Tel: 0542 - 2393981-87 | Mail: ajvaranasi@gmail.com


तिथि पर किया स्नान, मकर संक्रांति आज

ठिठुरा देेने वाली ठंड पर सोमवार को आस्था भारी रही। भोर से ही गंगा घाट हजारों स्नानार्थियों से पटे रहे और तिथि पर पर्व मनाने वाले लोगों ने 14 जनवरी पर ही संक्रांति मनाई। हालांकि उदयातिथि 15 जनवरी को मिलने और सोमवार को रात्रि में सूर्य के उत्तरायण होने के कारण पर्व मंगलवार को ही मनाया जायगा और इसी दिन दान-पुण्य आदि भी होगा। इसके बावजूद सोमवार को लाखों की संख्या में लोगों ने गंगा स्नान किया और श्री काशी विश्वनाथ सहित अन्य मंदिरों में दर्शन-पूजन के बाद दान-पुण्य किया। गंगा स्नान के लिये श्रद्घालुओं की भीड़ रविवार को ही नगर में आ गई थी और रात्रि में ही उन्होंने घाटों पर डेरा डाल लिया था। कुहासे और ठंड को देखते हुए घाटों पर उनकी सुविधा के लिये अलाव आदि की व्यवस्था की गई थी। इस बीच भोर में सूर्योदय से पहले ही स्नान का सिलसिला शुरू हुआ तो यह दिन चढऩे के साथ बढ़ता गया और लाखों की संख्या में लोगों ने गंगा में डुबकी लगाई। डाक्टर राजेंद्र प्रसाद घाट, शीतला घाट, दशाश्वमेध घाट, प्रयागराज घाट, सिंधिया घाट, पंचगंगा घाट, अस्सी घाट सहित काशी के प्रमुख घाटों पर स्नानार्थियों की भीड़ उमड़ी रही। स्नान के बाद उन्होंने श्री काशी विश्वनाथ सहित अन्य मंदिरों की ओर रुख किया। उनकी कतारें ज्ञानवापी से चौक और बांसफाटक के अलावा दशाश्वमेध से सरस्वती फाटक गेट नंबर दो के लिये लगी हुई थी। दूसरे प्रहर तक श्रद्घालुओं की भीड़ के कारण बाबा दरबार जाने वाली सड़कें और गलियां भक्तों से पटी रहीं। इसके बाद श्रद्घालुओं ने गरीबों, असहायों में तिल, चावल, खिचड़ी के अलावा फल, वस्त्र, द्रव्य आदि का दान करके पुण्य कमाया। इस दौरान अन्नपूर्णा मंदिर, विशालाक्षी मंदिर, काली मंदिर सहित अन्य मंदिरों में भीड़ लगी हुई थी। भीड़ को देखते हुए पहले से ही रूट डायवर्जन प्लान जारी किया गया था और इसके कारण वाहन चालकों को भी भीड़ से दिक्कत का सामना करना पड़ा। सायंकाल तक भक्तों की भीड़ मंदिरों में लगी हुई थी और मंदिरों में भी विविध आयोजन किये गये।
मकरसंक्रांति पर स्नानार्थियों में चाय वितरित
गत वर्षों की भांति इस वर्ष भी अखिल भारतीय वैश्य एकता संघ की राष्टï्रीय युवा शाखा द्वारा मकर संक्राति के अवसर पर स्नानार्थियों के लिए चाय वितरण की मुफ्त व्यवस्था की गयी थी। इस अवसर पर राष्टï्रीय अध्यक्ष कपूर चन्द्र शाह, रोहित कुमार शाह, राजेश कुमार गुप्त, शिव कुमार अग्रहरि, मानू गुप्त, संतोष गुप्त, गोपी गुप्त आदि लोगों ने सहयोग किया। कार्यक्रम की अध्यक्षता महानगर अध्यक्ष इन्द्रजीत गुप्त ने की।
संत कबीर काव्य गोष्ठïी सम्पन्न
पड़ाव स्थित 'श्री सद्ïगुरु कबीर आनन्दमठÓ में संत कबीर संगोष्ठïी, सत्संग, भजन एवं काव्य गोष्ठïी आश्रम के महंत संत आनन्द दास की अध्यक्षता में सम्पन्न हुई। संगोष्ठïी एवं काव्य गोष्ठïी में भाग लेने वालों में सर्वश्री बनवारी सिंह रवीन्द्र कुमार, अतुल श्रीवास्तव, सिद्घ नाथ शर्मा, अमर जायसवाल, राजकुमारी, शिवशंकर सिंह, आकाश उपाध्याय, आर.डी. प्रजापति आदि शामिल रहे। धन्यवाद ज्ञापन छोटू दास ने किया।
रंजिशन युवक पर चापड़ से हमला
----------------
प्रवासी भारतीय सम्मेलन का शुभारम्भ करेंगे पीएम
प्रवासी भारतीय सम्मेलन का शुभारंभ प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी २२ जनवरी को करेंगे जबकि २३ जनवरी को राष्टï्रपति श्री राम नाथ कोविंद इसका समापन करेंगे। इस अवसर पर चुने हुए प्रवासिों को राष्टï्रपति सम्मानित भी करेंगे। इस सम्मेलन में सर्वाधिक ४३२ मेहमान मलेशिया से आ रहे है इसके बाद यूएई से ३७५ मारीशस से ३४० यूएसएसे १८७ कतर से १३४ मेहमान आ रहे है। यह जानकारी सोमवार को ऐढे गांव में प्रवासी भारतीयों के लिए बने टेन्ट सिटी में आयोजित प्रेसवार्ता के दौरान मण्डलायुक्त श्री दीपक अग्रवाल एवं डीएम श्री सुरेन्द्र सिंह ने दी। उन्होंने कहाकि चार श्रेणी में मेहमानों के ठहरने के लिए व्यवस्था की गयी है। जिसमें ४५० सरस्वती काटेज बने है जिसमें प्रत्येक काटेज में दो महमान ठहर सकते है सौ वीवीआईपी मेहमानों के लिए ५० काशी विला है। इसके साथ ही १२० त्रिवेणी काटेज में ४८० प्रवासी ठहरे है इस तरह टेन्ट सिटी में कुल १४८० मेहमानों के ठहरने की व्यवस्था की गयी है। इसके अलावा होटलों में कुल १३ सौ कमरे बुक किये गये है जबकि ३१९ प्रवासी यहां के स्थानिय लोगों के यहां रुकेंगे। जिलाधिकारी ने बताया कि टेन्ट किसी में ही मेहमानों के लिए सुबह नास्ते की व्यवस्था होगी लंच एवं डीनर की व्यवस्था पण्डित दीनदयाल हस्तकला संकुल में की जायेगी। काशी में प्रवासी भारतीय सम्मेलन में आये विदेशी मेहमानों में से २९ सौ मेहमान २४ जनवरी को कुम्भ जायेंगे। इस अवसर पर सीडीओ गौरांग राठी, वीडीए उपाध्यक्ष, राजेश कुमार कैण्ट स्टेशन के निदेशक आनन्छ मोहम आदि लोग उपस्थित रहे।
धरतीका भगवान कहे जाने वाले चिकित्सकोंने मानवताको किया शर्मसार
धरती का भगवान कहे जाने वाले चिकित्सक ही अगर मानवता को तार-तार करने पर उतर जाएं तो लोगों का उन पर से भरोसा उठना स्वाभाविक है। यह बात सिद्ध होती है दीनदयाल उपाध्याय राजकीय चिकित्सालय में तैनात चिकित्सकों पर जिन्हें मरीज के उपचार में लापरवाही बरतने पर केन्द्रीय स्वास्थ्य राज्यमंत्री अनुप्रिया पटेल और सेवापुरी के विधायक नील रतन पटेल नीलू द्वारा चिकित्सकों को फटकार लगाने का खामियाजा मरीज रामदुलान पटेल ६५ वर्ष को बिना उपचार के सर सुन्दर लाल चिकित्सालय ट्रामा सेन्टर के लिए रेफर होकर भुगतना पड़ रहा है। जंसा थाना क्षेत्र के गोसाईपुर गांव निवासी राजगीर मिस्ऋी रामदुलार पटेल ६५ वर्ष की गत बुधवार को पेड़ से गिरने के कारण कूल्हे की हड्डïी टूट गयी थी। जिसके बाद परिजनों ने उसे उपचार हेतु दीनदयाल उपाध्याय राजकीय चिकित्सालय में भर्ती कराया था। यहां ड्यूटी पर तैनात डाक्टर मरीज को ट्रैक्शन किट पैर में ईंट लटकार दवा, इन्जेक्शन लिखकर बहिरंग विभाग से चले गये लेकिन डाक्टर ने मूत्र की नली एवं थैली नही लगावायी। रात्रि लगभग नो बजे मरीज के सीने में दर्द होने पर वार्ड में तैनात स्टाफ नर्स से सम्पर्क करने पर दर्द एवं नींद का इन्जेक्शन दे दिया गया। दूसरे दिन प्रात: डाक्टर राउण्ड पर आये और मरीज को बिना देखे जांच लिखकर चले गये। जिस पर दिन भर परिजन रामदुलार की जांच कराते रहे। रात में मरीज को पुन: सीने में तेज दर्द होने की बात फोन से डाक्टर के मोबाइल पर बताने की कोशिश की तो उसका फोन स्विच आफ था। एक अन्य चिकित्सक से सम्पर्क कर उन्हे सारी जानकारी फोन पर दी गयी तो चिकित्सक ने मल मूल कितनी बार होने की बात पूछी। इस पर परिजन ने एक बार भी न होने की जानकारी दी तो तत्काल उक्त चिकित्सक ने आकस्मिक चिकित्सा विभाग में तैनात चिकित्सक से फोन पर वार्ता कर मरीज को पेााब करने की नली लगवायी। जिसके बाद मरीज को दर्द से राहत मिली। इस बात की जानकारी केन्द्रीय राज्यमंत्री अनुप्रिया पटेल एवं विधायक नील रतन पटेल को हुई तो स्वास्थ्य मंत्री ने मुख्य चिकित्सा अधीक्षक से फोन पर वार्ता की तथा विधायक ने स्वयं चिकित्सालय पहुंचकर मुख्य चिकित्सा अधीक्षक ओर दोषी चिकित्सक सहित अन्य स्वास्थ्य कर्मियों को कड़ी फटकार लगायी थी। मरीज की कूल्हे की हड्डïी टूटने के अलावा अन्य कई गंभीर बीमारियों का हवाला देकर चिकित्सकों ने आपरेशन करने से मना करते हुए सोमवार को उसे सर सुन्दर लाल चिकित्सालय के ट्रामा सेण्टर रेफर कर दिया गया।