सम्पादकीय

न्याय व्यवस्था बने मजबूत

डा. भरत झुनझुनवाला      देशकी न्याय व्यवस्थाकी स्थिति अच्छी नहीं थी। हमारी यह दु:परिस्थिति तब थी जब कोरोनाके पहले हमारे न्यायालयोंमें लंबित वादोंकी संख्यामें विशेष वृद्धि नहीं हो रही थी। वर्ष २०१९ में १.१६ लाख वाद प्रतिमाह दायर किये गये थे जबकि १.१० लाख वाद प्रतिमाहमें निर्णय दिये गये। लंबित वादोंकी संख्यामें प्रति वर्ष केवल छह […]

सम्पादकीय

शिव उपासनाका महापर्व

हृदयनारायण दीक्षित सावन वर्षाका माह है। मेघ धरतीतक उतर आते हैं। यह शिव उपासनाका समय है। शिव अनुभूतिके निराले देवता हैं। शिव महादेव हैं। वैदिक देव सोम वनस्पतियोंके राजा हैं। शिव अपने मस्तकपर सोम धारण करते हैं।    सभी देवता सिर्फ देव हैं। शिव महादेव हैं। पौराणिक शिवके गले में सर्पोंकी माला है। वे विषपायी भी […]

सम्पादकीय

कहीं भारी न पड़ जाये लापरवाही

रमेश सर्राफ धमोरा विश्व स्वास्थ्य संघटन एवं दुनियाके बड़े वैज्ञानिक एवं चिकित्सा विशेषज्ञ सभी देशोंको लगातार चेतावनी दे रहे हैं कि वह अपने यहां लगायी गयी पाबंदियोंमें ढील न दे। दुनियाभरमें जल्दी ही कोरोनाकी तीसरी लहर आनेवाली है। कई देशोंमें तो कोरोनाकी तीसरी लहर प्रारंभ भी हो चुकी है। विशेषज्ञोंका कहना है कि तीसरी लहरमें […]

सम्पादकीय

जीवनकी गहराई

श्रीश्री रविशंकर जब हम शब्दोंकी शुद्धता को अनुभव करते है, तो हम जीवन की गहराई को अनुभव करते हैं और जीवन जीना आरंभ कर देते हैं। हम सुबह से रात तक शब्दों को ही जीते हैं। हम इनके पीछे के उद्देश्यों को खोजनेमें और उद्देश्यताको खोजनेमें सारे उद्देश्य भूल जाते हैं। यह इतना गंभीर हो […]

सम्पादकीय

गतिरोध अनुचित

कृषि सुधार कानूनोंके खिलाफ विगत आठ महीनोंसे चल रहे किसान संघटनोंके आन्दोलनका लम्बा चलना उचित प्रतीत नहीं होता है। केन्द्र सरकार और किसान संघटनोंके बीच ११ दौरकी बातचीत हो चुकी है लेकिन अबतक स्वीकार्य समाधान सामने नहीं आ सका है। दिल्लीकी सीमाओंपर किसान संघटनोंका आन्दोलन चल रहा है। तीनों कृषि कानूनोंके खिलाफ विरोध-प्रदर्शन कर रहे […]

सम्पादकीय

तीसरी लहरसे बचनेकी चुनौती

डा. जगत राम         लगभग एक सदी पहले आये स्पैनिश फ्लू वैश्विक महामारीके दौरान चार लहरें आयी थीं। कई देशोंमें मौजूदा नॉवेल कोरोना वायरस-कोव-२ की तीसरी लहर आ चुकी है। बेल्जियमकी महिलाको एक साथ दो प्रतिरूपों (वेरिएंट) से पीडि़त पाया गया है, इससे स्थिति और गंभीर बन गयी है। भारतमें भी एक महिला पायी गयी है, […]

सम्पादकीय

धर्मांतरणके दुष्चक्रमें तेजी

राकेश जैन         देशमें धर्मके नामपर बंटवारा चाहे स्वतन्त्रताप्राप्तिके समय हुआ, परन्तु कहते हैं कि विभाजनका बीज उसी दिन बोया गया जब किसी पहले भारतीयने धर्म परिवर्तन किया। चाहे इस्लामका भारतमें प्रादुर्भाव काफी समय पहले हो चुका था परन्तु जिहादी कासिमके सिन्धपर हमलेके बाद इस्लाम और हमारे बीच लगभग हमलावर एवं संघर्षशील समाजका ही रिश्ता रहा। […]

सम्पादकीय

शैक्षणिक व्यवस्थाके विकासकी आधारशिला है शोध

 डा. शंकर सुवन सिंह शोध उस प्रक्रिया अथवा कार्यका नाम है जिसमें बोधपूर्वक प्रयत्नसे तथ्योंका संकलन कर सूक्ष्मग्राही एवं विवेचक बुद्धिसे उसका अवलोकन, विश्लेषण करके नये तथ्यों या सिद्धांतोंका उद्घाटन किया जाता है। रैडमैन और मोरीने अपनी किताब दि रोमांस आफ रिसर्चमें शोधका अर्थ स्पष्ट करते हुए लिखा है कि नवीन ज्ञानकी प्राप्तिके व्यवस्थित प्रयत्नको […]

सम्पादकीय

आसुरी प्रवृत्ति

श्रीराम शर्मा असुरता इन दिनों अपने चरम उत्कर्षपर हैं। दीपककी लौ जब बुझनेको होती है तो अधिक तीव्र प्रकाश फेंकती और बुझ जाती है। असुरता भी जब मिटनेको होती है तो जाते-जाते कुछ न कुछ करके जानेकी ठान लेती है। इन दिनों भी यही सब हो रहा है। असुर तो अपने नये तेवर और नये […]

सम्पादकीय

सैन्य शक्तिमें वृद्धि

भारत एक ओर जहां तेजीसे आत्मनिर्भरताकी ओर बढ़ रहा है, वहीं दूसरी ओर अपनी सैन्य शक्ति बढ़ानेकी दिशामें निरन्तर उपलब्धियां भी हासिल कर रहा है। इस श्रृंखलामें उसे दो और बड़ी उपलब्धियां हासिल हुई हैं, जो देशका गौरव बढ़ानेवाली है। भारतने बुधवारको जमीनसे हवामें मार करनेकी क्षमतासे लैस स्वदेश निर्मित आकाशका सफल परीक्षण किया, वहीं […]