Tel: 0542 - 2393981-87 | Mail: ajvaranasi@gmail.com


१२४९१ कुन्तल गेहूं, ८७१८१७ कुन्तल चावल वितरित

कालाबाजारी, जमाखोरी करनेवालोंकी कंट्रोलरूम में करें शिकायत, शिकायतकर्ता का नाम और पता रखा जायेगा गुप्त
जिलाधिकारी कौशल राज शर्मा ने बताया कि सोशल मीडिया और अन्य माध्यम से प्राय: यह संज्ञान में आ रहा है कि माह अप्रैल, २०२० में सार्वजनिक वितरण प्रणाली की उचित दर दुकानों द्वारा खाद्यान्न का वितरण नि:शुल्क किया जायेगा। इस सम्बन्ध में उन्होंने स्पष्ट करते हुए बताया कि समस्त अन्त्योदय कार्डधारक,    ऐसे सक्रिय मनरेगा कार्डधारक जिनको पात्र-गृहस्थी राशनकार्ड निर्गत है, श्रम विभाग में पंजिकृत श्रमिक जिनकों पात्र-गृहस्थी राशनकार्ड निर्गत है, नगर निकाय में पंजीकृत जिनकों पात्र-गृहस्थी राशनकार्ड निर्गत है, के व्यक्तियों के परिवारों के राशनकार्डों पर नि:शुल्क खाद्यान्न उपलब्ध कराया गया। इसके अतिरिक्त अन्य समस्त पात्र-गृहस्थी राशनकार्ड धारक को पूर्व की भॉती रु.२/- किग्रा गेहूं एवं रु.३/-किग्रा की दर से चावल वितरित कराया जायेगा।
         जिलाधिकारी कौशल राज शर्मा ने बताया कि बुधवार को उचित मूल्य की सरकारी दुकानों से खाद्यान्न वितरण शुरू हो गया है। बुधवार को ग्रामीण क्षेत्रों में कुल प्रचलित समस्त ९११ दुकानों में से ८३७ दुकानों द्वारा ७११७.०५ कुन्तल गेहूं एवं ५१०९.९५ कुन्तल चावल वितरण किया गया, जबकि शेष दुकानों द्वारा सर्वर की समस्या से वितरण नही किया जा सका। इसी प्रकार नगरीय क्षेत्र में प्रचलित कुल ४८४ उचित दर दुकानों द्वारा ५३७४.८३ कु. गेहूं व ३६०८.२२ कु. चावल वितरण किया गया। इस प्रकार जनपद में कुल १२४९१.८८ कुन्तल गेहूं तथा ८७१७,१७ कुन्तल चावल का वितरण किया गया। उन्होंने बताया कि जनपद में समस्त उचित दर की दुकानों से खाद्यान्न का वितरण प्रात: ६ बजे से सांयकाल ९ बजे तक किया जायेगा तथा साथ ही भारत सरकार द्वारा उद्घोषित समस्त लाभार्थियों को ३ माह का नि:शुल्क खाद्यान्न एवं १ किग्रा0 प्रति कार्ड की दर से दाल का वितरण आवंटन प्राप्त होने के उपरान्त भारतीय खाद्य निगम से उठान कर अलग से वितरण किया जायेगा। ई0सी0 एक्ट के तहत विकास ग्राम पंचायत बेलवरिया खण्ड हरहुआ के उचित दर विक्रेता  अनिल कुमार सिंह उर्फ शमशेर सिंह तथा प्रखण्ड कलेक्ट्रेट के उचित दर विक्रेता संध्या देवी सहित कुल दो उचित दर विक्रेताओं के विरूद्ध कार्यवाही प्रस्तावित की गयी है। प्रवर्तन टीम द्वारा ५३ विभिन्न दुकानों का औचक निरीक्षण किया गया तथा अनियमितता मिलने पर कठोर काररवाई की जाने की चेतावनी दी गयी। डोर स्टेप डिलीवरी/होल सेल विक्रेताओं (उठान/वितरण) हेतु 961 वाहनों को पास जारी किया गया।
उपनिदेशक अर्थ और संख्याको आदेश की अनदेखी पड़ी भारी, जवाब-तलब
मण्डलायुक्त  का कड़ा रुख
वैश्विक महामारी कोरोना वायरस के संक्रमण एवं बचाव हेतु देशव्यापी लॉक.डाउन के दौरान वाराणसी में खाद्यान्न वितरण हेतु २९ मार्च को उपनिदेशक अर्थ एवं संख्या कार्यालय का विभागीय वाहन मय इर्धन एवं चालक के साथ आगामी १४ अप्रैल तक के लिये सम्बद्ध करते हुए वाराणसी विकास प्राधिकरण कार्यालय पर उपस्थित होने हेतु निर्देशित किये जाने के बावजूद अर्थ एवं संख्या विभाग के उपनिदेशक रामनारायण द्वारा विभागीय वाहन उपलब्ध नही कराया गया और इस संबंध में उनसे संपर्क करने हेतु अनेकों बार उनके मोबाइल पर प्रयास किए जाने के बावजूद उनके द्वारा फोन रिसीव भी नहीं किया जा रहा है। वैश्विक महामारी एवं राष्ट्रीय आपदा के समय में भी उपनिदेशक अर्थ एवं संख्या के इस लापरवाही को कमिश्नर दीपक अग्रवाल ने काफी गंभीरता से लेते हुए उनसे बुधवार को ही जवाब.तलब करते हुए निर्देशित किया है कि तत्काल विभागीय वाहन को वाराणसी विकास प्राधिकरण कार्यालय से सम्बद्ध कराना सुनिश्चित करें।
 संकरी गलियों में एन.डी.आर. ने किया कोरोनारोधी सॉल्यूशन का छिड़काव

देश में कोरोना माहमारी के चलते लॉकडाउन की स्थिति में वाराणसी प्रशासन एवं एनडीआर. एकजुट होकर सम्पूर्ण समाज के साथ इस माहमारी से लड़ रहे हैं। इसी क्रम में वाराणसी की संकरी व पक्की गलियों में बसी घनी बस्तियों में जहाँ फायर टेंडर की गाडिय़ाँ नहीं पहुँच सकतीं वहां एन.डी.आर.,ने जिला प्रशासन के साथ कोरोनारोधी सोल्यूशन का छिडकाव किया। इस विशेष सोल्यूशन की सामग्री उत्तर प्रदेश सरकार के माध्यम से उपलब्ध करायी गयी थी।विदित है कि वाराणसी संकरी गलियों में बसा है जहाँ छिड़काव वाली बड़ी गाडिय़ाँ नहीं पहुँच सकती जिससे यह क्षेत्र  सेनिटायजेशन से वंचित रह जाता है। इस समस्या से निराकरण हेतु जिला प्रसाशन के साथ एनडीआरएफ की टीमों ने वाराणसी के भैरवनाथ, मदनपुरा, गदौलिया, बंगाली टोला और विशेश्वरगंज जैसे संकरे क्षेत्रों में जाकर कोरोनारोधी सोल्यूशन का छिड़काव कर क्षेत्र को सेनिटायज किया। एनडीआरएफ की टीमों ने इन क्षेत्रों में छोटे स्प्रयेर और पोर्टेबल पंप की सहायता से क्षेत्रों में छिड़काव किया।
वाराणसी मंडलके स्टेशनोंपर आरपीएफ ने गरीबोंमें बांटा भोजन

कोरोना वायरसके संक्रमणको रोकनेके लिए लागू लॉक डाउनमें स्टेशनोंके आसपास रहने वाले दिहाड़ी मजदूरों और उनके परिजनों की मददके लिए रेल प्रशासन भी संजीदा है। पूर्वोत्तर रेलवे वाराणसी मंडलके मंडल रेल प्रबंधक विजय कुमार पंंजियार के निर्देश पर बुधवारको मंडल सुरक्षा आयुक्त ऋषि पाण्डेयके अगुवाईमें जवानोंने मंडुवाडीह स्टेशनके सर्कुलेटिंग एरिा, रैल बसेरा एवं मालगोदामके आस-पास जीवकोपार्जन करने वाले भूखे प्यासे एवं गरीब लोगोंको १५० खानेका लंच पैकेट बांटा। इसके अतिरिक्त मंडलके विभिन्न स्टेशनों पर भी भोजनका वितरण किया गया। इसके अतिरिक्त असहाय गरीबोंको कोरोना वायरस से  बचावके लिए उनकी कांउन्सिलिंग भी की गयी। कांउन्सिलिंग के दौरान उनको संक्रमणसे बचाव हेतु मास्क पहनकर रहने और सामाजिक दूरी बनाकर रहनेको कहा।
दूध की सट्टियों में न लगे भीड़-जिलाधिकारी

जिलाधिकारी कौशल राज शर्मा ने बुधवार को कैम्प कार्यालय में दुग्ध उत्पादकों की बैठक की। दुग्ध उत्पादकों से पूछे जाने पर उन्होंने भैंस का दूध ५६ रुपए प्रति लीटर तथा गाय का दूध ४६ रुपए प्रति लीटर बताया। जिस पर जिलाधिकारी द्वारा दूध की कीमतों में बढ़ोत्तरी न करने तथा यथासम्भव न्यूनतम मूल्य पर तथा निर्बाध आपूर्ति बनाये रखने की अपील की गयी। जिलाधिकारी का कहना था कि दुग्ध ढ़ोने वाली गाडिय़ो के आवागमन में कोई दिक्कत आती है तो मुझे बतायें वैसे पहले से ही आवश्यक सेवाओं से जुड़ी गाडिय़ों को न रोकने के निर्देश सम्बंधित विभागों को दिए गए हैं। जहां भी दूध की सट्टियां लगायी जाती हैं।  वहां भीड़ कत्तई नहीं लगनी चाहिए। सोशल डिस्टेंसिंग का पूरा ध्यान रखा जाए। बैठक में अमूल, पराग , पारस, मदर डेयरी तथा अन्य स्थानीय डेयरी के मालिकान उपस्थित रहे।