करते हैं लेकिन हम भी इंसान ही हैं। पायलटों को सैलरी न मिलना एक अनुचित तनाव है और इसका तुरंत समाधान किया जाना चाहिए। कैप्टन चोपड़ा पायलट यूनियन के प्रमुख हैं और उन्होंने नागरिक उड्डयन मंत्री सुरेश प्रभु को लिखे खत में खुल कर पायलटों की बात कही है। उन्होंने कहा कि तनाव के दौर में सुरक्षा से समझौता होने की संभावना है और जिस प्रोफेशन में सबसे ज्यादा सतर्कता और सुरक्षा चाहिए, वहां यह नहीं होना चाहिए। वहीं दूसरी ओर सैंकड़ों पायलट्स ने दूसरी एयरलाइन में नौकरी के लिए संपर्क किया है। कैप्टन वालियानी ने बताया, 'अगर एयरलाइन डूबती है तो मार्केट में करीब 1500 पायलट होंगे, और मुझे नहीं लगता कि हर किसी को नौकरी मिल पाएगी। इसलिए हर कोई खुद को बचाने में लगा हुआ है। मैं इसके लिए किसी पर आरोप नहीं लगा रहा हूं। अगले कुछ दिन एयरलाइंस के भविष्य के लिए काफी अहम होंगे। पायलटों की यूनियन का कहना है कि बिना सैलरी के वे अपना परिवार नहीं चला पा रहे हैं। कैप्टन चोपड़ा ने कहा, 'पायलटों की समस्याओं को हल करें। वे बहुत कष्ट से गुजर रहे हैं।' साथ ही उन्होंने कहा, 'पायलटों को अपनी ईएमआई भरनी होती हैं। बच्चों की शिक्षा है, बुजुर्ग परिजन हैं और अस्पताल के बिल हैं। शादियां स्थगित कर दी गईं, यंग फस्र्ट ऑफिसर्स मुझे बार-बार कॉल कर रहे हैं और कह रहे हैं 'सर हमें अपनी माताओं के गहने गिरवी रखने पड़ेंगे। प्लीज हमें बचा लो। प्लीज प्रबंधन से हमारी सैलरी देने के लिए कहिए।
मेहुल चोकसीने कोर्टको सौंपी बीमारियोंकी लंबी लिस्ट

 नयी दिल्ली। भारत से करोड़ों रुपए लेकर भागे कारोबारी मेहुल चोकसी भारत वापिस न आने के कई बहाने बना रहा है। चोकसी ने मुंबई के पीएमएल कोर्ट में अर्जी देकर कहा है कि वह अपनी खराब सेहत की वजह से यात्रा कर पाने में असमर्थ है, लिहाजा उसे कोर्ट में पेश होने से छूट दी जाए। अदालत को दी गई एक मेडिकल रिपोर्ट में उसने कहा कि उसके दिमाग में खून का थक्का जमा हुआ है, उसे हाइपर टेंशन है, इसके अलावा उसे पैरों में भी दर्द है, साथ ही वह डायबिटीज का भी मरीज है।
पीएनबी घोटाले में मेहुल चोकसी पर देश का करोड़ों रुपया लेकर फरार होने का आरोप है। मेहुल चोकसी ने अदालत के सामने अपनी लंबी बीमारियों की लिस्ट सामने रखी है। इन बीमारियों में दिल की बीमारी, दिमाग की बीमारी, मोटापा, सांस लेने में परेशानी जैसी बीमारियां, आर्थराइटिस शामिल हैं। रिपोर्ट की मानें तो उसके दाहिने पैर में लंबे समय से दर्द है। इसकी वजह से उसे चलने फिरने में परेशानी है। इसके लिए उसने रेडियोग्राफी रिपोर्ट अदालत में पेश की है। पीएनबी स्कैम में जांच का सामना कर रहे मेहुल चोकसी ने पेट का अल्ट्रासाउंड भी अदालत में पेश किया है। मेहुल चोकसी ने डॉक्टरों के टेस्ट रिपोर्ट का हवाला देकर कहा है कि डॉक्टरों ने खराब सेहत देखते हुए उसे कहा है कि वो एंटीगुआ में लगातार मेडिकल सुपरविजन में रहे और किसी तरह का सफर न करे। मेहुल चोकसी की मेडिकल रिपोर्ट के मुताबिक डॉक्टरों ने उसकी हॉर्ट सर्जरी की है और उसे स्टेंट (स्ह्लद्गठ्ठह्लह्य) लगाया गया है। मेहुल चोकसी ने अपने एमआर एंजियोग्राम की रिपोर्ट भी कोर्ट में पेश की है। अदालत में पेश किए गए एक रिपोर्ट के मुताबिक डॉक्टरों ने मेहुल चोकसी की ब्रेन एमआरआई देखने के बाद कहा है कि उसे 3 से लेकर 4 महीने तक सफर करने से बचना चाहिए। रिपोर्ट के मुताबिक मेहुल चोकसी को मोटापे की बीमारी है और उसका मोटापा लेवल-थ्री स्तर तक पहुंच चुका है। इसके अलावे वह हाइपरटेंशन, दिल की बीमारी, डायबिटीज से भी जूझ रहा है।
------------------
अब आप भी सस्तेमें खरीद सकते हैं अपना घर

  नयी दिल्ली।  अपना घर हर किसी का सपना होता है लेकिन इस सपने को हकीकत में बहुत कम ही लोग बदल पाते हैं। हालांकि अब एक ऐसी योजना लॉन्?च हुई है जिसके जरिए आप भी सस्?ते में अपना घर खरीद सकते हैं। यह योजना है दिल्ली विकास प्राधिकरण (ष्ठष्ठ्र) की हाउसिंग स्कीम। इस स्?कीम के तहत दिल्?ली के कुछ खास इलाकों में लोगों को 18 हजार से ज्?यादा फ्लैट्स खरीदने का मौका मिलेगा। खास बात यह है कि ये फ्लैट्स मार्केट वैल्?यू के मुकाबले काफी सस्?ते होंगे। इनके लिए आवेदन देने की प्रक्रिया 25 मार्च से शुरू हो जाएगी। योजना के तहत बिक्री के लिए तैयार इन 18 हजार से ज्यादा फ्लैटों में अधिकतर दिल्?ली के नरेला और वसंतकुंज इलाके में हैं। इन फ्लैट्स में 7,700 आर्थिक रूप से पिछड़े , 8,300 फ्लैट्स कम आय समूह 1,550 फ्लैट्स मध्यम आय समूह  25 मार्च से शुरू होंगे आवेदन सिर्फ चार दिन बाद यानी 25 मार्च से इस नई स्कीम के लिए लोग आवेदन कर सकेंगे। आवेदन की प्रक्रिया ऑनलाइन होगी। इस स्?कीम की पूरी जानकारी पाने के लिए आप अथॉरिटी की वेबसाइट पर जा सकते हैं। आवेदन करने के लिए 1 माह से ज्यादा का समय दिया गया है। इसका ड्रॉ जून/जुलाई में निकलेगा। इसके बाद ड्रॉ के विजेताओं को फ्लैट्स का आवंटन करने की प्रक्रिया शुरू कर दी जाएगी। कोटे में आने वाले लोगों को एप्लीकेशन देने के समय 25,000 रुपए जमा कराने होंगे। कम आय समूह के लोगों को 1 के लिए 1,00,000 रुपए जमा कराने होंगे। मध्यम आय समूह और हाई इनकम ग्रुप को 2/3के लिए 2,00,000 रुपए जमा कराने होंगे। फ्लैट्स की कीमत और अन्य डिटेल्स को बुकिंगग की प्रक्रिया शुरू होने से पहले ष्ठष्ठ्र की वेबसाइट्स पर अपलोड किया जाएगा। फ्लैट खरीदारों को करीब 3 लाख रुपये तक की छूट मिलने की उम्?मीद है। हालांकि ऐसे फ्लैटों पर 5 साल का लॉकिंग पीरियड की शर्त भी जोड़ी गई है। यानी, फ्लैट खरीदार पांच साल तक फ्लैट बेच नहीं सकेंगे। अन्?य फ्लैटों पर कोई लॉकिंग पीरियड नहीं होगा।