Tel: 0542 - 2393981-87 | Mail: ajvaranasi@gmail.com


वाराणसीमें बेस कैम्प बनाने की फिराकमें लश्कर

आतंकी संघटनके दो सदस्योंने मईमें पांच दिन तक शहरमें रुककर की थी रेकी
वाराणसी  (का.प्र.)। पाकिस्तान के आतंकी  संघटन लश्करे तौइबा की टेढ़ी नजर प्रधानमंत्री के संसदीय क्षेत्र वाराणसी पर है। इस सूचना से जहां खुफिया इकाइयां सतर्क हो गयी है, वहीं पुलिस और प्रशासन भी चौकन्ना है। खुफिया सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार जम्मू-कश्मीर से धारा ३७०हटाये जाने के बाद इस आतंकी संघटन ने अपनी गतिविधियां और तेज कर दी हैं। इससे पहले गत सात मई से ११ मई के बीच पाकिस्तानी आतंकवादी और लश्कर के प्रमुख सदस्य उमर मदनी तथा नेपाली मूल के एक आतंकवादी वाराणसी आये थे। दोनो एक अतिथि $गृह में पांच दिनों तक ठहरे थे। इस दौरान उन्होंने वाराणसी में आतंकवादी घटनाओं को अंजाम देने के लिये लश्कर के नेटवर्क और बढ़ाने के लिये काम किया था। सूत्रों ने बताया कि इस दौरान उन्होने शहर में कुछ मुस्लिम इलाकों का दौरा किया था और कई लोगो ंसे सम्पर्क भी किया था।  खुफिया सूत्रों के अनुसार उमरमदनी लश्कर से नये आतंकवादियों को जोडऩे और उनकी भरती करने का जिम्मा संभाल रहा है। वाराणसी चूंकि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी का संसदीय क्षेत्र है इसलिये यह काफी संवेदनशील माना जा रहा है। आतंकी संघटन की मंशा है कि वाराणसी को वेस कैम्प बनाकर यहां से पूरे देशमें घटनाओं को अंजाम दिया जाय। चूंकि वाराणसी में पहले भी कई बार आतंकवादी घटनाएं हो चुकी है इसलिये आतंकियों लगता है कि यहां पर किसी बड़ी घटना को अंजाम देकर देश और दुनिया की निगाहे खीची जा सकती है। वाराणसी में इससे पहले राजेन्द्र प्रसाद घाट पर आतंकी घटना हुई थी जिसमें कई लोग हताहत हुए थे। शीतला घाट पर विश्व प्रसिद्घ गंगा आरती के दौरान भी आतंकियों द्वारा विस्फोट किया गया था। इसी क्रम में कैण्ट रेलवे स्टेशन और संकटमोचन मंदिर तथा कचहरी परिसर में भी बम धमाके किये गये थे जिसमें दर्जनों लोग हताहत हुए थे। धार्मिक नगरी काशी में हुई इन घटनाओं ने पूरे देश के लोगों को हिलाकर रख दिया था। वाराणसी सेहोकर दिल्ली जाने वाली श्रमजीवी एक्सप्रेस ट्रेन में भी कैण्ट स्टेशन पर ही धमाके करने की योजना थी लेकिन टाइमिग गलत होने के कारण ट्रेन में रखा टाइमर बम जौनपुर और सुल्तानपुर स्टेशन के बीच में फटा था। इस घटना में कई लोगों की जान गयी थी तथा कुछ लोग घायल हुए थे।