Tel: 0542 - 2393981-87 | Mail: ajvaranasi@gmail.com


भारत-बांग्लादेश पड़ोसीके साथ भावनात्मक रूपसे एक परिवार-मोदी

 वीडियो कांफ्रेंसिंगके जरिये दो परियोजनाओंका शिलान्यास
नयी दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा है कि भारत और बांग्लादेश भौगोलिक रूप से एक दूसरे के पड़ोसी हैं, लेकिन भावनात्मक रूप से हम एक परिवार हैं। उन्होंने कहा है कि एक दूसरे के सुख-दुख में साथ देना और एक दूसरे के विकास में हाथ बंटाना, यह हमारे पारिवारिक मूल्यों की ही देन है।  आज वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिये बांग्लादेश के लिये दो परियोजनाओं की शिलान्यास समारोह को संबोधित करते हुये प्रधानमंत्री ने उक्त उद्गार व्यक्त किये। उन्होंने कहा कि पिछले कुछ वर्षों से भारत और बांग्लादेश के बीच सहयोग ने विश्व को दिखाया है कि यदि दो पड़ोसी देश ठान लें तो क्या कुछ किया जा सकता है। चाहे दशकों पुराने सीमा विवाद हो, या विकास सहयोग की परियोजनाएं, हमने सभी विषयों पर अभूतपूर्व प्रगति की है। बांग्लादेश को कुशल नेतृत्व प्रदान करने के लिये वहां की प्रधानमंत्री शेख हसीना की सराहना करते हुये नरेन्द्र मोदी ने कहा कि आज   जिस भारत-बांग्लादेश मैत्री पाइप लाइन पर काम शुरू हुआ है वह विकास के लिये आपसी सहयोग के महाकाव्य में एक नया अध्याय जोड़ेगी। उन्होंने कहा कि किसी भी देश के आर्थिक विकास के लिये ऊर्जा एक मूलभूत जरूरत है। उन्होंने विश्वास व्यक्त किया कि यह पाइप लाइन बांग्लादेश के महत्वाकांक्षी विकास लक्ष्यों को हासिल करने के लिये संबल बनेगी। प्रधानमंत्री ने कहा कि इसी तरह आज हमने जिस रेलवे परियोजना पर काम शुरू किया है, वह न सिर्फ ढाका की आम जनता को बल्कि सड़क यातयात को राहत देगी। इससे माल राजस्व में भी वृद्धि होगी। प्रधानमंत्री ने विश्वास व्यक्त किया कि इस रेलवे परियोजना से बांग्लादेश के राष्ट्रीय और शहरी यातायात को सुधारने में सहायता मिलेगी।  प्रधानमंत्री ने कहा कि मात्र १० दिनों में बांग्लादेश के लिये हमने वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से ५ परियोजनाओं का लोकार्पण किया है।  यह गति शेख हसीना के मजबूत नेतृत्व के बिना संभव नहीं थी। उन्होंने विश्वास व्यक्त किया कि आने वाले समय में भारत और बांग्लादेश के लोगों के उज्जवल भविष्य के लिये दोनों देशों का शीर्ष नेतृत्व इसी भावना से काम करता रहेगा। वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिये इस कार्यक्रम में प्रधानमंत्री के अलावा विदेश मंत्री सुषमा स्वराज और पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने भी हिस्सा लिया। ढाका से बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना भी वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिये जुड़ीं। आज जिन दो  परियोजनाओं का शिलान्यास किया गया उनमें भारत-बांग्लादेश देश मैत्री पाइप लाइन और ढाका-टोंगी-जयदेबपुर रेलवे परियोजना शामिल हैं। मालूम हो कि १३० किलोमीटर लंबी पाइपलाइन भारत में पश्चिम बंगाल के सिलीगुड़ी को बंगलादेश के दिनाजपुर में पार्बतीपुर से जोड़ेगी। परियोजना ढाई वर्ष में पूरी होगी और इस पर ३४६ करोड़ रुपये की लागत आने का अनुमान है।