Tel: 0542 - 2393981-87 | Mail: ajvaranasi@gmail.com


कांगे्रसने दूर नहीं की गरीबी, बेरोजगारी-माअब गोलबंदीमें जुटा विपक्षयावती

नायडूने राहुल, शरद पवार - शरद यादवसे की मुलाकात, लखनऊमें अखिलेश,मायावतीसे भी मंत्रणा
नयी दिल्ली (आससे)। १७वीं लोकसभा के चुनाव का आखिरी चरण पूरा होने के पहले ही सत्ता के लिये विपक्षी खेमे में हलचल शुरू हो गयी है। आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री व टीडीपी मुखिया चंद्रबाबू नायडू ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और राकांपा प्रमुख शरद पवार, शरद यादव और कई अन्य विपक्षी नेताओं से मुलाकात की है। दिल्ली में मुलाकात के बाद नायडू ने उत्तर प्रदेश में विपक्षी महागठबंधन के दो बड़े नेताओं अखिलेश यादव और मायावती से भी मुलाकात की है। मिली जानकारी के मुताबिक चंद्रबाबू नायडू आगामी २३ मई को चुनाव परिणाम आने के बाद बनने वाली संभावनाओं को टटोलने के लिये विभिन्न दलों के शीर्ष नेताओं से मुलाकात कर रहे हैं। इसी क्रम में उन्होंने आज कांगे्रस अध्यक्ष राहुल गांधी, राकांपा मुखिया
शरद पवार और शरद यादव से मुलाकात की। उल्लेखनीय है कि इससे पहले बीते शुक्रवार को नायडू ने आप नेता व दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल से भी मुलाकात की थी।माना जा रहा है कि चंद्रबाबू नायडू सभी गैर भाजपाई दलों के नेताओं की गोलबंदी करके तीसरे मोर्चे को बनाने के प्रयास में जुटे हैं। उल्लेखनीय है कि कांग्रेस ने शुक्रवार को कहा था कि वह एक प्रगतिशील और धर्मनिरपेक्ष सरकार के गठन को लेकर प्रतिबद्ध है और गठबंधन का नेतृत्व करने के लिये तैयार है। इतना ही नहीं पार्टी के वरिष्ठ नेता व प्रमुख रणनीतिकार गुलाम नबी आजाद ने बीते गुरुवार को यह भी संकेत दिया था कि यदि कांग्रेस सबसे बड़े दल के रूप में उभरती है तब भी उसे किसी क्षेत्रीय नेता का समर्थन करने से कोई परहेज नहीं होगा। सूत्रों के मुताबिक संप्रग अध्यक्षा सोनिया गांधी ने अपने करीबी नेताओं को निर्देश दे रखा है कि वे विपक्षी दलों को साथ लाने के इरादे से २३ मई को चुनाव परिणाम के घोषणा के साथ ही एक बैठक बुलायें। विपक्ष के सामने सबसे बड़ी चुनौती अपना नेता चुनने की है। विपक्षी खेमे के नेतृत्व के लिये ममता बनर्जी, चंद्रबाबू नायडू, मायावती, शरद पवार और राहुल गांधी का नाम प्रमुखता से उभरा है। फिलहाल, इन नामों की सूची को देखते हुये कांग्रेस ने अपने सभी विकल्प खोलकर रखना ही उचित समझा है।