Tel: 0542 - 2393981-87 | Mail: ajvaranasi@gmail.com


इंगलैण्ड को मिलेगी ट्यूनीशियासे चुनौती

रेपिनो (एजेन्सियां)। इंगलैण्ड को चार साल पहले विश्वकप में ग्रुप चरण से बाहर होकर शर्मसार होना पड़ा था लेकिन टीम युवाओं के बूते सोमवार को वोल्गोग्राद एरिना में ट्यूनीशिया के खिलाफ होने वाले शुरुआती मैच में जीत से शुरुआत करना चाहेगी। इसमें कोई शक नहीं कि कोच गेरेथ साउथगेट की टीम ट्यूनीशिया के खिलाफ मैच में पूरे तीन अंक हासिल करने की प्रबल दावेदार है लेकिन उसे विपक्षी टीम से मिलने वाली चुनौती से भी सतर्क रहना होगा। अगर थ्री लॉयंस की टीम इस मैच में हार जाती है, तो यह नतीजा बड़ा हैरानीभरा होगा। इंगलैण्ड की टीम २००२ और २००६ दोनों में क्वार्टर फाइनल तक पहुंची थी लेकिन वह २०१० विश्वकप के अंतिम १६ में बाहर हो गयी थी और फिर पिछले विश्वकप में ग्रुप चरण से आगे नहीं बढ़ सकी थी। हालांकि साउथगेट की टीम पर कोई दबाव नहीं है लेकिन एक और बार ग्रुप चरण से बाहर होना उस टीम के लिए काफी निराशाजनक होगा जिसमें काफी युवा खिलाड़ी मौजूद हैं। इंगलैंड ने टूर्नामेंट शुरू होने से पहले दो मैत्री मैचों में नाइजीरिया और कोस्टारिका को पराजित किया और जून २०१७ में फ्रांस से मिली २-३ की हार के बाद उसने एक भी मैच नहीं गंवाया है। टीम की तैयारियां अच्छी रही हैं जिससे उसके खिलाड़ी आत्मविश्वास से भरे दिख रहे हैं और टीम ट्यूनीशिया के खिलाफ जीत से मजबूत शुरुआत करना चाहेगी। उनके लेफ्ट बैक खिलाड़ी डैनी रोज ने टूर्नामेंट की पूर्व संध्या पर खुलासा किया कि वे तनाव से उबर चुके हैं। हालांकि टूर्नामेंट से पहले रहीम स्टरलिंग की पैर पर बंदूक का टैटू बनाने की लिए काफी आलोचना हुई थी। वहीं २००६ के बाद अपने पहले विश्वकप में खेल रही ट्यूनीशिया को पता है कि उसके सामने इंगलैण्ड और बेल्जियम से इस ग्रुप में कड़ी चुनौती मिलेगी। ट्यूनीशिया कभी भी विश्वकप के ग्रुप चरण से बाहर नहीं रही लेकिन वह २०१० और २०१४ के लिए क्वालीफाई नहीं कर सकी। नबिल मालोल की टीम टूर्नामेंट की तैयारियों के दौरान शानदार फार्म में दिख रही है, उसने मैत्री मैचों में पुर्तगाल और तुर्की से ड्रॉ खेला लेकिन उसे नौ जून को स्पेन से ०-१ से करीबी हार मिली। इस ग्रुप में पनामा के सभी तीनों ग्रुप मैच गंवाने की उम्मीद है लेकिन अगर वह इंगलैण्ड से और फिर बेल्जियम से हार जाती है तो तीसरे मैच से पहले टीम टूर्नामेंट से बाहर होने की कगार पर पहुंच जायेगी। टीम ने विश्वकप के फाइनल्स में केवल एक मैच जीता है।

 उसे अपने अहम खिलाड़ी यूसुफ एकसकनी के गंभीर घुटने की चोट के कारण टूर्नामेंट से बाहर होने का करारा झटका लगा, वहीं विंगर वाहबी खाजरी जांघ में चोट के बाद से नहीं खेले हैं लेकिन ट्यूनीशिया के कप्तान को इंगलैंड के खिलाफ मैच से पहले फिट होने का भरोसा है। लेकिन टीम इस बात को दिमाग में लेकर खेलेगी कि उसके पास गंवाने के लिए कुछ नहीं है जबकि सीखने के लिए बहुत सी चीजें हैं। इंगलैंड की शुरुआती एकादश में एशले यंग को लेफ्ट विंग बैक में डैनी रोज की जगह उतारा जा सकता है जबकि जॉर्डन हेंडरसन के भी एरिक डिएर पर तरजीह दी जा सकती है। हैरी मैगुइरे शुरुआती एकादश में तीन सेंटर बैक में से एक होंगे जबकि जेसे लिंगार्ड, डेले अली और रहीम स्टरलिंग थ्री लॉयंस में कप्तान हैरी केन के पीछे हो सकते हैं। मार्कस रैशफोर्ड के घुटने की समस्या से फिट होने की उम्मीद है।