Tel: 0542 - 2393981-87 | Mail: ajvaranasi@gmail.com


शरीर जब तक देगा साथ खेलते रहेंगे कोहली

खिलाडिय़ोंपर दबाव देख कर तय किया जाता है मापदंड
कोलकाता (एजेन्सियां)। भारतीय टीम के फील्डिंग कोच आर श्रीधर ने शुक्रवार को कहा कि कप्तान विराट कोहली देश के लिए खेलने का मौका तब तक नहीं चूकेंगे जब तक वह फिट हैं। उन्होंने कहा कि कोहली आराम के लिए तभी कहेंगे जब उनके शरीर को जरूरत महसूस होगी। अगले साल के शुरुआत में भारतीय टीम दक्षिण अफ्रीका का दौरा करेगी और कई विशेषज्ञों को लगता है कि कोहली को श्रीलंका के खिलाफ घरेलू शृंखला के दौरान आराम दिया जाना चाहिए लेकिन भारतीय कप्तान ने कहा कि वह जरूरत पडऩे पर ही विश्राम लेंगे। श्रीधर ने कहा टीम का हर खिलाड़ी देश का प्रतिनिधित्व करने को लेकर गर्व महसूस करता है। ज्यादातर खिलाड़ी हर मैच खेलना चाहते हैं। जैसाकि मैं विराट को जानता हूं उनमें यह भावना और अधिक है। जब तक शरीर का साथ है वह मैच से एक सेकंड के लिए भी नहीं हट सकते हैं। सिर्फ तीन टेस्ट मैच खेलने वाले हरफनमौला हार्दिक पंड्या को आराम दिये जाने के बारे में पूछ गये सवाल पर पर श्रीधर ने कहा यह मापदंड खिलाडिय़ों पर काम के दवाब को देखकर तय किया जाता है। खिलाड़ी ने क्रीज पर कितना समय बिताया, गेंदबाजी, बल्लेबाजी यह सबकुछ देखने के बाद टीम प्रबंधन फैसला करता है कि किसे आराम दिया जाय।
पृथ्वी शा चले सचिनकी राह

लगाया प्रथम श्रेणीमें पांचवां शतक
नयी दिल्ली (एजेन्सियां)। फस्र्ट क्लास क्रिकेट में मुंबई के युवा बल्लेबाज पृथ्वी शा का शानदार प्रदर्शन जारी है। उन्होंने अपने सातवें प्रथम श्रेणी मैच में ही पांचवां शतक जड़ दिया है। यह उनकी कुल १३वीं पारी थी। उनके शतक ने मुंबई आंध्र प्रदेश को ६४-३ के स्कोर से १६२-३ के स्कोर तक पहुंचने में मदद की। १८ साल और आठ दिन की उम्र में शॉ के नाम प्रथम श्रेणी में पांच शतक हैं जिनमें से चार उन्होंने रणजी ट्राफी में लगाये हैं। शा ने आंध्र प्रदेश के खिलाफ १७३ गेंदों पर ११४ रन बनाये। अपनी पारी में उन्होंने १४ चौके और एक छक्का लगाया। वह आखिरकार ६१वें ओवर में अय्यप्पा बंडारू की गेंद पर आउट हुए। उनका चौथा शतक ओडिशा के खिलाफ था जब उन्होंने १५३ गेंदों पर १०५ रनों की पारी खेली थी। इस दौरान उन्होंने १८ चौके लगाये थे। शॉ की फार्म और प्रतिभा को देखते हुए उनकी तुलना सचिन तेंदुलकर से की जा रही है। सचिन ने जहां १८ साल आठ दिन की उम्र तक ३६ प्रथम श्रेणी मैचों में २९११ रन बनाये थे वहीं शा ने सात मैचों में ८७३ रन बना लिए हैं। शा ने रणजी ट्राफी फाइनल में शतक लगाकर सभी का ध्यान अपनी ओर आकर्षित किया था। इसके बाद उन्होंने दलीप ट्राफी फाइनल में भी शतक लगाया था। रणजी ट्राफी पर ध्यान केंद्रित करते हुए बीसीसीआई की जूनियर चयन समिति ने शाह को अण्डर-१९ एशिया कप की टीम में शामिल नहीं किया था। शाह को रणजी ट्राफी में मुंबई की टीम का प्रतिनिधित्व करने को कहा गया। हाल ही में मुंबई में बोर्ड प्रेजिडेंट इलेवन की ओर से खेलते हुए शा ने कीवी टीम के खिलाफ  ६६ रन बनाये थे। न्यूजीलैण्ड के तेज गेंदबाज ट्रेंट बोल्ट ने मुंबई में शा को गेंदबाजी की थी। उन्होंने उनकी तारीफ करते हुए कहा था मैंने सुना था कि वह १७ साल का है लेकिन जितना अच्छा वह खेल रहे थे उसे देखकर मुझे यकीन ही नहीं हुआ।
मुझे लगता है कि गेंद शुरुआत में अच्छी स्विंग हो रही थी लेकिन उन्हें इससे ज्यादा परेशानी नहीं हुई।