Tel: 0542 - 2393981-87 | Mail: ajvaranasi@gmail.com


हार्दिक पण्ड्यामें मिल रही कपिलकी झलक-राजपूत

मुंबई (एजेन्सियां)। टीम इंडियाके कोच पदके दावेदार रहे लालचंद राजपूतने हार्दिक पंड्याकी जमकर प्रशंसा की है। राजपूतने कहा कि महान हरफनमौला कपिल देवके संन्यास लेनेके बाद राष्ट्रीय टीमको हार्दिक पंड्याके रूपमें 'आदर्श ऑलराउंडरÓ मिला है। गौरतलब है कि अनिल कुंबलेके कोच पदसे इस्तीफा देनेके बाद लालचंद राजपूत टीम इंडियाके कोच पदकी दावेदारीमें थे। सौरव गांगुली, सचिन तेंदुलकर और वीवीएस लक्ष्मणकी तीन सदस्यीय सलाहकार समितिने उनका इंटरव्यू भी लिया था।  २००७ में महेंद्र सिंह धोनीके नेतृत्वमें टी-२० वल्र्डकप जीतने वाली टीम इंडियाके राजपूत मैनेजर थे। राजपूतने कहा, पंड्या असाधारण क्रिकेटर है। मैंने उनकी प्रतिभाको राष्ट्रीय क्रिकेट अकादमी (एनसीए) के दिनोंसे देखा है। वह मेरे साथ क्षेत्रीय शिविर (जेडसीए) में भी थे। उनमें प्रतिभाकी कोई कमी नहीं। कपिलके बाद वह टीमको मिले आदर्श हरफनमौला खिलाड़ी हैं। ऑस्ट्रेलियाके खिलाफ वनडे सीरीजके पहले मैचमें भारतको जीतनेमें पंड्याने गेंद और बल्ले दोनोंसे अहम योगदान दिया था। उन्होंने कहा, पंड्याकी बल्लेबाजी अच्छी है, वह सभी प्रारूपोंमें खेल सकते हैं। पहले लोगोंको लगता था कि वह सिर्फ टी-२० और वनडेमें ही खेल सकते हैं लेकिन वह टेस्ट मैचोंमें भी अपने दमपर खेलका पलट सकते हैं। उन्होंने चेन्नई वनडे मैचको ऑस्ट्रेलियासे छीन लिया। लालचंद  राजपूतने कहा, पंड्या गेंदको सीमा रेखासे पार भेज सकते हैं. अच्छे बल्लेबाजकी यह पहचान है। उनकी गेंदबाजी भी अच्छी है और वह कमालके क्षेत्ररक्षक भी हैं। उनमें अगला कपिल देव बननेके गुण है। लेकिन फिर भी उन्हें कपिलके स्तरका होनेके लिये खुदको बार-बार साबित करना होगा। वह ऐसे हरफनमौला हैं जिसकी लंबे समयसे टीमको जरूरत थी। राजपूतने क्षेत्रीय शिविरमें पंड्याके साथ अपने अनुभवको साझा करते हुए कहा कि वह गेंदको मारना पसंद करते हैं और इस कड़ीमें आउट भी होते थे लेकिन अब वह परिपक्व हो गये हैं।