प्रदेश वाराणसी

जौनपुर:-अधेडऩे ट्रेनसे कटकर दी जान

शवको कब्जेमें लेकर जांचमें जुटी पुलिस
खेतासराय। स्थानीय थाना क्षेत्र के गोरारी आर्यनगर निवासी 55 वर्षीय आशा पांडे ने बुधवार को पारिवारिक कलह से क्षुब्ध होकर ट्रेन के सामने कूदकर अपनी इहलीला समाप्त कर ली। इस घटना से लोग सिहर उठे। सूचना पर पहुंची पुलिस ने जांच पड़ताल शुरू कर दी है। उक्त गांव निवासी 55 वर्षीय आशा पांडेय पुत्र स्वर्गीय रामदुलार पांडे आर्थिक रूप से परेशान रहता था।
परिवार में जीविका का कोई ठोस साधन नहीं था ऐसे में इधर काफी दिनों से वह तनाव में चल रहा था ऐसा ग्रामीणों का कहना है। इसी वजह से उसके पुत्र व परिवार के लोग आए दिन विवाद करते रहते थे। बुधवार की सुबह परिजनों की नाराजगी से ऊब कर वह वाराणसी अयोध्या रेल प्रखंड पर खेतासराय शाहगंज के बीच गोरारी गांव के दलित बस्ती के पास ट्रेन से कटने के लिए दौड़ पड़ा तो वहां शौच के लिए गये दलित बस्ती के लोगों ने उसे समझा-बुझाकर जबरिया पकड़ लिया और घर पहुचा दिया लेकिन जब वह घर पहुंचा तो परिजन फिर उससे विवाद करने लगे। जानकारों का कहना है कि परिजन उसे ताना देने लगे। आखिरकार वह एक बार फिर घर वालों की प्रताडऩा से ऊब कर दुबारा उक्त रेलवे लाइन के पास आ छुपकर बैठ गया। इस दौरान अयोध्या की ओर से वाराणसी को जा रही एक ट्रेन के सामने वह कूदकर जान दे दिया। मृतक के शरीर के कई टुकड़े हो गए। हादसे के बाद सभी स्तब्ध रह गए। लोगों ने मामले की जानकारी खेतासराय पुलिस और आरपीएफ शाहगंज के इंस्पेक्टर संदीप यादव को दिया। इस संबंध में आरपीएफ शाहगंज के इंस्पेक्टर श्री यादव ने बताया कि पुलिस मामले की जांच पड़ताल कर रही है। पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है।
—————
रोडवेज कर्मीकी पिटायीसे क्षुब्ध रोडवेज कर्मियोंने किया चक्काजाम
जौनपुर (का.सं)। साथी कर्मचारी की पिटाई से आक्रोशित रोडवेज कर्मियों ने मंगलवार को रोडवेज परिसर के सामने सड़क पर डेढ़ घंटे तक चक्काजाम किया। वे दोषियों के विरुद्घ कार्रवाई करने की मांग कर रहे थे। डेढ़ घंटे बाद पहुंचे एसओ लाइन बाजार ने चार अज्ञात लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की जिसके बाद कर्मचारी शांत हो हुए। इस दौरान यात्रियों को दिक्कतों का सामना करना पड़ा। रोडवेज परिसर के सामने मंगलवार को प्राइवेट बस चालक सवारी बैठा रहा था। जिसका विरोध करते हुए रोडवेज कर्मचारी ने सवारी बैठाने से मना किया। साथ ही प्राइवेट बस को भगा दिए। इसके कुछ ही देर में प्राइवेट बस चालक कई लोगों के साथ रोडवेज परिसर में पहुंच कर कर्मचारियों पर ईंट पत्थर फेंकने लगे। इस दौरान परिचालक अजीत कुमार चौबे घायल हो गए, जिससे आक्रोशित होकर रोडवेज कर्मचारियों ने अपराह्न डेढ़ बजे रोडवेज परिसर के समाने सड़क पर बसों को खड़ा कर चक्काजाम कर दिया। रोडवेज कर्मी एफआईआर दर्ज कर दोषियों के विरुद्घ कार्रवाई करने की मांग करने लगे। उधर इसकी जानकारी होते ही एसओ लाइन बाजार भी मौके पर पहुंच गए। उन्होंने घायल परिचालक की तहरीर पर चार अज्ञात लोगों के विरुद्घ केस दर्ज किया। जिसके बाद सहायक क्षेत्रीय प्रबंधक के समझाने पर रोडवेज कर्मचारी शांत हुए और रोडवेज बसों का संचालन शुरू हुआ।