Tel: 0542 - 2393981-87 | Mail: ajvaranasi@gmail.com


कुंभका पहला शाही स्नान आज,दिखेगा अखाड़ोंका वैभव

प्रयागराज (आससे)। मकर संक्रांति के मौके पर पहले शाही स्नान के साथ कुम्भ का औपचारिक आगाज मंगलवार को होगा। अखाड़ों से पूरे वैभव के साथ शाही स्नान के लिए यात्रा निकाली जायेगी और संगम नोज पर १३ अखाड़ों के संत-महात्मा एवं शिष्यगण शाही स्नान में शामिल होंगे।  कुम्भ मेलाधिकारी विजय किरन आनंद ने बताया कि अखाड़ा की पुरानी परंपरा के अनुसार सभी १३ अखाड़े शाही स्नान करेंगे। मकर संक्रान्ति को महानिर्वाणी, अटल अपने शिविर से सुबह ५.१५ पर जुलूस के रूप में निकलेंगे जो घाट पर पहुंचकर ६.१५ पर स्नान करेंगे, निरंजनी एवं आनन्द ६.१५ पर शिविर से प्रस्थान करके ७.०५ घाट पर पहुंचकर स्नान करेंगे, जूना, अग्नि एवं आवाहन अखाड़ा अपने शिविर से सुबह सात बजे प्रस्थान करेंगे एवं ८ बजे के करीब स्नान करेंगे, निर्मोही ९.४० से प्रस्थान कर १०.४० पर घाट पर पहुंचेंगे, दिगम्बर १०.२० से शिविर से निकलकर ११.२० पर स्नान करेंगे वहीं निर्वाणी ११.२० पर शिविर से प्रस्थान करेंगे एवं घाट पर १२.२० पर पहुंचेंगे। नया पंचायती का प्रस्थान १२.१५ एवं घाट पर आगमन १३.२० पर, बड़ा पंचायती का शिविर से प्रस्थान १३.२० एवं घाट पर आगमन १४.२० होगा वहीं निर्मल अखाड़ा का शाही जुलूस १४.२० पर शिविर से प्रस्थान करेगा एवं १५. ४० पर पहुंचकर शाही स्नान करेगा।
---------------------
दिगंबर अखाड़ेमें लगी आग,लाखोंका सामान जला
प्रयागराज (आससे)। कुम्भ मेले के सेक्टर १६ स्थित दिगम्बर अनी अखाड़े के शिविर में सिलेंडर फटने से सोमवार को आग लग गई। आग के चपेट में आकर कई संत निवास, कई महात्माओं के तम्बु के साथ ही दो वाहन व अखाड़े का भंडार जलकर राख हो गये। हालांकि अपराह्न १२.३० बजे लगी इस आग
में किसी के हताहत होने की सूचना नहीं है।  सेक्टर १६ के दिगंबर अखाड़ा के भंडार में दोपहर में १२.३० बजे भोजन पकाते वक्त अचानक आग लग गई। कुछ ही देर में आग ने विकराल रूप ले लिया। आसमान में सिलेंडर फटने के साथ आग की लपटें और धुएं का गुबार आसमान छूने लगा। कुछ ही देर में रसोई में दूसरा सिलेंडर फटा और बारह भाई डांडिया की तरफ से आग की लपटें आईं और दिगंबर अनी अखाड़े का रसोई घर आग की चपेट में आ गया। फूस से बने तीन संत निवास, भंडार, रसोई घर सहित महात्माओं के व, जरूरी कागजात, नकद धनराशि के साथ ही दो चार पहिया वाहन आग के चपेट में आकर जल गए। आग बुझाने के दौरान कुछ महात्मा भी आग की लपटों की चपेट में आ गए लेकिन इस आग में किसी के हताहत होने की सूचना नहींं है।