Tel: 0542 - 2393981-87 | Mail: ajvaranasi@gmail.com


वाहन चलाने वालोंको अब नहीं दिखाना होगा लाइसेंस

डिजिटल लाइसेंसकी तैयारी
नयी दिल्ली । देशभर के करोड़ो वाहन चालकों के लिए बड़ी राहत की खबर है। सरकार जल्द ही डिजिटल ड्राइविंग लाइसेंस और आरसी के लिए नई पॉलिसी ला सकती है। इस नई पॉलिसी के तहत, अगर कोई वाहन चालक अपनी गाड़ी के पेपर्स, ड्राइविंग लाइसेंस आदि घर पर भूल जाता है तो उसकी गाड़ी जब्त नहीं की जाएगी और न ही, चालान काटा जाएगा। लेकिन इसके लिए वाहन चालक के पास डिजिटल ड्राइविंग लाइसेंस और गाड़ी के पेपर्स होने जरूरी है सरकार की इस नई पॉलिसी से वाहन चालक अपने मोबाइल से ही अपनी गाड़ी के कागजात (पेपर्स) वेरिफाई करा सकते हैं। इसके अलावा परिवहन मंत्रालय ने भारी वाहनों के लिए भी नई पॉलिसी बनाई है। इन नई पॉलिसी के मुताबिक, सभी भारी वाहनों को हर दो साल में एक बार फिटनेस टेस्ट से गुजरना पड़ेगा। अगले दो दिनों में परिवहन मंत्रालय नए मोटर नियम के संशोधन के लिए एडवाइजरी जारी कर सकता है। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक परिवहन मंत्रालय ने इसके लिए सभी ऑथोरिटी से बात कर ली है।परिवहन मंत्रालय के नए प्रस्तावित ड्राफ्ट नियम के अनुसार, कंस्ट्रक्शन के लिए इस्तेमाल होने वाले ट्रकों (बिल्डिंग मेटेरियल ढोने वाले) को कवर करके चलना होगा या फिर बंद कंटेनर के साथ चलना होगा, जैसा यूरोपीय देशों में इस्तेमाल होता है। इसके अलावा लंबी दूरी की यात्रा करने वाले ड्राइवरों के लिए भी पॉलिसी में बदलाव किया जा रहा है। यात्रियों की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए लंबी दूरी वाले वाहनों में स्न्रस्ञ्जड्डद्दह्य डिवाइस इंस्टॉल करना होगा। इसके साथ ही रिफ्लेक्टिव टैप्स और वाहन ट्रैकिंग सिस्टम भी लगाना होगा।वाहनों की फिटनेस के नियमों में भी बदलाव किया जा रहा है। 8 साल से पुराने वाहनों को फिटनेस टेस्ट से गुजरना होगा। नए वाहनों को फिटनेस टेस्ट में छूट मिली है। यह फिटनेस टेस्ट हर दो साल में एक बार कराना जरूरी होगा। इसे पर्यावरण को सुरक्षित रखने में सहायता मिलेगी।