Latest News TOP STORIES

अमेरिकी संसदमें हिंसा,चार मरे

बाइडनकी जीत पर कांग्रेस की मुहर, ट्रम्पने मानी हार, कहा – 20 को सौंप दूंगा सत्ता
वॉशिंगटन (एजेंसी)। अमेरिका में हिंसा के बीच कांग्रेस ने प्रेसिडेंट इलेक्ट जो बाइडेन की जीत पर मुहर लगा दी है। यूएस कांग्रेस के जॉइंट सेशन में वाइस प्रेसिडेंट इलेक्ट कमला हैरिस की जीत को भी मंजूरी दी। कांग्रेस की मंजूरी के बाद बाइडेन आधिकारिक तौर पर अमेरिका के राष्ट्रपति होंगे, तो कमला हैरिस उपराष्ट्रपति। इस फैसले के बाद राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने कहा- 20 जनवरी को कानून के मुताबिक जो बाइडेन को पॉवर ट्रांसफर कर दिया जायेगा। इससे पहले, 3 नवंबर को आये नतीजों में डेमोक्रेट्स ने बढ़त हासिल की थी। वोटिंग के 64 दिन बाद जब अमेरिकी संसद बाइडेन की जीत पर मुहर लगाने जुटी तो अमेरिकी लोकतंत्र शर्मसार हो गया। ट्रम्प के समर्थक दंगाइयों में तब्दील हो गये। संसद में घुसे। तोडफ़ोड़ और हिंसा की। सीएनएन के मुताबिक, संसद के बाहर और अंदर हिंसा में चार लोग मारे गये।पुलिस ने अब तक 52 लोगों को गिरफ्तार भी किया है। मिलिट्री की स्पेशल यूनिट ने दंगाइयों को खदेड़ा। कई घंटे बाद संसद की कार्यवाही फिर शुरू हुई। हाउस ऑफ रिप्रेजेंटेट्व्सि (एचओआर) की स्पीकर नैंसी पेलोसी ने कहा- हम बिना डरे अपना काम जारी रखेंगे। अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा, जॉर्ज डब्ल्यू बुश समेत भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी इस घटना की निंदा की है। पीएम मोदी ने अपने बयान में कहा है कि वो अमेरिका में हुई हिंसक झड़प की खबर से काफी दुखी हैं। सत्ता का हस्तांतरण बेहद शांत और खुशनुमा माहौल में पूरा किया जाना चाहिए। लोकतंत्र में इस तरह की घटनाओं की कोई जगह नहीं है। ओबामा ने अपने बयान में कहा कि आने वाला समय इस दिन को हमेशा याद रखेगा कि कैसे मौजूदा राष्ट्रपति ने झूठ बोलकर चुनाव परिणामों को गलत साबित करने की कोशिश की और गैरकानूनी गतिविधियों को बढ़ावा दिया। उन्होंने अपने बयान में इस घटना को अमेरिका के लिए शर्मसार करने वाली बताया है। दरअसल, अमेरिका में 3 नवंबर को राष्ट्रपति चुनाव के बाद जिस बात का डर था, वही हुआ। हिंसा की आशंका थी और ये हुई भी। 3 नवंबर को ही यह तय हो गया था कि जो बाइडेन दुनिया के सबसे ताकतवर देश के अगले राष्ट्रपति होंगे। जिद्दी डोनाल्ड ट्रम्प फिर भी हार मानने को तैयार नहीं थे। चुनावी धांधली के आरोप लगाकर जनमत को नकारते रहे। हिंसा की धमकियां भी दीं।