Latest

हाथरस काण्ड : एसपी सहित कई निलंबित

हाथरस काण्ड : एसपी सहित कई निलंबित

  • थानेके सभी पुलिसकर्मियोंका होगा नारको टेेस्ट
  • माताओं, बहनोंको क्षति पहुंचाने वालोंका नाश सुनिश्चित-योगी
लखनऊ (आससे.)। हाथरस कांड में योगी सरकार की ओर से बड़ी काररवाई की गई है। हाथरस के  एसपी, डीएसपी और इंस्पेक्टर पर गाज गिरी है। तीनों को सस्पेंड कर दिया गया है। वहीं, थाने के सभी पुलिसकर्मियों का नारको पॉलीग्राफ टेस्ट कराया जाएगा। इस बीच विनोद जायसवाल हाथरसके नये एसपी होंगे। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्राथमिक जांच रिपोर्ट के आधार पर मौजूदा एसपी, डीएसपी, इंस्पेक्टर और कुछ अन्य के खिलाफ सस्पेंशन की कार्रवाई करने के निर्देश दिए हैं। थाने के पुलिसकर्मियों, वादी, प्रतिवादी सभी का होगा पॉलीग्राफी टेस्ट कराया जाएगा।  हाथरस कांड को लेकर विपक्ष के निशाने पर रहे मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने चेतावनी देते हुए कहा है कि माताओं-बहनों को क्षति पहुंचाने वालों का समूल नाश सुनिश्चित है। बता दें कि प्रदेश में इतनी बड़ी घटना हो गई लेकिन इस मामले में अभी तक मुख्यमंत्री योगी का एक भी बयान नहीं  देखने को मिला। जिसकी वजह से पूरा विपक्ष उनके ऊपर हमलावर है। हालांकि अब उन्होंने ट्वीटर के माध्यम से अपना बयान जारी किया है। शुक्रवार को सीएम ने ट्वीट कर कहा, उत्तर प्रदेश में माताओं-बहनों के सम्मान-स्वाभिमान को क्षति पहुंचाने का विचार मात्र रखने वालों का समूल नाश सुनिश्चित है। इन्हें ऐसा दंड मिलेगा जो भविष्य में उदाहरण प्रस्तुत करेगा। आपकी, प्रत्येक माता-बहन की सुरक्षा व विकास हेतु संकल्पबद्ध है। यह हमारा संकल्प है-वचन है। गौरतलब है कि हाथरस जिले के चंदपा थाने के गांव में 14 सितंबर को दलित लड़की के साथ गैंगरेप की घटना को अंजाम दिया गया। इसके साथ ही उस पर जानलेवा हमला किया गया। इसके बाद पीडि़ता को अलीगढ़ में इलाज के लिए भेजा गया और वहां हालात बिगडऩे पर उसे बीते सोमवार को दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में भेजा गया। लेकिन अफसोस, यहां भी उसे बचाया नहीं जा सका और मंगलवार सुबह उस लड़की ने दम तोड़ दिया। पीडि़ता की मौत के बाद यूपी पुलिस का शर्मनाक चेहरा देखने को मिला। पुलिस ने परिजनों को शव देने की बजाए उन्हें रोक दिया। परिजन रोते चिल्लाते रहे बावजूद इसके पुलिस ने रात 2.40 मिनट पर उनका संस्कार कर दिया। पुलिस की इस हरकत से नाराज परिजनों और लोगों में पुलिस और सरकार के खिलाफ आक्रोश है। इसके बाद पूरे देश में विरोध प्रदर्शन शुरू हो गया है।