Tel: 0542 - 2393981-87 | Mail: ajvaranasi@gmail.com


नवीनतम समाचार » मोदीको मिला मूडीका साथ

मोदीको मिला मूडीका साथ

मूडी ने भारत की रेटिंग में किया सुधार,  सरकार-भाजपा ने की सराहना
नयी दिल्ली (आससे.)। देश की अर्थव्यवस्था को लेकर विपक्षी दलों द्वारा मोदी सरकार पर लगातार किये जा रहे हमले के बीच अमेरिकी अंतर्राष्ट्रीय रेटिंग एजेंसी मूडी ने भारत की रेटिंग में सुधार किया है। मूडी के इस फैसले को जहां सरकार ने आर्थिक क्षेत्र में किये गये सुधारों की प्रतिक्रया को मान्यता के तौर पर उचित ठहराया है, वहीं कांग्रेस ने कहा है कि मूडी और मोदी देश की मनोदशा को समझने में विफल रहे हैं। सरकारों की साख और पूंजी निवेश की स्थिति का निर्धारण करने वाली एजेंसी मूडी ने रुपये और विदेशी मुद्रा की दृष्टि से भारत की रेटिंग में सुधार करते हुये इसे बीएए ३ से बढ़ाकर बीएए २ कर दिया है। इसका मतलब यह हुआ कि भारत की अर्थव्यवस्था सकारात्मक से स्थिर की श्रेणी में आ रही है। गौर करने वाली बात यह है कि मूडी ने १४ साल के लंबे अंतराल के बाद भारत की मुद्रा संबंधी रेटिंग में यह सुधार किया है। इससे पहले अटल बिहारी वाजपेयी के नेतृत्व वाली राजग सरकार के समय में यह सुधार किया गया था।  प्रधानमंत्री कार्यालय ने इस पर अपनी प्रतिक्रिया में कहा है कि रेटिंग में सुधार से मूडी की इस मान्यता का पता चलता है कि सरकार द्वारा उठाये गये कदमों से देश में कारोबारी माहौल में सुधार होगा, उत्पादकता बढ़ेगी, विदेशी और घरेलू निवेश में वृद्धि होगी तथा मजबूत और टिकाऊ विकास किया जा सकेगा।  वहीं वित्तमंत्री अरूण जेटली ने कहा कि मूडी द्वारा भारत की रेटिंग में सुधार से यह स्पष्ट हो जाता है कि देश में खासतौर से पिछले ३-४ वर्षों में आर्थिक क्षेत्र में हुई सुधार की प्रक्रिया को मान्यता मिली है और इसे उचित ठहराया गया है। जेटली ने कहा कि भारत में कई ढांचागत सुधार किये गये हैं, जिनसे देश विकास के मार्ग पर आगे बढ़ा है। उन्होंने कहा कि भारत राजकोषीय दूरदर्शिता से काम कर रहा है। जेटली ने कहा कि पिछले तीन वर्ष के विस्तृत परिदृश्य को देखें तो पायेंगे कि भारत प्रमुख अर्थव्यवस्थाओं में से सबसे तेजी से प्रगति कर रहा है। पिछले तीन  वर्ष में विश्व बैंक रैंकिंग में कारोबार करने में सुगमता के लिये भारत का   स्थान बढ़कर ४२ हो गया, जो कोई कम उपलब्धि नहीं है और अब १३ वर्ष के लंबे अंतराल के बाद भारत की रेटिंग बढ़ी है। वित्तमंत्री ने कहा कि उन्हें पूरा विश्वास है कि जिन लोगों को हमारी आर्थिक सुधार प्रक्रिया के बारे में संदेह था वे अब गंभीर रूप से आत्मचिंतन करेंगे। वित्तमंत्री ने कहा कि विकास प्रक्रिया को लागू करने और उसका फायदा उठाने पर पर्याप्त जोर दिया जायेगा। साथ ही उन्होंने यह भी स्पष्ट किया कि मूडी की रैंकिंग को मौजूदा विधानसभा चुनावों से जोड़कर नहीं देखा जाना चाहिये। वित्त सचिव हसमुख अढिय़ा ने भी भारत की मुद्रा रेटिंग में सुधार का स्वागत किया है। उन्होंने कहा कि वित्तीय सुधार का रास्ता सोच समझकर चुना गया है। नीति आयोग के उपाध्यक्ष राजीव कुमार ने मूडी के रेटिंग बढ़ाये जाने को देश की वृद्धि की प्रतिछाया करार दिया। साथ ही उन्होंने उम्मीद जाहिर की कि एस एंड पी और फिच जैसी वैश्विक एजेंसियां भी इसका अनुसरण करेंगी।  जबकि भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने कहा कि यह राजग सरकार के कठिन परिश्रम और सुधार प्रक्रिया को दर्शाता है।  वहीं कांग्रेस ने इस रेटिंग पर सवाल खड़े किये हैं। पार्टी ने कहा है कि मूडी और प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी देश की मनोदशा को समझने में विफल रहे हैं। पार्टी के मीडिया प्रभारी एवं प्रवक्ता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने कहा कि आर्थिक मोर्चे पर मोदी सरकार की विश्वसनीयता डूब चुकी है और वह खुद को बचाने के लिये तिनके की तरह मूडी की रेटिंग का सहारा ले रही है। उन्होंने कहा कि मोदी और मूडी दोनों ही देश की मनोदशा को समझने में विफल रहे हैं।
-----------------
 मूडीजने १३ साल बाद बढ़ायी भारतकी रेटिंग-मोदी
नयी दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अंतर्राष्ट्रीय साख निर्धारक एजेंसी मूडीज द्वारा भारत की रैंकिंग बढ़ाने के बाद आज कहा कि मूडीज को सरकार के सुधारों में विश्वास है। मोदी ने ट्वीट कर कहा,मूडीज ने 2004 के बाद पहली बार भारत की रेटिंग बढ़ाई है। मूडीज को विश्वास है कि नरेंद्र मोदी सरकार के सुधारों से देश में कारोबारी माहौल सुधरेगा, उत्पादकता बढ़ेगी, विदेशी और घरेलू निवेश को गति मिलेगी।