प्रदेश

मीरजापुर:-५० लाखसे अधिकके कार्योंका करायें जांच

मण्डलायुक्तने की विकास कार्योंके प्रगतिकी समीक्षा
मीरजापुर। आयुक्त विन्ध्याचल मण्डल, प्रीति शुक्ला एवं आईजी पीयूष श्रीवास्तव ने बुधवार को आयुक्त कार्यालय के सभागार में मण्डल के तीनों जनपदों यथा-मीरजापुर, सोनभद्र एवं भदोही जिलों के जिलाधिकारी व पुलिस अधीक्षक सहित मण्डलीय अधिकारियों के साथ बैठक कर शासन की 37 बिन्दु विकास प्राथमिकता वाले कार्यक्रमों से सम्बन्धित कराये जा रहे कार्यो की प्रगति, कर एवं करेत्तर, मुख्य देय व राजस्व वसूली तथा कानून व्यवस्थाओं से सम्बंधित प्रगति की विस्तृत समीक्षा की गयीं। बैठक मण्डलायुक्त द्वारा आत्म निर्भर भारत अभियान के तहत ग्राम पंचायतों में बनाये जा रहे। सामुदायिक शौलचालयों एवं पंचायत भवनों की समीक्षा के दौरान उप निदेशक पंचायती राज को निर्देशित किया कि निर्माणाधीन सभी सामुदायिक शौचालयों एवं पंचायत भवनों के कार्यो में तेजी लाते कार्य को पूर्ण कराया जाए। इसी प्रकार कायाकल्प योजना के सभी विद्यालयों को आच्छादित करने का निर्देश दिया गया। आयुक्त ने कहा कि प्रधानमंत्री आवास योजना शहरी एवं ग्रामीण की समीक्षा के दौरान कहा कि प्राप्त धनराशि के सापेक्ष लाभार्थियों को द्धितीय व तृतीय किश्त दिया जाये तथा निर्माणधीन आवासों को पूर्ण करायें। उन्होंने विद्युत विभागी की समीक्षा के दौरान सभी सरकारी विभागीय अधिकारियों को निर्देशित किया विभाग में लम्बित बिजली बकाया बिलों को तत्काल जमा करान सुनिश्चित करायें यदि विभाग के धनराधि न हो तो अपने विभाग से पत्राचार करारक धनराशि की मांग अवश्य कर लें। इसी प्रकार राज्य मार्गो के अनुरक्ष में जनपद सोनभद्र की प्रगति बतायी गयीं निराश्रित गांवंश आश्रय स्थलोंां की समीक्षा के दौरान आयुक्त ने कहा कि आश्रयों में रह रहे सभी पशुओं का इयर टैगिंग शत्प्रतिशत करायें। आयुक्त द्वारा 50 लाख से उपर के निर्माण कार्यो की समीक्षा के दोैरान सभी जिलाधिकारी को निर्देशित किया कि निर्माण कार्यो की गुणवत्ता की जांच के लिये स्थलीय निरीक्षण करें तथा टीम गठित कर गुणवत्ता की जॉच करायी जाय तथा जॉच टीम सत्यापन के बाद रिपोर्ट सम्बंधित जिलाधिकारी व मण्डलायुक्त के कार्यालय में समय से उपलब्ध करायें। आयुक्त द्वारा मनरेगा, अमृत योजना, पेयजल योजना, सेतु निगम, पेंशन, छात्रवृत्ति, मुख्यमंत्री आरोग्य स्वास्थ्य मेला की भी समीक्षा की गयी। मुख्यमंत्री आरोग्य मेला के लिये कहा कि गोल्डेन कार्ड आरोग्य स्वास्थ्य के दौरान भी बनाया जाये। समीक्षा के दौरान शादी अनुदान, राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अभियान, रिक्त दुकानों का आवंटन, वृक्षारोपण की तैयारी, श्रम मानधन योजना, सहित नहरों में टेल तक पानी पहुॅचाला, प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि, फसल बीमा योजना, चिकित्सकों की उपलब्धत, आयुष्मान भारत, राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम, दवाओं की उपलब्धता, हैण्डपम्पों का रीबोर, अपशिष्ट प्रबन्धन, स्वच्छ भारत मिशन, कन्या सुंगला योजना, सहित सभी बिन्दुओं पर समीक्षा की गयी तथा प्रगति लाने का निर्देश दिया गया।