Tel: 0542 - 2393981-87 | Mail: ajvaranasi@gmail.com


प्रियंकाके कार्यक्रमकी तैयारियोंको लेकर झोंकी ताकत

भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव एवं पूर्वी उत्तर प्रदेश की प्रभारी प्रियंका गांधी के बुधवार को होने वाले कार्यक्रम को लेकर वाराणसी कांग्रेसजनों में एक विशिष्ट उत्साह देखने को मिल रहा है । इस विशिष्ट आयोजन को लेकर पार्टी के सभी वरिष्ठ नेता अपने - अपने स्तर से इस कार्यक्रम को ऐतिहासिक बनाने का पूरा प्रयास कर रहे हैं । कार्यक्रम को लेकर वाराणसी कांग्रेस के जिलाध्यक्ष प्रजानाथ शर्मा ने कहा कि - हम सभी कांग्रेसजन अपनी राष्ट्रीय नेता के ऐतिहासिक स्वागत को लेकर उत्साहित हैं । हमारा एक - एक कार्यकर्ता पूरे जोशो खरोश के साथ इस पूरे कार्यक्रम ऐतिहासिक बनाने में अपनी पूरी ताकत के साथ खड़ा है । पिछले लगभग एक हफ्ते से हम सभी कांग्रेसजन इस कार्यक्रम को लेकर उत्साहित हैं। हमारे सारे कार्यक्रम पूर्ववत हैं । प्रियंका गांधी कल चुनार से रामनगर सड़क मार्ग से आएंगी । रामनगर में वह पूर्व प्रधानमंत्री स्व. लाल बहादुर शास्त्री की प्रतिमा पर माल्यार्पण करेंगी ततपश्चात वह पूर्व प्रधानमंत्री स्व.लाल बहादुर शास्त्री के रामनगर स्थित आवास पर भी जाएंगी । वहां से वह वाया नाव द्वारा अस्सी घाट जाएंगी । और फिर वह दशाश्वमेध घाट से बाबा श्री काशी विश्वनाथ मंदिर जाएंगी । आगे के उनके सारे कार्यक्रम पूर्व निर्धारित कार्यक्रम शिड्यूल के अनुसार ही हैं । श्री शर्मा ने कहा कि - हम सभी के लिए यह एक विशेष गौरवान्वित करने वाला छण है । कांग्रेस पूरे प्रदेश के साथ - साथ पूरे देश में एक बड़ा परिवर्तन करने को तत्पर है।  महानगर कांग्रेस अध्यक्ष सीताराएम केशरी ने कहा कि -  हम सभी कांग्रेसजन कल अपनी प्रभारी प्रियंका गांधीजी का ऐतिहासिक स्वागत करेंगे । कार्यक्रम अभीतपूर्व होगा । वाराणसी पर  पूरे देश की निगाह है । प्रियंका का कार्यक्रम देश को दशा और दिशा देने वाला होगा । हम सभी कल के कार्यक्रम के माध्यम से पूरे पूर्वांचल के साथ - साथ पूरे देश मे सकारात्मक संकेत देंगे।     आयोजन को लेकर वाराणसी कांग्रेस के सभी फ्रंटल संगठननों ने अपने - अपने स्तर से सभी तैयारियां पूरी कर ली हैं । कल के कार्यक्रम का केंद्र बिंदु सरोजा पैलेस जहां प्रियंका गांधी लगभग दो हजार पार्टी कार्यकर्ताओं से मिलने जा रही हैं ,  में पिछले तीन दिनों से कार्यक्रम की तैयारियां जोर शोर से चल रही है।                         रामनगर से लगायत सरोजा पैलेस तक के पूरे कार्यक्रम की पूरी तैयारी एस पी जी की सघन निगरानी में हो रही है । तैयारियां पूर्णत: अंतिम दौर में हैं।                     आज की तैयारियों में जिला एवं महानगर अध्यक्ष प्रजानाथ शर्मा, सीताराम केसरी, पूर्व सांसद डाक्टर राजेश मिश्रा, पूर्व विधायक अजय राय,  विजय शंकर पाण्डेय, अनिल श्रीवास्तव, राघवेंद्र चौबे, दुर्गा प्रसाद गुप्त, आनन्द मिश्रा, दिग्विजय सिंह, देवेंद्र सिंह, शैलेंद्र सिंह, फ़साहत हुसैन बाबू, मणीन्द्र मिश्रा, आशीष सिंह, अजय सिंह गुड्डू, राजकुमार सोनकर,मीरा तिवारी, ऋतु पाण्डेय, पूनम कुण्डू, रमजान अली, मंगलेश सिंह, अशीष सिंह,सुनील कपूर, डॉ. नृपेन्द्र नारायण सिंह, किसलय सिंह, रंजीत तिवारी समेत बड़ी संख्या में वाराणसी कांग्रेस के विभिन्न संगठनों के वरिष्ठ नेता एवं कार्यकर्ता शामिल थे।
भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव एवं पूर्वी उत्तर प्रदेश की प्रभारी प्रियंका गांधी के बुधवार को होने वाले कार्यक्रम को लेकर वाराणसी कांग्रेसजनों में एक विशिष्ट उत्साह देखने को मिल रहा है । इस विशिष्ट आयोजन को लेकर पार्टी के सभी वरिष्ठ नेता अपने - अपने स्तर से इस कार्यक्रम को ऐतिहासिक बनाने का पूरा प्रयास कर रहे हैं । कार्यक्रम को लेकर वाराणसी कांग्रेस के जिलाध्यक्ष प्रजानाथ शर्मा ने कहा कि - हम सभी कांग्रेसजन अपनी राष्ट्रीय नेता के ऐतिहासिक स्वागत को लेकर उत्साहित हैं । हमारा एक - एक कार्यकर्ता पूरे जोशो खरोश के साथ इस पूरे कार्यक्रम ऐतिहासिक बनाने में अपनी पूरी ताकत के साथ खड़ा है । पिछले लगभग एक हफ्ते से हम सभी कांग्रेसजन इस कार्यक्रम को लेकर उत्साहित हैं। हमारे सारे कार्यक्रम पूर्ववत हैं । प्रियंका गांधी कल चुनार से रामनगर सड़क मार्ग से आएंगी । रामनगर में वह पूर्व प्रधानमंत्री स्व. लाल बहादुर शास्त्री की प्रतिमा पर माल्यार्पण करेंगी ततपश्चात वह पूर्व प्रधानमंत्री स्व.लाल बहादुर शास्त्री के रामनगर स्थित आवास पर भी जाएंगी । वहां से वह वाया नाव द्वारा अस्सी घाट जाएंगी । और फिर वह दशाश्वमेध घाट से बाबा श्री काशी विश्वनाथ मंदिर जाएंगी । आगे के उनके सारे कार्यक्रम पूर्व निर्धारित कार्यक्रम शिड्यूल के अनुसार ही हैं । श्री शर्मा ने कहा कि - हम सभी के लिए यह एक विशेष गौरवान्वित करने वाला छण है । कांग्रेस पूरे प्रदेश के साथ - साथ पूरे देश में एक बड़ा परिवर्तन करने को तत्पर है।  महानगर कांग्रेस अध्यक्ष सीताराएम केशरी ने कहा कि हम सभी कांग्रेसजन कल अपनी प्रभारी प्रियंका गांधीजी का ऐतिहासिक स्वागत करेंगे। कार्यक्रम अभीतपूर्व होगा। वाराणसी पर  पूरे देश की निगाह है। प्रियंका का कार्यक्रम देश को दशा और दिशा देने वाला होगा। हम सभी कल के कार्यक्रम के माध्यम से पूरे पूर्वांचल के साथ - साथ पूरे देश मे सकारात्मक संकेत देंगे।  आयोजन को लेकर वाराणसी कांग्रेस के सभी फ्रंटल संगठननों ने अपने - अपने स्तर से सभी तैयारियां पूरी कर ली हैं । कल के कार्यक्रम का केंद्र बिंदु सरोजा पैलेस जहां प्रियंका गांधी लगभग दो हजार पार्टी कार्यकर्ताओं से मिलने जा रही हैं ,  में पिछले तीन दिनों से कार्यक्रम की तैयारियां जोर शोर से चल रही है। रामनगर से लगायत सरोजा पैलेस तक के पूरे कार्यक्रम की पूरी तैयारी एस पी जी की सघन निगरानी में हो रही है । तैयारियां पूर्णत: अंतिम दौर में हैं। आज की तैयारियों में जिला एवं महानगर अध्यक्ष प्रजानाथ शर्मा, सीताराम केसरी, पूर्व सांसद डाक्टर राजेश मिश्रा, पूर्व विधायक अजय राय,  विजय शंकर पाण्डेय, अनिल श्रीवास्तव, राघवेंद्र चौबे, दुर्गा प्रसाद गुप्त, आनन्द मिश्रा, दिग्विजय सिंह, देवेंद्र सिंह, शैलेंद्र सिंह, फ़साहत हुसैन बाबू, मणीन्द्र मिश्रा, आशीष सिंह, अजय सिंह गुड्डू, राजकुमार सोनकर,मीरा तिवारी, ऋतु पाण्डेय, पूनम कुण्डू, रमजान अली, मंगलेश सिंह, अशीष सिंह,सुनील कपूर, डॉ. नृपेन्द्र नारायण सिंह, किसलय सिंह, रंजीत तिवारी समेत बड़ी संख्या में वाराणसी कांग्रेस के विभिन्न संगठनों के वरिष्ठ नेता एवं कार्यकर्ता शामिल थे।
प्रियंका गांधी की सफल यात्रा के लिये मां गंगा का दुग्धाभिषेक
अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी की प्रभारी महासचिव प्रियंका गांधी के २०मार्च को वाराणसी कार्यक्रम को सफल बनाने हेतु पिछड़ा वर्ग प्रकोष्ठï के पूर्व अध्यक्ष प्रमोद वर्मा के संयोजक में मंगलवार को शीतला धाट पर कांग्रेसजनों द्वारा मां गंगा का पचमेवा एवं दूध से अभिषेक एवं पूजन किया गया। दुग्धाभिषेक कार्यक्रम के बाद गंगातट पर उपस्थित लोगों से उनके जोरदार स्वागत की अपील की गयी। इस असवर पर मुख्य रूप से दिग्विजय सिंह, गणेश शंकर पाण्डेय, अतुल मालवीय, शकील अहमद, ब्रम्हदत्त त्रिपाठी प्रदीप गुप्त, गणेश देववंशी, भइयालाल सेठ, महेन्द्र शर्मा, अशोक त्रिपाठी, किशन सेठ, रामकुमार पाण्डेय, विजय दुबे, बाबा सुशील श्रीवास्तव, ओमप्रकाश यादव, गुरू प्रसाद यादव आशीष शर्मा आदि लोग उपस्थित थे।
जनपदमें डेंगूके मुकाबले अधिक हावी रहा मलेरिया
 अचानक मौसम में बदलाव होने के कारण मच्छर जनित चिकनगुनिया, डेंगू, मलेरियाए , फाईलेरिया आदि बीमारियाँ तेजी से फैलने की संभावना बढ़ जाती है। ऐसे में इन बीमारियों से निपटने के लिए उसके लक्षण और बचाव के बारे में लोगों का जागरूक होना बहुत जरूरी है। आमतौर पर सामान्य दिखने वाला बुखार लापरवाही बरतने से गंभीर रूप भी ले सकता है और जानलेवा भी साबित हो सकता है। दो दिन से अधिक बुखार होने पर नजदीक के स्वास्थ्य केंद्र पर खून की जांच कराएं और सम्पूर्ण इलाज लें। राष्ट्रीय वेक्टर जनित रोग नियंत्रण कार्यक्रम के तहत वाराणसी जिले में पिछले तीन सालों में जनपद में चिकनगुनिया और जापानी इन्सेफ्लाईटिस दिमागी बुखार का एक भी रोगी नहीं देखा गया। वहीं इन बीमारियों से निपटने के लिए जनपद में स्वास्थ्य विभाग सक्रिय है जिससे नगरीय एवं ब्लॉक स्तर पर डेंगू, मलेरिया चिकनगुनिया एवं अन्य के मरीजों की जल्द से जल्द पहचान कर उनको बेहतर उपचार दिया जा सके।
जिला मलेरिया अधिकारी शरत चन्द्र पांडे ने बताया कि मौसम में अचानक बदलाव होने से मच्छरों की संख्या फरवरी और मार्च के माह में बढ़ जाती है जिससे बीमारियों का खतरा बना रहता है। वहीं जो मच्छर जुलाई में बहुत अधिक आना शुरू होते थे अब अंदाजा लगाया जा रहा है कि मई जून में ही बढ़ोतरी की संभावना है। इससे निपटने के स्वास्थ्य विभाग पूर्ण रूप से तैयारियां कर रहा है। लेकिन लोगों को भी जागरूक होने की आवश्यकता है।  उन्होने बताया कि इसके सामान्य लक्षण तेज एवं अचानक बुखार आना, सरदर्द होना, नाक बहना, थकावट महसूस होनाए शरीर में बैचनी रहना, त्वचा पर रैसेज हो जाना आदि हैं। उन्होने बताया कि बारिश का मौसम आते ही डेंगू, मलेरिया, आदि बीमारियों बढऩे लगती है और जहां पानी जमा होने लगता है वहाँ मच्छर भी पनपने लगते है। मच्छरों को शुरुआती स्टेज में खत्म करने पर सबसे अधिक जोर दिया जाता है जिससे वो पनपने ही न पाएँ। इसके लिए लार्वीसाईड स्प्रे का छिड़काव किया जाता है जिससे मच्छरों के लार्वा शुरुआती चरण में ही नष्ट हो जाते है। वेक्टर जनित रोगों से बचाव के लिए जागरूक होना बहुत जरूरी है। सभी मच्छर रुके हुये और साफ पानी में अंडे देते है इसलिए रुके हुये पानी के स्थान को भर दें या कुछ बुँदे मिट्टी के तेल की डाल देनी चाहिए। घर में भरे हुये कूलर को सप्ताह में एक बार अवश्य साफ करें। डेंगू चिकनगुनिया का मच्छर दिन में काटता है तो पूरी आस्तीन के कपड़ व मोजे अवश्य पहने। घर और छतों पर पड़े अनावश्यक पत्रों को हटा दें और सोते समय मच्छरदानी का प्रयोग करें। बुखार आने पर अस्पताल में पूर्ण जांच कराकर उपचार कराएं।
संकष्ठïी श्रीगणेश चतुर्थी २४ को
चन्द्रोदय होगा रात्रि ९बजकर ४२ मिनट पर

भारतीय संस्कृति के सनातन धर्म में समस्त देवी-देवताओं की पूजा-अर्चना एवं व्रत की काफी महिमा है। हिन्दू धर्मशास्त्रों में प्रथम पूज्य देव भगवान श्रीगणेशजी को सर्वोपरि माना जाता है। इनकी पूजा-आराधना से ही हर शुभ कार्यों की शुरुआत होती है। जीवन में खुशहाली एवं संकट निवारण के लिए संकष्टी श्रीगणेश चतुर्थी का व्रत रखने की धाॢमक परम्परा है। हर माह के कृष्णपक्ष की चतुर्थी तिथि के दिन संकष्टी श्रीगणेश चतुर्थी व्रत रखने की मान्यता है। प्रख्यात ज्योतिषविद् श्री विमल जैन जी ने बताया कि चैत्र कृष्णपक्ष की चतुर्थी तिथि २३ मार्च, को रात्रि १० बजकर ३३ मिनट पर लगेगी जो कि अगले दिन २४ मार्च, रविवार को रात्रि ८ बजकर५२ मिनट तक रहेगी। चन्द्रोदय व्यापिनी चतुर्थी तिथि २४ मार्च, रविवार को पड़ रही है, जिसके फलस्वरूप संकष्टी श्रीगणेश चतुर्थी व्रत इसी दिन रखा जाएगा। चन्द्रोदय २४ मार्च, रविवार को रात्रि ९ बजकर ४२ मिनट पर होगा। चन्द्र उदय होने के पश्चात् विधि-विधान पूर्वक चन्द्रमा को अघ्र्य देकर उनकी पूजा-अर्चना की जाएगी। श्री जैन बताया कि श्रीगणेशजी की महिमा में श्रीगणेश स्तुति, संकटनाशन श्रीगणेश स्तोत्र, श्रीगणेश सहस्रनाम, श्रीगणेश चालीसा का पाठ करना चाहिए एवं श्रीगणेश जी से सम्बन्धित मंत्र-स्तोत्र आदि जो भी सम्भव हो अवश्य किया जाना चाहिए। ऐसी धाॢमक व पौराणिक मान्यता है कि श्रीगणेश अथर्वशीर्ष का प्रात:काल पाठ करने से रात्रि के समस्त पापों का नाश होता है। व्रत के दिन व्रतकर्ता को दिन में शयन नहीं करना चाहिए। जिन व्यक्तियों की जन्मकुण्डली के अनुसार ग्रहों का शुभ फल नहीं मिल रहा हो उन्हें आज के दिन व्रत उपवास रखकर प्रथम पूज्यदेव श्रीगणेशजी की पूजा-अर्चना करनी चाहिए। जिन्हें जीवन में संकटों का सामना करना पड़ रहा हो, उन्हें भी आज विधि-विधानपूर्वक श्रीगणेश जी पूजा-आराधना करके लाभ उठाना चाहिए। संकष्टी श्रीगणेश चतुर्थी के व्रत से सुख-समृद्धि, खुशहाली मिलती है साथ ही सर्व संकटों का शमन भी होता है।