Tel: 0542 - 2393981-87 | Mail: ajvaranasi@gmail.com


चयन समितिका बढ़ा एजीएम तक कार्यकाल

नयी दिल्ली (एजेन्सियां)। बीसीसीआई ने एमएसके प्रसाद की अगुवाई वाली तीन सदस्यीय राष्ट्रीय चयनसमिति का कार्यकाल अगली वार्षिक आम बैठक (एजीएम) तक बढ़ाने का फैसला किया है। प्रसाद और उनके साथियों का कार्यकाल अस्थायी तौर पर बढ़ाया गया है क्योंकि एजीएम की तिथि अभी तय नहीं हुई है। बीसीसीआई के एक सीनियर अधिकारी ने गोपनीयता की शर्त पर यह जानकारी दी। अमूमन चयनकर्ताओं के अनुबंध का हर साल नवीनीकरण होता है. इसकी शुरूआत किसी भी वर्ष एक सितंबर को और समापन ३१ अगस्त को होता है।

हालांकि वर्तमान परिदृष्य में जबकि प्रशासकों की समिति (सीओए) ने कमान संभाल रखी है, अभी एजीएम नहीं हुई है क्योंकि उच्चतम न्यायालय में सुनवाई चल रही है। अधिकारी ने कहा जब तक उच्चतम न्यायालय अंतिम आदेश पारित नहीं करता और लोढ़ा समिति की सिफारिशों को एजीएम में स्वीकार नहीं किया जाता कोई भी फैसला नहीं किया जा सकता है। उन्होंने कहा सितंबर से चयनकर्ताओं के पास अनुबंध नहीं है। नियमों के अनुसार चयनसमिति केवल एजीएम में बदली जा सकती है। इसलिए हमें इस वर्तमान समिति को बनाये रखना होगा।

उसैन बोल्टको मिली ज्यादा तवज्जो-क्रिस्टी
नयी दिल्ली (एजेन्सियां)। ब्रिटेन के पूर्व ओलंपिक चैम्पियन (१०० मीटर दौड़) लिनफोर्ड क्रिस्टी के मुताबिक फर्राटा दौड़ में जमैका के धावक उसैन बोल्ट का कोई सानी नहीं है लेकिन उन्हें जरूरत से ज्यादा तव्वजो दी गयी। क्रिस्टी ने १९९२ बाॢसलोना ओलंपिक में १०० मीटर दौड़ में स्वर्ण पदक जीता था। उन्होंने कहा कि उनके दौर में कार्ल लुईस सहित कई धावकों के बीच मुकाबला होता था और कोई भी जीत सकता था जबकि बोल्ट के दौर में ऐसा नहीं था। दिल्ली हाफ मैराथन के लिए यहां पहुंचे क्रिस्टी ने कहा मेरे समय में कई दावेदार थे लेकिन बोल्ट ने अपने समय में पूरी तरह से उनका प्रभुत्व था और आने वाले लंबे समय में ऐसा धावक फिर नहीं मिलने वाला। उन्होंने कहा आपको खेल के लिए एक सितारा चाहिये। यह हमारे खेल के लिए अच्छा है।
अथलेटिक्स के लिये बोल्ट अच्छे थे। हालांकि उन्होंने कहा कि बोल्ट को जरूरत से ज्यादा तव्वजो मिली और अब इस खेल को अगला सितारा मिलने में वर्षों लग सकते हैं। क्रिस्टी १७ साल लंबे करियर में २३ बड़े टूर्नामेंटों के चैम्पियन बने। वह ब्रिटेन के इकलौते धावक है जिन्होंने १०० मीटर दौड़ में ओलंपिक, विश्व चैम्पियनशिप, राष्ट्रमंडल खेल और यूरोपीय चैम्पियनशिप में स्वर्ण पदक जीता है।

पोंटिगकी हो सकती है आईपीएलमें वापसी
नयी दिल्ली (एजेन्सियां)। इंडियन प्रीमियर लीग(आईपीएल) प्रशंसकों के लिए अच्छी खबर है। आस्ट्रेलिया के पूर्व कप्तान रिकी पोंटिंग एक बार फिर आईपीएल में नजर आ सकते हैं। सूत्रों के अनुसार पोंटिंग दिल्ली डेयरडेविल्स टीम के नए कोच बन सकते हैं। रिकी पोंटिंग आईपीएल के शुरुआती सीजन में मुंबई इंडियन और कोलकाता नाइट राइडर की तरफ से खेल चुके हैं। वहीं दो बार मुंबई इंडियंस की टीम में कोच की भूमिका निभा चुके हैं, जिसमें टीम ने २०१५ में खिताब भी जीता था। खबरें यह भी आ रही हैं कि पोंटिंग आईपीएल का पहला खिताब जीतने वाली टीम राजस्थान रॉयल्स में भी कोच की भूमिका निभा सकते हैं। वहीं दूसरी तरफ दिल्ली डेयरडेविल्स के डायरेक्टर पद से इस्तीफा देने वाले पूर्व तेज गेंदबाज टीए शेखर मुंबई इंडियंस वापस आ सकते हैं।
दूसरी तरफ ये भी खबरें आ रही हैं कि वो सनराइजर्स हैदराबाद के साथ भी जा सकते हैं। पोंटिंग को लेकर सवाल पूछे जाने पर डेयरडेविल्स के सीईओ हेमंत दुआ ने कहा हम कई लोगों से बातचीत कर रहे हैं। नियुक्तियों के बारे में औपचारिक घोषणाएं जल्दी ही की जायेंगी।
टी-२० लीगपर नजर रखना जरूरी-वकार
कराची (एजेन्सियां)। पाकिस्तान के पूर्व मुख्य कोच वकार युनूस का मानना है कि क्रिकेट को भ्रष्टाचार मुक्त रखने के लिए सभी क्रिकेट बोर्ड को फ्रेंचाइजी आधारित टी-२० लीगों पर नजर रखनी होगी और खिलाडिय़ों को जागरुक करना होगा। इस्लामाबाद युनाइटेड और पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड को फरवरी में शर्मिंदगी झेलनी पड़ी थी जब राष्ट्रीय टीम के दो बल्लेबाजों शरजील खान और खालिद लतीफ को पीएसएलके दूसरे सत्र में सटोरिये से मिलने और स्पॉट फिक्सिंगका दोषी पाया गया था। इन दोनों खिलाडिय़ों को निलंबित करके वापस भेज दिया गया था। उसके बाद से उन पर पांच साल का प्रतिबंध लगाया गया।

पीएसएल के तीसरे सत्र में इस्लामाबाद युनाइटेड के गेंदबाजी कोच और क्रिकेट निदेशक वकार ने कहा स्पाट फिक्सिंग का खतरा सभी खेलों के लिए कैंसर की तरह है। क्रिकेट बोर्ड को चाहिए कि इसके जड़ से सफाये के उपाय किये जाये। उन्होंने कहा हम अपनी टीम में कडी निगरानी व्यवस्था लागू कर रहे हैं। हमें यकीन है कि इस बार पीएसएल में ऐसा कुछ नहीं होगा।