पटना

बिहार पहुंची वैक्सीन की दूसरी खेप

एनएमसीएच को बनाया गया राज्य वैक्सीन स्टोर सेंटर

पटना (आससे)। बिहार के राज्य वैक्सीन स्टोर को बुधवार की शाम फिर 20 हजार डोज मिली है। मंगलवार को 10 डोज वाली 54,900 वायल्स कोविशिल्ड वैक्सीन मिली थी। वैक्सीनेशन के पहने चरण की तैयारी लगभग पूरी हो चुकी है। अब वैक्सीन को सब सेंटरों पर भेजने का काम किया जा रहा है। जिलों में वैक्सीनेशन के लिए कोविशील्ड की वैक्सीन भेजने की तैयारी की जा रही है। पटना में बनाए गए राज्य वैक्सीन स्टोर से इसे अलग-अलग सेंटरों में भेजने की तैयारी चल रही है। हालांकि इसे काफी गोपनीय रखा जा रहा है। किसी बाहरी व्यक्ति को भी इससे संबंधित कोई भी जानकारी नहीं दी जा रही है। गोपनीय तरीके से विभाग के लोग रूट प्लान और वैक्सीन भेजने की पूरी प्रक्रिया पर काम कर रहे हैं।

पटना में स्थित एनएमसीएच को राज्य वैक्सीन स्टोर सेंटर बनाया गया है। इसके अलावा 9 सेंटर है जहां वैक्सीन भेजा जा रहा है। स्वास्थ्य विभाग का कहना है कि बुधवार की रात से लेकर गुरुवार तक वैक्सीन की डोज भेज दी जाएगी। पटना स्थित राज्य वैक्सीन भंडार के अलावा 9 और क्षेत्रीय वैक्सीन भंडार जैसे सारण, मुजफ्फरपुर, पूर्वी चपारण, दरभंगा, सहरसा, भागलपुर, पूर्णियां, नालंदा और औरंगाबाद में वैक्सीन का भंडारण युद्ध स्तर पर कराने का काम किया जा रहा है।

प्रथम चरण में वैक्सीनेशन के लिए पहले से रजिस्टर्ड हेल्थ वर्करों के संबंधित मोबाइल नंबर पर एसएमएस के माध्यम से वैक्सीनेशन और उसके निर्धारित समय के बारे में स्वास्थ्य विभाग द्वारा सूचना जाएगी। पंजीकरण के लिए लाभार्थी को फोटो युक्त पहचान पत्र देना होगा। पहचान पत्र में बैंक व पोस्ट ऑफिस के पासबुक सहित केंद्र, राज्य सरकार या पब्लिक लिमिटेड कंपनियों दवारा जारी सेवा आईडी कार्ड भी शामिल किए गए हैं। इसके अलावा विधायकों या एमएलसी को जारी आधिकारिक प्रमाणपत्र को भी सूची में शामिल किया गया है।

आधार कार्ड, ड्राइविंग लाइसेंस, वोटर आइ डी , पैन कार्ड, पासपोर्ट , जॉब कार्ड, पेशन दस्तावेज, मनरेगा कार्ड, स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा जारी स्वास्थ्य बीमा स्मार्ट कार्ड आवश्यक है। वैक्सीनेशन के लाभार्थी को पहले पोर्टल पर रजिस्ट्रेशन कराना आवश्यक है। पंजीकरण कराने के लिए फोटो आईडी का उपयोग कर कोचिन सिस्टम में पंजीकरण कराएं। लाभार्थी पंजीकृत मोबाइल नंबर पर प्राप्त एसएमएस की पुष्टि कर निर्देशों का पालन करेंगे।

वैक्सीनेशन सेंटर पर टीकाकरण अधिकारी-1 लाभार्थी का फोटो आईडी और पंजीकरण मैसेज की जांच करेंगे। टीकाकरण अधिकारी -2 कोविन सिस्टम से दस्तावेजों को प्रमाणित करेंगे। इसके बाद लाभार्थियों को टीका लगाया जायेगा। इसके बाद टीकाकरण अधिकारी 4 और 5 सुनिश्चित करेंगे कि लाभार्थी टीकाकरण के बाद 30 मिनट तक रुके, साथ ही वह गैर पंजीकृत लाभार्थियों का मार्गदर्शन भी करेंगे।

चयनित लाभार्थी को सत्र स्थल पर उचित फोटो आइडी अपने साथ लेकर जाना होगा। टीका लगने के बाद निर्धारित क्षेत्र में 30 मिनट तक रुकना होगा। दूसरा टीका लगवाने के लिए एसएमएस के अनुसार दी गई तारीख के अनुसार आना होगा। टीकाकरण के बाद लाभार्थी को किसी प्रकार की होने वाली परेशानी पर सेंटर पर ही बताना होगा। यहां रखे गए एनाफलीसिस किट एवं AEAFI किट से उपचार होगा । इसके लिए संबंधित टीकाकर्मी व चिकित्सकों को आवश्यक प्रशिक्षण भी दिया है।

पटना के जिला वैक्सीन स्टोर सेंटर पर वैक्सीन की डोज पहुंच गई है। यहां सुबह से ही मशीनों की तैयारी चल रही थी। बुधवार की शाम वैक्सीन को यहां लाया गया है। इसके पूर्व मशीनों के कोल्ड चेन से लेकर अन्य स्थिति की जांच कर ली गई थी। सिविल सर्जन के मुताबिक पटना को 5680 वायल वैक्सीन मिली है। इसे अब वैक्सीनेशन सेंटर भेजने की तैयारी है।