Tel: 0542 - 2393981-87 | Mail: ajvaranasi@gmail.com


नकल विहीन परीक्षाको व्यापक समर्थन-नाईक

काशी विद्यापीठके दीक्षांत समारोहमें ५८ को मिले मेडल
 ९५८२६ विद्यार्थियों, १४५ शोध छात्रों और एक को डीलिट्की उपाधि
वाराणसी (का.प्र.)। प्रदेश के राज्यपाल एवं काशी विद्यापीठ के चांसलर राम नाईक ने कहाकि यह अवसर दीक्षांत का हैं, शिक्षांत का नहीं, क्योंकि शिक्षा एक सतत प्रक्रिया है जिसका कभी अंत नही होता। काशी विद्यापीठ के ४०वें दीक्षांत समारोह को सम्बोधित करते राज्यपाल राम नाईक ने कहाकि आज दीक्षांत समारोह में कुल ८१ प्रतिशत छात्राओं तथा १९ प्रतिशत छात्रों ने स्वर्ण पदक प्राप्त किया, जो महिला सशक्तिकरण का प्रमाणित करता है। हमंह अत्यंत खुशी और गर्व हैं कि प्रदेश में सभी लोगों के सहयोग से उच्च शिक्षा के क्षेत्र में नकल विहीन परीक्षा कराने को लेकर तेजी से समर्थन मिल रहा   है और इस दिशा में हम सफल भी हैं। उन्होंने कहाकि देश को २०२० तक सुपर पावर बनाना है तो हमें पढ़े लिखे बेदाग कर्मियों की सख्त जरुरत है। राज्यपाल ने दीक्षांत समारोह के मुख्य अतिथि रहे उपमुख्यमंत्री डाक्टर दिनेश शर्मा के नहीं आने का कारण बताया। कहाकि अति आवश्यक कार्य के चलते डिप्टी सीएम नहीं आये है लेकिन उन्होंने दीक्षांत समारोह में आये सभी छात्रों को अपनी शुभकामना भेजी है। समारोह में कुल ५८ मेधावियों को मेडल मिलना था लेकिन मौके पर ५४ ही उपस्थित इसके अतिरिक्त दीक्षांत समारोह में ९५८२६ विद्यार्थियों को उपाधि दी गयी। १४५ शोध छात्र एवं एक डीलिट् की भी उपाधि प्रदान की गयी।