Latest News TOP STORIES

किसानोंका बढ़ा आक्रोश,सीएम खट्टïरकी गाड़ीपर भी बरसाये डण्डे

अंबाला (एजेंसी)। कृषि बिलों के विरोध में किसानों का आक्रोश बढ़ गया है । केंद्र सरकार के नये कृषि कानूनों के खिलाफ 27 दिन से दिल्ली की सरहदों पर जमे बैठे सैकड़ों किसानों ने अपने आंदोलन को और तेज करने का फैसला किया है। हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर को मंगलवार को किसानों की नाराजगी का सामना करना पड़ा। अंबाला में किसानों ने खट्टर के काफिले पर हमला कर दिया। प्रदर्शनकारियों ने गाडिय़ों पर डंडे बरसाए, सीएम का काले झंडे दिखाए और सरकार के खिलाफ नारेबाजी की। इस दौरान पुलिस के साथ धक्का-मुक्की में कई किसानों की पगडिय़ां गिर गयीं। किसान शांतिपूर्वक काले झंडे दिखा रहे थे, लेकिन पुलिस ने मुख्यमंत्री को दूसरे रास्ते से निकालने की कोशिश की। इससे किसान भड़क गए और उन्होंने गाडिय़ों पर डंडे मारने शुरू कर दिया। मुख्यमंत्री जिस गाड़ी में थे, उस पर भी डंडे मारे तो पुलिस ने रोका।खट्टर अंबाला में नगर निगम चुनाव को लेकर बैठक करने आये थे। उसके बाद उन्हें भाजपा की मेयर पद की प्रत्याशी डॉ. वंदना शर्मा के समर्थन में जनसभा करनी थी। लेकिन, बैठक से निकलते ही किसानों ने उन्हें घेर लिया। किसान संगठनों ने मंगलवार को कहा कि सरकार से जो चि_ी मिली है, उस पर फैसला बुधवार को लिया जाएगा।संयुक्त किसान मोर्चा के नेता कुलवंत संधू ने कहा कि बड़े साहिब जादे और छोटे साहिब जादे के शहीदी दिवस पर 26, 27 दिसंबर को टिकरी और सिंघु बॉर्डर पर शहीदी दिवस बनाया जाएगा. इसके साथ ही 25 से 27 दिसंबर तक हरियाणा के सभी टोल प्लाजा भी फ्री करवाएं जाएंगे. उन्होंने आंदोलन को तेज करते हुए बीजेपी और एनडीए के नेताओ का घेराव करने का ऐलान भी किया। कुलवंत संधू ने कहा कि सरकार ने मुसलमानों के खिलाफ कानून बना कर हिन्दू वोट पक्की कर ली है. अब वे ऐसा ही किसानों के साथ करने की कोशिश कर रहे हैं. संधू ने आरोप लगाया कि ये कानून अन्नदाताओ के खिलाफ है. इंग्लैंड के 36 सांसदों और अमेरिका के 40 सीनेटर्स ने इस मुद्दे को लेकर वहां के भारतीय दूतावासों को पत्र लिखे हैं. लेकिन सरकार अब भी इस मुद्दे पर संजीदा नहीं दिख रही है। कुलवंत संधू ने नाराजगी जताते हुए कहा कि हमारे आंदोलन में खाने पीने को लेकर मजाक उड़ाया जा रहा है।