राष्ट्रीय

वायुसेनाको मिलेंगे ८३ तेजस विमान

४८ हजार करोड़ की डील को हरी झंड़ी
नयी दिल्ली(एजेंसी)। लड़ाकू विमानों की कमी से जूझ रही वायु सेना को जल्द ही देश में बने 83 तेजस लड़ाकू विमान लेंगे जिस पर करीब 48 हजार करोड़ रूपये की लागत आयेगी। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की अध्यक्षता में बुधवार को हुई केन्द्रीय मंत्रिमंडल की सुरक्षा मामलों की समिति की बैठक में इस खरीद को मंजूरी दी गयी। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने खुद ट्विट कर इसकी जानकारी दी। उन्होंने कहा कि सुरक्षा मामलों की समिति ने वायु सेना के लिए 83 हल्के लड़ाकू विमान तेजस की खरीद को मंजूरी दे दी है। अब तक के सबसे बड़े घरेलू सैन्य सौदे पर 48 हजार करोड़ रूपये की लागत आने की संभावना है। ये विमान रक्षा क्षेत्र के सरकारी उपक्रम एचएएल से खरीदे जायेंगे। उन्होंने कहा कि यह सौदा रक्षा विनिर्माण के क्षेत्र में देश के लिए आत्मनिर्भरता की दिशा में ष्गेम चेंजरष् साबित होगा। तेजस स्वदेशी चौथी पीढ़ी का टेललेस कंपाउंड डेल्टा विंग विमान है। यह फ्लाई बाय वायर फ्लाइट कंट्रोल सिस्टमए इंटीग्रेटेड डिजिटल एवियोनिक्सए मल्टीमॉड रडार से लैस लड़ाकू विमान है और इसकी संरचना कंपोजिट मैटेरियल से बनी है। तेजस चौथी पीढ़ी के सुपरसोनिक लड़ाकू विमानों के समूह में सबसे हल्का और सबसे छोटा है। बता दें कि हल्के लड़ाकू विमान तेजस को भारतीय वायु सेना द्वारा पश्चिमी सीमा पर पाकिस्तान सीमा के करीब तैनात किया गया है ।