Tel: 0542 - 2393981-87 | Mail: ajvaranasi@gmail.com


कारगिलके शहीदोंको कृतज्ञ राष्टरका नमन

नयी दिल्ली (आससे)। कृतज्ञ राष्ट्र ने आज करगिल विजय दिवस के अवसर पर शहीदों सैनिकों को याद किया। राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री और कांग्रेस अध्यक्षा सोनिया गांधी ने करगिल के शहीदों को नमन किया, वहीं रक्षामंत्री अरूण जेटली सहित सेना के तीनों प्रमुखों ने अमर जवान ज्योति पर पुष्पांजलि अर्पित की। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने आज करगिल विजय दिवस के अवसर शहीदों और उनके परिवारों को नमन करते हुये एक ट्वीट संदेश में कहा कि राष्ट्र सशस्त्र बलों के प्रति आभारी हैं, जिनके कारण देश सुरक्षित है।
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने करगिल युद्ध के दौरान साहस और शौर्य का प्रदर्शन करने वाले शहीदों का स्मरण करते हुये कहा है कि करगिल विजय दिवस हमें भारत की सैन्य शक्ति और देश की रक्षा के लिये सेना के महान बलिदान का स्मरण कराता है। वहीं कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने भी करगिल युद्ध के शहीदों और उनके परिजनों के प्रति आभार और सम्मान व्यक्त किया। रक्षा मंत्री अरुण जेटली और तीनों सेवाओं के प्रमुखों, सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत, नौसेना प्रमुख एडमिरल सुनील लांबा और एयर चीफ  मार्शल बीरेंद्र सिंह धनोआ ने आज यहां इंडिया गेट के अमर जवान ज्योति पर करगिल युद्ध के शहीदों को श्रद्धांजलि दी। जेटली ने ट्वीट किया कि करगिल विजय दिवस के अवसर पर हमारे सैनिकों के पराक्रम को सलाम। मालूम हो कि २६ जुलाई को करगिल विजय दिवस पाकिस्तान के खिलाफ भारत की विजय और युद्धवीरों के सम्मान में मनाया जाता है। १९९९ में इसी दिन भारतीय सेना ने जम्मू कश्मीर के लद्दाख क्षेत्र में ६० दिन तक युद्ध करने के बाद हिमालय की ऊंची चोटियों पर स्थित चौकियों पर फिर से नियंत्रण हासिल किया था। इस युद्ध में ५०० से अधिक भारतीय सैनिक शहीद हुये थे। करगिल युद्धवीरों के सम्मान में ४ परमवीर चक्र, ९ महावीर चक्र, ५३ वीरचक्र और अन्य पदक प्रदान किये गये थे।
-----------------
शहीद कैप्टन मनोज पांडेय के नाम पर सैनिक स्कूल - योगी
लखनऊ। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने राज्य की विभिन्न संस्थाओं के नाम देश के शहीदों के नाम पर रखने का ऐलान करते हुए कहा कि स्कूली बच्चों को शिक्षा के साथ-साथ राष्ट्र भावना से जुड़ी विभिन्न पहलुओं की प्रेरक जानकारियां भी उपलब्ध कराई जानी चाहिए। योगी ने कारगिल विजय दिवस के अवसर पर आयोजित कार्यक्रम में लखनऊ स्थित उत्तर प्रदेश सैनिक स्कूल का नाम परमवीर चक्र विजेता कैप्टन मनोज पाण्डेय के नाम पर करने की घोषणा की। योगी ने कहा कि प्रदेश में विभिन्न संस्थाओं के नाम अब देश के शहीदों के नाम पर रखे जाएंगे। भारत माता की रक्षा में शहीद होने वाले सैनिकों के परिवारीजनों को राज्य सरकार हर सम्भव मदद उपलब्ध कराएगी। प्रदेश के राज्यपाल राम नाईक एवं मुख्यमंत्री ने कारगिल शहीद स्मृति वाटिका में कारगिल युद्ध में शहीद हुए सैनिकों की प्रतिमाओं पर पुष्प चढ़ाकर श्रद्धांजलि अर्पित की। इस अवसर पर काकोरी कांड व कारगिल युद्ध के शहीदों के परिवारीजनों को सम्मानित भी किया गया। नाईक ने कहा कि सैनिक हमारे देश की शान हैं। देश की एकता और अखण्डता की रक्षा करना वे अपना सबसे पुनीत कार्य समझते हैं। हम सभी के लिए ये वीर सैनिक प्रेरक हैं, इनके योगदान को कभी भुलाया नहीं जा सकता है। योगी ने कहा कि सैनिकों का बलिदान राष्ट्र का जीवन होता है। 26 जुलाई, 1999 को पाकिस्तान की कायराना हरकत पर भारतीय सैनिकों ने अपनी विजय पताका पहराई। भारत का इतिहास शौर्य और पराक्रम का इतिहास रहा है। हर कालखण्ड में यहां के सपूतों ने अपनी ताकत का लोहा मनवाया है। मुख्यमंत्री ने कहा कि देश की रक्षा करते हुए शहीद होने से बड़ा कोई बलिदान नहीं है। युद्धकाल के दौरान अदम्य साहस, वीरता और शौर्य का प्रदर्शन करने वाले सैनिकों को विभिन्न प्रकार के वीरता पदक दिए जाते हैं। लेकिन शांतिकाल के दौरान भी आतंकवादी घटनाओं, प्राकृतिक आपदाओं सहित कई ऐसी परिस्थितियां उत्पन्न होती हैं, जिसमें सैनिक अपनी कर्मठता, शौर्य, पराक्रम तथा कर्तव्यपरायणता का परिचय देते हुए देश सेवा के लिए अपने प्राणों की बाजी लगा देते हैं।कार्यक्रम को उप मुख्यमंत्री दिनेश शर्मा और नगर विकास मंत्री सुरेश खन्ना ने भी सम्बोधित किया।