राष्ट्रीय

आम जनता के लिए 5 जनवरी से खुलेगा राष्ट्रपति भवन संग्रहालय

नयी दिल्ली। राष्ट्रपति भवन का संग्रहालय 5 जनवरी से एक बार फिर से जनता के लिए खुल जाएगा। देश में कोविड-19 संकट के मद्देनजर गत वर्ष 13 मार्च से इसे बंद कर दिया गया था।राष्ट्रपति भवन ने शुक्रवार को एक विज्ञप्ति जारी कर बताया कि संग्राहलय सप्ताह में प्रत्येक सोमवार और सार्वजनिक अवकाश के दिनों को छोड़कर सभी दिन खुला रहेगा। पर जाकर अपना स्लॉट ऑनलाइन बुक किया जा सकता है। इसके लिए पहले की तरह प्रति आगंतुक 50 रुपये का पंजीकरण शुल्क देना होगा। पूर्व में मिलने वाली स्पॉट बुकिंग की सुविधा फिलहाल अस्थायी रूप से निलंबित रहेगी। कोरोना के मद्देनजर सामाजिक दूरी बनाये रखने के लिए सुबह 9.30-11 बजे, 11.30 बजे-1 बजे, दोपहर 1.30- 3 बजे और 3.30-5 बजे के बीच चार स्लॉट तय किए गए हैं।
प्रत्येक स्लॉट में अधिकतम 25 लोगों को ही प्रवेश दिया जाएगा। संग्राहयल में आगुंतकों को मास्क पहनने, सामाजिक दूरी बनाए रखने, मोबाइल में आरोग्य सेतु ऐप जैसे कोविड-19 प्रोटोकॉल का पालन करना होगा। कोविड-19 के प्रति संवेदनशील लोगों को दौरे के लिए हतोत्साहित किया जाता है। राष्ट्रपति भवन संग्रहालय भारतीय स्वतंत्रता, लोकतंत्र और एकता का प्रतीक है। संग्रहालय का औपचारिक उद्घाटन 25 जुलाई, 2014 को किया गया था। इसमें विभिन्न राष्ट्रपतियों को मिले उपहार, उनके व्यक्तिगत सामान, राष्ट्रपति भवन के निर्माण से सम्बंधित स्केच और प्लान, पुरानी राजसी पेंटिग्स, फर्नीचर और भी बहुत कुछ हैं। इन उपहार शिल्पकृतियों के अतिरिक्त, संग्रहालय के संग्रह में अस्त्र-शस्त्र, फर्नीचर, प्रतिमाएं, वस्त्र, छायाचित्र, पुरालेखीय सामग्री आदि वस्तुएं शामिल हैं। संग्रहालय को तीन गलियारों में विभाजित किया गया है, बायां गलियारा, लम्बा कक्ष तथा दायां गलियारा। उपहार और चित्र बाएं और दाएं गलियारों में दर्शाए गए हैं जबकि लम्बा गलियारा आगे जाकर तीन हिस्सों, युद्ध दृश्य वीथिका, फर्नीचर वीथिका तथा राष्ट्रपति अंगरक्षक वीथिका में बंट जाता है। गलियारों के अतिरिक्त, प्रदर्शन वस्तुओं के लिए एक कोच हाऊस तथा विशेष कक्ष है जो राष्ट्रपति भवन संग्रहालय के चरण-ढ्ढ के हिस्से हैं।